विश्व में प्रचलित 26 धर्मों की सूची


ईसाई धर्म 2

ईसाई धर्म (मसीही या क्रिस्चन) एक इब्राहीमी धर्म है जो प्राचीन यहूदी परंपरा से निकला है। अन्य इब्राहीमी धर्मों के सामान यह भी एक एकेश्वरवादी धर्म है। ईसाई परंपरा के अनुसार इसकी शुरूआत प्रथम सदी ई. में फलिस्तीन में हुई, जिसके अनुया... अधिक पढ़ें

Atheists

नास्तिकता अथवा नास्तिकवाद या अनीश्वरवाद वह सिद्धांत है जो जगत् की सृष्टि करने वाले, इसका संचालन और नियंत्रण करनेवाले किसी भी ईश्वर के अस्तित्व को सर्वमान्य प्रमाण के न होने के आधार पर स्वीकार नहीं करता। (नास्ति = न + अस्ति = नहीं है, अर... अधिक पढ़ें

Hinduism

हिन्दू धर्म (संस्कृत: हिन्दू धर्म) एक धर्म (या, जीवन पद्धति) है जिसके अनुयायी अधिकांशतः भारत, नेपाल और मॉरिशस में बहुमत में हैं। इसके अलावा सूरीनाम, फिजी इत्यादि। इसे विश्व का प्राचीनतम धर्म माना जाता है। इसे 'वैदिक सनातन वर्णाश्रम... अधिक पढ़ें

ताओ धर्म 3

ताओ धर्म चीन का एक मूल दर्शन है। यह 4थी शताब्दी ईसा पूर्व में शुरू हुआ तथा इसका स्रोत दार्शनिक लाओ-त्सी द्वारा रचित ग्रन्थ ताओ-ते-चिंग और ज़ुआंग-ज़ी हैं। असल में पहले ताओ एक धर्म नहीं बल्कि एक दर्शन और जीवनशैली ही था तथा बाद में बौद्ध धर्म के चीन पहुंचने के बाद ताओ ने बौद्धों की कई धारणाएं सम्मिलित कीं और वज्रयान सम्प्रदाय के रूप में आगे बढ़ा।

Buddhism

बौद्ध धर्म भारत की सनातन से निकला ज्ञान धर्म और दर्शन है। ईसा पूर्व छठवीं शताब्दी में गौतम बुद्ध द्वारा बौद्ध धर्म का प्रवर्तन किया गया। गौतम बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में लुम्बिनी (वर्तमान नेपाल में) में में हुआ, उन्हें बोध गया ... अधिक पढ़ें

6

इस्लाम

Like Dislike Button
6 Votes
Islam

इस्लाम (अरबी: الإسلام ‎ ; अल-इस्लाम ) एक इब्राहीमी पन्थ है, जो प्रेषित परम्परा से निकला एकेश्वरवादी पन्थ है। परम्परानुसार इसकी अन्तिम प्रेषित की शुरुआत 7वीं सदी के अरबी प्रायद्वीप में हुई है। इस्लामी परम्परा के अनुसार अल्लाह के अन... अधिक पढ़ें

Jainism

जैन धर्म श्रमण परम्परा से निकला है तथा इसके प्रवर्तक हैं 24 तीर्थंकर, जिनमें प्रथम तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव (आदिनाथ) तथा अन्तिम तीर्थंकर महावीर स्वामी हैं। जैन धर्म की अत्यन्त प्राचीनता सिद्ध करने वाले अनेक उल्लेख साहित्य और विशेषकर पौरा... अधिक पढ़ें

8

यहूदी

Like Dislike Button
4 Votes
यहूदी 5

यहूदी जाति 'यहूदी' का मौलिक अर्थ है- येरूशलेम के आसपास के 'यूदा' नामक प्रदेशों का निवासी। यह प्रदेश याकूब के पुत्र यूदा के वंश को मिला था। बाइबिल में 'यहूदी' के निम्नलिखित अर्थ मिलते हैं- याकूब का पुत्र यहूदा, उनका वंश, उनकर प्रदेश, कई अन्य... अधिक पढ़ें

Judaism

यहूदी धर्म या यूदावाद (Judaism) विश्व के प्राचीनतम धर्मों में से है, तथा दुनिया का प्रथम एकेश्वरवादी धर्म माना जाता है। इस्राइल और हिब्रू भाषियों का राजधर्म है। इस धर्म में ईश्वर और उसके नबी यानि पैग़म्बर की मान्यता प्रधान है। इनके ... अधिक पढ़ें

Sikhism

सिख धर्म (खालसा या सिखमत ;पंजाबी: ਸਿੱਖੀ) 15वीं सदी में जिसकी शुरुआत गुरु नानक देव ने की थी। सिखों के धार्मिक ग्रन्थ श्री आदि ग्रंथ या गुरु ग्रंथ साहिब तथा दसम ग्रन्थ हैं। सिख धर्म में इनके धार्मिक स्थल को गुरुद्वारा कहते हैं। आमतौर ... अधिक पढ़ें

Caodaism

काओ दाई; Cao Dai: बीसवीं शताब्दी का एक नए धर्म है. इसकी स्थापना 1926 ईस्वी में वियतनाम में हुई थी। काओ दाई मतलब है "उच्च" या ऊंचाइयों में काओ दाई धर्म के अनुयायी मानते हैं कि उनके धर्म और इसके शिक्षण तथा प्रतीकवाद भगवान द्वारा प्रदर्श... अधिक पढ़ें

Confucianism

कनफ़ूशीवाद या कुन्फ़्यूशियसी धर्म ईसा पूर्व 5वीं शताब्दी में शुरू हुआ चीन का एक प्राचीन दर्शन और विचारधारा है। इसके प्रवर्तक थे चीनी दार्शनिक कुन्फ़्यूशियस, जिनका जन्म 551 ई.पू. माना जाता है। ये धार्मिक प्रणाली कभी चीनी साम्राज... अधिक पढ़ें

13

ओझा

Like Dislike Button
3 Votes
shamanism

ओझा परिवार में संस्कृत साहित्य , वेद-वेदाङ्ग , ज्योतिष , कर्मकाण्ड व तन्त्र साधना की पठन-पाठन की परम्परा शुरु से रही है। पुष्करणा समाज ही नहीं अपितु हिन्दू समाज के प्रत्येक वर्ग को इन्होंने विद्यादान दिया है इनकी यह योज्ञता को देखकर ही पुष्करणा समाज की गणमान्य जातियों ने इन्हें गुरु भाव से सम्मानित किया है।

Shinto

शिन्तो धर्म विश्व के सबसे प्राचीन धर्मों में से एक है। यह जापान का मूल धर्म है, तथा इसमें कई देवी-देवता हैं, जिनको कामी कहा जाता है। हर कामी किसी न किसी प्राकृतिक शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। बौद्ध धर्म के साथ इसका काफ़ी मेल मिलाप हुआ है और इसमें बौद्ध धर्म के कई सिद्धान्त जुड़कर झेन सम्प्रदाय का प्रारंभ हुआ। ऐतिहासिक रूप से इसे 6वीं सदी में मान्यता मिली।

15

Zoroastrianism

Like Dislike Button
3 Votes
Zoroastrianism

पारसी पंथ अथवा जोरोएस्ट्रिनिइजम फारस का राजपंथ हुआ करता था। यह ज़न्द अवेस्ता नाम के ग्रन्थ पर आधारित है। इसके संस्थापक ज़रथुष्ट्र हैं, इसलिये इसे ज़रथुष्ट्री पंथ भी कहते हैं। जोरोएस्ट्रिनिइजम दुनिया के सबसे पुराने एकेश्वरवा... अधिक पढ़ें

Agnostics

अज्ञेयवाद (एग्नॉस्टिसिज्म / English: Agnosticism) ज्ञान मीमांसा का विषय है, यद्यपि उसका कई पद्धतियों में तत्व दर्शन से भी संबंध जोड़ दिया गया है। इस सिद्धांत की मान्यता है कि जहाँ विश्व की कुछ वस्तुओं का निश्चयात्मक ज्ञान संभव है, वहाँ कुछ ऐसे तत्व या पदार्थ भी हैं जो अज्ञेय हैं, अर्थात् जिनका निश्चयात्मक ज्ञान संभव नहीं है।

Yazdânism

यज़्दानवाद, या एन्जिल्स का पंथ, कुर्दों का एक प्रस्तावित पूर्व-इस्लामी मिथ्राइक धर्म है। यह शब्द कुर्द और बेल्जियम के विद्वान मेहरदाद इज़ादी द्वारा पेश किया गया था और प्रस्तावित किया गया था कि वे कुर्दों के "मूल" धर्म को क्या मानते हैं। इज़ादी के अनुसार, यज़्दानवाद अब यज़ीदवाद, यार्सनवाद, और कुर्द अलेविज़्म/चिनारवाद के संप्रदायों में जारी है।

Cheondogyo

चोंडोइज़्म (उत्तर कोरियाई स्रोतों में वर्तनी चोंडोइज़्म का शाब्दिक अर्थ है "रिलिजन ऑफ़ द हेवनली वे") एक 20 वीं सदी का कोरियाई पंथवादी धर्म है, जो 19 वीं शताब्दी के डोंगक धार्मिक आंदोलन पर आधारित है, जिसकी स्थापना चो चे-यू द्वारा की गई थी और सोन प्योंग-हाय के तहत संहिताबद्ध है। . 1812 में जोसियन राजवंश के दौरान शुरू हुए किसान विद्रोहों में चोंडोवाद की उत्पत्ति हुई।

Baháʼí Faith

बहाई धर्म एक स्वतंत्र धर्म है जो इराक़ के बग़दाद शहर में युगावतार बहाउल्लाह ने स्थापित किया। यह एकेश्वरवाद और विश्व भर के विभिन्न धर्मों और पंथों की एकमात्र आधारशिला पर ज़ोर देता है। इस धर्म के अनुयायी बहाउल्लाह को पूर्व के... अधिक पढ़ें

Bábism

बाबीवाद, जिसे बाबी आस्था के रूप में भी जाना जाता है, एक एकेश्वरवादी धर्म है जो यह दावा करता है कि एक निराकार, अज्ञात और समझ से बाहर ईश्वर है जो ईश्वर की अभिव्यक्ति कहलाने वाले थियोफ़नीज़ की एक अंतहीन श्रृंखला में अपनी इच्छा प्रकट करता है। वर्तमान अनुमानों के अनुसार इसके कुछ हज़ार से अधिक अनुयायी नहीं हैं, जिनमें से अधिकांश ईरान में केंद्रित हैं।

Daejongism

डेजोंगिज्म या डांगुनिज्म कोरियाई शर्मिंदगी के ढांचे के भीतर कई धार्मिक आंदोलनों का नाम है, जो डांगुन (या तांगुन) की पूजा पर केंद्रित है। इनमें से लगभग सत्रह समूह हैं, जिनमें से एक की स्थापना सियोल में 1909 में Na Cheol द्वारा की गई थी।

22

द्रूस

Like Dislike Button
1 Votes
Druze

द्रूस (अंग्रेजी: Druze ; अरबी: درزي, derzī या durzī‎, बहुवचन دروز, durūz; हिब्रू: דרוזים, "druzim") एकेश्वरवादी समुदाय है जो सीरिया, लेबनान, इजराइल और जॉर्डन में पाया जाता है। द्रूस लोगों की मान्यताओं में अब्राहमिक धर्मों, ग्नोस्टिसिज्म (Gnos... अधिक पढ़ें

Mandaeism

मैनडेस्म, जिसे सबियनवाद के नाम से भी जाना जाता है, एक नोस्टिक, एकेश्वरवादी और जातीय धर्म है। इसके अनुयायी, मांडियन, आदम, हाबिल, सेठ, एनोस, नूह, शेम, अराम और विशेष रूप से जॉन द बैपटिस्ट का सम्मान करते हैं। मंडियन एक पूर्वी अरामी भाषा बोलते हैं जिसे मांडिक के नाम से जाना जाता है।

Ryukyuan religion

रयुकुआन धर्म द्वीप समूह की स्वदेशी विश्वास प्रणाली है। जबकि विशिष्ट किंवदंतियाँ और परंपराएँ एक स्थान से दूसरे स्थान और द्वीप से द्वीप में भिन्न हो सकती हैं, रयुकुआन धर्म को आम तौर पर पूर्वजों की पूजा और जीवित, मृत और प्राकृतिक दुनिया के देवताओं और आत्माओं के बीच संबंधों के सम्मान की विशेषता है।

Shugendō

शुगेंडो एक अत्यधिक समन्वित धर्म है, जो तपस्वी प्रथाओं का एक निकाय है, जो हेन-युग जापान में उत्पन्न हुआ था, जो 7 वीं शताब्दी के दौरान स्थानीय लोक-धार्मिक प्रथाओं, शिंटो पर्वत पूजा और बौद्ध धर्म से प्राप्त दर्शन, सिद्धांत और अनुष्ठान प्रणाली।

Yarsanism

यार्सनवाद, अहल-ए हक या काकाई, पश्चिमी ईरान में 14 वीं शताब्दी के अंत में सुल्तान सहक द्वारा स्थापित एक समन्वित धर्म है। यार्सनवाद के अनुयायियों की कुल संख्या ईरान और इराक में सिर्फ आधा मिलियन से अधिक होने का अनुमान है, जो ज्यादातर गुरान, संजाबी, कल्होर, ज़ंगाना और जलालवंद जनजातियों के कुर्द हैं। ईरान में तुर्क यार्सन एन्क्लेव भी मौजूद हैं।

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

Keywords:

सर्वाधिक लोकप्रिय विश्व धर्म दुनिया में व्यापक रूप से प्रचलित धर्म दुनिया में शीर्ष धर्म दुनिया में सबसे ज्यादा माने जाने वाले धर्म विश्व में सर्वाधिक प्रचलित धर्म
Share via
Copy link