Change Language to English

54 मशहूर हिन्दू मंदिर

मूर्तिकला, वास्तुकला और स्थापत्य कला के लिए चर्चित रही भारत की प्राचीन सभ्यता एवं संस्कृति ने खुद को अपनी सुन्दरता को इमारतों, महलों के साथ साथ धार्मिक स्थलों के माध्यम से भी दर्शाया है | तो आज की इस लिस्ट में हम भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों की जानकारी लाये हैं जो कि अपने भव्य दर्शन के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं |

भारत में धार्मिक आस्था की जड़ें काफी गहरी हैं और यहाँ के मंदिरों में इसकी झलक बखूबी मिलती है। विविधताओं से लबरेज इस पवित्र देश की भूमि पर कई सुंदर मंदिर हैं जिनमें से कई विश्व स्तर पर प्रसिद्ध हैं। ये महत्वपूर्ण धार्मिक और ऐतिहासिक स्थल हैं जिनकी अद्भुत सुंदरता देखते ही बनती है। जिनकी भी रुचि भारतीय संस्कृति, इतिहास और विरासत में है उन लोगो को इन मंदिरों का दर्शन अवश्य करना चाहिए। यहां प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों की एक सूची दी गयी है जो प्राचीन वास्तुकारों और इंजीनियरों की सुन्दर प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं। ये मंदिर कई प्रकार की स्थापत्य शैलियों में बने हैं जो भारतीय लोकाचार और भावना के अभिन्न अंग हैं एवं जिनका जानमानस पर गहरा प्रभाव है। भारत देश की सांस्कृतिक और स्थापत्य विरासत में इनका अविश्वसनीय रूप से योगदान है। जब भी मौका मिले, सभी भारतीयों को इन जगहों की यात्रा करनी चाहिए एवं इन मंदिरों की सुंदरता को निहारना चाहिए।


भगवान विष्णु का प्रसिद्ध तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर आन्ध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले के तिरुपति में स्थित है। समुद्र तल से 3200 फीट ऊंचाई पर स्थिम तिरुमला के सात पर्वतों में से एक वेंकटाद्रि पर बना श्री वैंकटेश्‍वर मंदिर यहां का सबसे बड़ा आकर्षण है। इसलिए इसे सात पर्वतों का मन्दिर के नाम से भी जाना जाता है। भगवान तिरुपति बालाजी को भारत के सबसे अमीर देवताओं में से एक माना जाता है। माना जाता है कि भगवान तिरुपति बालाजी अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमला में निवास करते हैं। ऐसे कहा जाता है कि यदि कोई भक्त कुछ भी सच्चे दिल से मांगता है, तो भगवान उसकी सारी मुरादें पूरी करते हैं।

Read More

भारत की राजधानी दिल्ली में यमुना नदी के तट पर स्थित अक्षरधाम या स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर भारतीय संस्कृति, वास्तुकला, और आध्यात्मिकता के लिए एक सच्चा चित्रण है। इसे ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है। यह परिसर लगभग 100 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। इसीलिए इसको दुनिया का सबसे विशाल हिंदू मन्दिर परिसर होने का गौरव हासिल है और 26 दिसम्बर 2007 को इसको गिनीज बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिका‌र्ड्स में शामिल किया गया है। इस मंदिर की खासियत यह भी है कि इसमें स्टील, इस्पात या कंक्रीट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। यह मंदिर भारतीय संस्कृति, सभ्यता, परंपराओं और आध्यात्मिकता की आत्मा को प्रदर्शित करता है।

Read More

जगन्नाथ मंदिर उड़ीसा के तटवर्ती शहर पुरी में स्थित है। यह मंदिर भगवान जगन्नाथ (श्रीकृष्ण) को समर्पित है। पुरी का जगन्नाथ धाम चार धामों में से एक है। मंदिर का वार्षिक रथयात्रा उत्सव प्रसिद्ध है। इस रथ की रस्सियों खींचने और छूने मात्र के लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु यहां आते हैं, मान्यता है कि इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसमें मंदिर के तीनों मुख्य देवता- भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भ्राता बलभद्र और भगिनी सुभद्रा, तीनों तीन अलग-अलग भव्य और सुसज्जित रथों में विराजमान होकर नगर की यात्रा को निकलते हैं। मध्य काल से ही यह उत्सव अति हर्षोल्लस के साथ मनाया जाता है।

Read More

बेहद खूबसूरत और अपनी एक अलग संस्कृति लिए हुए पूर्वोत्तर भारत का प्रवेश द्वार गुवाहाटी असम का सबसे बड़ा शहर है। भारत का प्रसिद्ध कामाख्या मंदिर गुवाहाटी से 8 किलोमीटर दूर पहाड़ी पर नीलांचल पहाड़ियों में स्थित है। यह मंदिर शक्ति की देवी सती का मंदिर है। नीलशैल पर्वतमालाओं पर स्थित मां भगवती कामाख्या का सिद्ध शक्तिपीठ सती के इक्यावन शक्तिपीठों में सर्वोच्च स्थान रखता है। यहीं भगवती की महामुद्रा यानी योनि-कुण्ड स्थित है। मान्यता है कि भगवान विष्णु के चक्र से खंडित होने पर सती की योनि नीलांचल पहाड़ पर गिरी थी।

Read More

वाराणसी में गंगा तट पर स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। शिव की नगरी काशी में महादेव साक्षात वास करते हैं। ऐसा माना जाता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आदि शंकराचार्य, सन्त एकनाथ रामकृष्ण परमहंस, स्‍वामी विवेकानंद, महर्षि दयानंद, गोस्‍वामी तुलसीदास सभी का आगमन हुआ हैं। काशी विश्‍वनाथ मंदिर का हिंदू धर्म में एक विशिष्ट स्थान है। बाबा विश्वनाथ के मंदिर में तड़के सुबह की मंगला आरती के साथ पूरे दिन में चार बार आरती होती है। मान्यता है कि सोमवार को चढ़ाए गए जल का पुण्य अधिक मिलता है। खासतौर पर सावन के सोमवार में यहां जलाभिषेक करने का अपना एक अलग ही महत्व है।

Read More

सन 2001 से निर्माण कार्य प्रारंभ करवा सन 2012 में जगद्गुरु कृपालु जी महाराज ने अपने नॉन प्रॉफिटेबल चैरिटेबल ट्रस्ट से भगवान श्रीकृष्ण का मथुरा (उत्तर प्रदेश) में 54 एकड़ की भूमि पर एक सुंदर विशाल मंदिर का निर्माण करवाया, जिसे के 'प्रेम मंदिर' के नाम से जाना जाता है | दूर दूर से सैलानी यहाँ पर आते हैं और आनन्द की अनुभूति पाते हैं |

Read More

देवी मां का अवतार माता रानी वैष्णो देवी और वैष्णवी के रूप में भी जानी जाती हैं वैष्णो देवी मंदिर इसी शक्ति को समर्पित है, जो भारत के जम्मू और कश्मीर में वैष्णो देवी की पहाड़ी पर स्थित है। ऐसा माना जाता है की माँ वैष्णो देवी अपने भक्तो को अपनी मर्जी पर दर्शन कराने बुलाती हैं। लोकप्रिय कथाओं के अनुसार, देवी वैष्‍णों इस गुफा में छिपी और एक राक्षस का वध कर दिया। मंदिर का मुख्‍य आकर्षण गुफा में रखे तीन पिंड है। इस मंदिर में आने के लिए सबसे पहले कटरा पहुंचे और वहां से चढ़ाई शुरू कर दें। यहां चढ़ाई रात के किसी भी पहर से शुरू की जा सकती है और गुफा में दर्शन करना एक रोमांचक अनुभव है।

Read More

बारह ज्योतिर्लिगों में सबसे प्रमुख सोमनाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिन्दू मंदिर है। सोमनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल है। गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल बंदरगाह में स्थित इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण स्वयं चन्द्रदेव ने किया था। इसी क्षेत्र में भगवान श्रीकृष्णचन्द्र ने यदु वंश का संहार कराने के बाद अपनी नर लीला समाप्त कर ली थी। इस कारण इस क्षेत्र का और भी महत्व बढ़ गया। गुजरात के सौराष्ट्र से होकर प्रभास क्षेत्र में कदम रखते ही दूर से ही दिखाई देने लगता है वो ध्वज जो हजारों वर्षों से भगवान सोमनाथ का यशगान करता आ रहा है, जिसे देखकर शिव की शक्ति का, उनकी ख्याति का एहसास होता है।

Read More

तमिलनाडु के तंजावुर का बृहदीश्वर अथवा बृहदीश्वर मन्दिर विश्व के प्रमुख ग्रेनाइट मंदिरों मे से एक हिंदू मंदिर है। इसका निर्माण 1003-1010 ई. के बीच चोल शासक प्रथम राजराज चोल ने करवाया था। बृहदेश्वर मंदिर अपनी भव्यता, वाश्तुशिल्प और केन्द्रीय गुम्बद से लोगों को आकर्षित करता है। विश्व में यह अपनी तरह का पहला और एकमात्र मंदिर है जो कि ग्रेनाइट का बना हुआ है। भगवान शिव को समर्पित बृहदीश्वर मंदिर शैव धर्म के अनुयायियों के लिए पवित्र स्थल रहा है। इसके दुर्ग की ऊंचाई विश्व में सर्वाधिक है और दक्षिण भारत की वास्तुकला की अनोखी मिसाल इस मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घेषित किया है।

Read More

मीनाक्षी मन्दिर तमिलनाडु राज्य के मदुरै शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है और इस मंदिर को मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर या मीनाक्षी अम्मान मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। ये मन्दिर भगवान शिव और देवी पार्वती को समर्पित है जो मीनाक्षी के नाम से जानी जाती थीं। इस मन्दिर को देवी पार्वती के सर्वाधिक पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। तमिलनाडु में स्थित मां मीनाक्षी देवी का यह मंदिर विश्‍व के सात अजूबों में शमिल करने के लिए भी नामांकित किया गया है| यह मंदिर 2500 साल पुराने शहर मदुराई का दिल और जीवन रेखा है और साथ ही तमिलनाडु के मुख्य आकर्षणों में से भी एक है। यह मंदिर अपनी शानदार वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है।

Read More

कोलकाता के निकट दक्षिणेश्वर में गंगा नदी (हुगली) के किनारे स्थित माता काली का भव्य मंदिर पश्चिम बंगाल में सबसे प्रसिद्ध है | दक्षिणेश्वर काली मन्दिर (बांग्ला: দক্ষিণেশ্বর কালীবাড়ি; उच्चारण:दॊख्खिनॆश्शॉर कालिबाड़ी), उत्तर कोलकाता में, बैरकपुर में, विवेकानन्द सेतु के कोलकाता छोर के निकट, हुगली नदी के किनारे स्थित एक ऐतिहासिक हिन्दू मन्दिर है। इस मंदिर की मुख्य देवी, भवतारिणी है, जो हिन्दू देवी काली माता ही है। यह कलकत्ता के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है, और कई मायनों में, कालीघाट मन्दिर के बाद, सबसे प्रसिद्ध काली मंदिर है। इसे वर्ष 1854-55 में जान बाजार की रानी रासमणि ने बनवाया था।

Read More

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर Mahakaleshwar Jyotirlinga (Ujjain)
महाकालेश्वर मंदिर भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मध्यप्रदेश राज्य के उज्जैन नगर में स्थित, महाकालेश्वर भगवान का प्रमुख मंदिर है। पुराणों, महाभारत और कालिदास जैसे महाकवियों की रचनाओं में इस मंदिर का मनोहर वर्णन मिलता है। स्वयंभू, भव्य और दक्षिणमुखी होने के कारण महाकालेश्वर महादेव की अत्यन्त पुण्यदायी महत्ता है। इसके दर्शन मात्र से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है, ऐसी मान्यता है। महाकवि कालिदास ने मेघदूत में उज्जयिनी की चर्चा करते हुए इस मंदिर की प्रशंसा की है। 1235 ई. में इल्तुत्मिश के द्वारा इस प्राचीन मंदिर का विध्वंस किए जाने के बाद से यहां जो भी शासक रहे, उन्होंने इस मंदिर के जीर्णोद्धार और सौन्दर्यीकरण की ओर विशेष ध्यान दिया, इसीलिए मंदिर अपने वर्तमान स्वरूप को प्राप्त कर सका है। प्रतिवर्ष और सिंहस्थ के पूर्व इस मंदिर को सुसज्जित किया जाता है।

Read More

श्री रंगनाथस्वामी मंदिर, श्रीरंगम Ranganathaswamy Temple, Srirangam
श्रीरंगम का यह मन्दिर श्री रंगनाथ स्वामी (श्री विष्णु) को समर्पित है, जहां भगवान् श्री हरि विष्णु शेषनाग शैय्या पर विराजे हुए हैं। यह द्रविण शैली में निर्मित है।

Read More

चिदंबरम मंदिर Thillai Nataraja Temple, Chidambaram
चिदंबरम मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक हिन्दू मंदिर है जो मंदिरों की नगरी चिदंबरम के मध्य में, पौंडीचेरी से दक्षिण की ओर 78 किलोमीटर की दूरी पर और कुड्डालोर जिले के उत्तर की ओर 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, कुड्डालोर जिला भारत के दक्षिणपूर्वीय राज्य तमिलनाडु का पूर्व-मध्य भाग है। मंदिर के इतिहास में कई जीर्णोद्धार हुए हैं, विशेषतः पल्लव/चोल शासकों के द्वारा प्राचीन एवम पूर्व मध्ययुगीन काल के दौरान|

Read More

ओटावा का हिंदू मंदिर Hindu Temple of Ottawa Carleton (Ottawa)
ओटावा का हिंदू मंदिर- ओटावा के ग्लूसेस्टर खंड में एक महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है। मंदिर हवाई अड्डे के दक्षिण-पूर्व में शहरी ओटावा के दक्षिण में ग्रामीण इलाके में बैंक स्ट्रीट पर स्थित है।

Read More

लक्ष्मी नारायण मंदिर, दिल्ली Sri Laxmi Narayan Mandir (Birla Mandir)
लक्ष्मी नारायण मंदिर बिड़ला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित यह मंदिर दिल्ली के प्रमुख मंदिरों में से एक है। इसका निर्माण 1938 में हुआ था और इसका उद्घाटन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने किया था। बिड़ला मंदिर अपने यहाँ मनाई जाने वाली जन्माष्टमी के लिए भी प्रसिद्ध है।

Read More

पद्मनाभस्वामी मंदिर Padmanabhaswamy Temple (Thiruvananthapuram)
पद्मनाभस्वामी मंदिर भारत के केरल राज्य के तिरुअनन्तपुरम में स्थित भगवान विष्णु का प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है। भारत के प्रमुख वैष्णव मंदिरों में शामिल यह ऐतिहासिक मंदिर तिरुअनंतपुरम के अनेक पर्यटन स्थलों में से एक है। पद्मनाभ स्वामी मंदिर विष्णु-भक्तों की महत्वपूर्ण आराधना-स्थली है। मंदिर की संरचना में सुधार कार्य किए गए जाते रहे हैं। उदाहरणार्थ 1733 ई. में इस मंदिर का पुनर्निर्माण त्रावनकोर के महाराजा मार्तड वर्मा ने करवाया था। पद्मनाभ स्वामी मंदिर के साथ एक पौराणिक कथा जुडी है। मान्यता है कि सबसे पहले इस स्थान से विष्णु भगवान की प्रतिमा प्राप्त हुई थी जिसके बाद उसी स्थान पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है।

Read More

श्री मरिअम्मन मंदिर, सिंगापुर Sri Mariamman Temple (Singapore)
श्री मरिअम्मन मंदिर सिंगापुर का प्राचीनतम उपलब्ध हिन्दू मंदिर है। यह एक अगम मत का मंदिर है और द्रविड़ स्थापत्य शैली में निर्मित है।

Read More

कोनस्वरम मंदिर Koneswaram Temple
त्रिंकोमाली का कोनस्वरम मंदिर या थिरुकोनामलाई कोनसर मंदिर - हजार स्तंभों का मंदिर है | यह श्रीलंका में एक हिंदू धार्मिक तीर्थस्थल और एक शास्त्रीय-मध्यकालीन हिंदू मंदिर परिसर है।

Read More

यमुनोत्री Yamunotri Temple (Janki Chatti)
यमुनोत्री मंदिर उत्तरकाशी जिले में उत्तराखंड में 3,291 मीटर (10,797 फीट) की ऊंचाई पर गढ़वाल हिमालय के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है। मंदिर देवी यमुना को समर्पित है और देवी की एक काले संगमरमर की मूर्ति है। ऋषिकेश, हरिद्वार या देहरादून - यमुनोत्री मंदिर उत्तराखंड के मुख्य शहरों से एक पूरा दिन की यात्रा है। वास्तविक मंदिर केवल एक 13 किलोमीटर (8.1 मील) की यात्रा हनुमान चट्टी के शहर से और एक 6 किलोमीटर की दूरी (3.7 मील) जानकी चट्टी से टहलने के द्वारा पहुँचा जा सकता है; घोड़े या पालकी किराए के लिए उपलब्ध हैं। यमुनोत्री के लिए हनुमान चट्टी से वृद्धि झरने के एक नंबर के दृश्यों का आनंद लेता है। वहाँ हनुमान चट्टी से यमुनोत्री के लिए दो ट्रैकिंग मार्ग, मार्कंडेय तीर्थ, जहां ऋषि मार्कंडेय लिखा मार्कंडेय पुराण, अन्य मार्ग नदी के बाएं किनारे पर जो झूठ Kharsali के माध्यम से चला जाता है, जहां से के माध्यम से दाहिने किनारे आय के साथ एक हैं यमुनोत्री एक पांच या छह घंटे की दूरी पर चढ़ाई है।

Read More

राम जन्मभूमि Ram Janmbhumi
हिन्दुओं की मान्यता है कि श्री राम का जन्म अयोध्या में हुआ था और उनके जन्मस्थान पर एक भव्य मन्दिर विराजमान था जिसे मुगल आक्रमणकारी बाबर ने तोड़कर वहाँ एक मस्जिद बना दी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई में इस स्थान को मुक्त करने एवं वहाँ एक नया मन्दिर बनाने के लिये एक लम्बा आन्दोलन चला। 6 दिसम्बर सन् 1992 को यह विवादित ढ़ांचा गिरा दिया गया और वहाँ श्री राम का एक अस्थायी मन्दिर निर्मित कर दिया गया।

Read More

केदारनाथ मन्दिर KedarnathTemple
केदारनाथ मन्दिर भारत के उत्तराखण्ड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में स्थित है। उत्तराखण्ड में हिमालय पर्वत की गोद में केदारनाथ मन्दिर बारह ज्योतिर्लिंग में सम्मिलित होने के साथ चार धाम और पंच केदार में से भी एक है। यहाँ की प्रतिकूल जलवायु के कारण यह मन्दिर अप्रैल से नवंबर माह के मध्‍य ही दर्शन के लिए खुलता है। पत्‍थरों से बने कत्यूरी शैली से बने इस मन्दिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण पाण्डव वंश के जनमेजय ने कराया था। यहाँ स्थित स्वयम्भू शिवलिंग अति प्राचीन है। आदि शंकराचार्य ने इस मन्दिर का जीर्णोद्धार करवाया।जून 2013 के दौरान भारत के उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश राज्यों में अचानक आई बाढ़ और भूस्खलन के कारण केदारनाथ सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र रहा। मंदिर की दीवारें गिर गई और बाढ़ में बह गयी। इस ऐतिहासिक मन्दिर का मुख्य हिस्सा और सदियों पुराना गुंबद सुरक्षित रहे लेकिन मन्दिर का प्रवेश द्वार और उसके आस-पास का इलाका पूरी तरह तबाह हो गया।

Read More

लिंगराज मंदिर Lingaraja temple
लिंगराज मंदिर भारत के ओडिशा प्रांत की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है। यह भुवनेश्वर का मुख्य मन्दिर है तथा इस नगर के प्राचीनतम मंदिरों में से एक है। यह भगवान त्रिभुवनेश्वर को समर्पित है। इसे ललाटेडुकेशरी ने 617-657 ई. में बनवाया था। यद्यपि इस मंदिर का वर्तमान स्वरूप 1090-1104 में बना, किंतु इसके कुछ हिस्से 1400 वर्ष से भी अधिक पुराने हैं। इस मंदिर का वर्णन छठी शताब्दी के लेखों में भी आता है।

Read More

प्रम्बनन Prambanan, Trimurti temple compound
प्रम्बनन (परब्रह्मन् का विकृत रूप) जावा में एक विशाल हिन्दु मन्दिर-परिसर है। इसका निर्माण 850 में हुआ। यह युनेस्को विश्व धरोहर स्थल है और लोकप्रिय पर्यटन स्थल और तीर्थस्थान भी है।

Read More

मुन्नास्वरम मंदिर Sri Munneswaram Devasthanam
मुन्नास्वरम मंदिर श्रीलंका में एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय हिंदू मंदिर परिसर है। यह कम से कम 1000 सीई के बाद से अस्तित्व में है, हालांकि मंदिर के आसपास के मिथक इसे लोकप्रिय भारतीय महाकाव्य रामायण, और इसके पौराणिक नायक-राजा राम के साथ जोड़ते हैं।

Read More

श्री द्वारकाधीश मंदिर Dwarkadhish Temple
द्वारिकाधीश मंदिर, भी जगत मंदिर के रूप में जाना और कभी कभी वर्तनी द्वारिकाधीश, एक है हिंदू मंदिर भगवान के लिए समर्पित कृष्णा , जो नाम द्वारिकाधीश, या 'द्वारका के राजा' द्वारा यहां पूजा की जाती है। मंदिर भारत के गुजरात के द्वारका में स्थित है। 72 स्तंभों द्वारा समर्थित 5 मंजिला इमारत का मुख्य मंदिर, जगत मंदिर या निज मंदिर के रूप में जाना जाता है, पुरातात्विक निष्कर्ष यह बताते हैं कि यह 2,200 - 2,500 साल पुराना है। 15 वीं -16 वीं शताब्दी में मंदिर का विस्तार किया गया। द्वारकाधीश मंदिर एक पुष्टिमार्ग मंदिर है, इसलिए यह वल्लभाचार्य और विठ्लेसनाथ द्वारा बनाए गए दिशानिर्देशों और अनुष्ठानों का पालन करता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] परंपरा के अनुसार, मूल मंदिर का निर्माण कृष्ण के पड पोते वज्रनाभ ने हरि-गृह (भगवान कृष्ण के आवासीय स्थान) पर किया था। मंदिर भारत में हिंदुओं द्वारा पवित्र माने जाने वाले चार धाम तीर्थ का हिस्सा बन गया, 8 वीं शताब्दी के हिंदू धर्मशास्त्री और दार्शनिक आदि शंकराचार्य ने मंदिर का दौरा किया। अन्य तीन में रामेश्वरम , बद्रीनाथ और पुरी शामिल हैं । आज भी मंदिर के भीतर एक स्मारक उनकी यात्रा को समर्पित है। द्वारकाधीश उपमहाद्वीप में विष्णु के 98 वें दिव्य देशम हैं, जो दिव्य प्रभा पवित्र ग्रंथों में महिमा मंडित करते हैं।

Read More

अंगकोर वाट, कंबोडिया। Angkor Wat, Cambodia.

"अंकोरवाट कंबोडिया में एक मंदिर परिसर और दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक है, 162.6 हेक्टेयर को मापने वाले एक साइट पर। यह मूल रूप से खमेर साम्राज्य के लिए भगवान विष्णु के एक हिंदू मंदिर के रूप में बनाया गया था, जो धीरे-धीरे 12 वीं शताब्दी के अंत में बौद्ध मंदिर में परिवर्तित हो गया था। यह कंबोडिया के अंकोर में है जिसका पुराना नाम 'यशोधरपुर' था। इसका निर्माण सम्राट सूर्यवर्मन द्वितीय (1112-53ई.) के शासनकाल में हुआ था। यह विष्णु मन्दिर है जबकि इसके पूर्ववर्ती शासकों ने प्रायः शिवमंदिरों का निर्माण किया था। मीकांग नदी के किनारे सिमरिप शहर में बना यह मंदिर आज भी संसार का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है जो सैकड़ों वर्ग मील में फैला हुआ है।
राष्ट्र के लिए सम्मान के प्रतीक इस मंदिर को 1983 से कंबोडिया के राष्ट्रध्वज में भी स्थान दिया गया है। यह मन्दिर मेरु पर्वत का भी प्रतीक है। इसकी दीवारों पर भारतीय धर्म ग्रंथों के प्रसंगों का चित्रण है। इन प्रसंगों में अप्सराएं बहुत सुंदर चित्रित की गई हैं, असुरों और देवताओं के बीच समुद्र मन्थन का दृश्य भी दिखाया गया है। विश्व के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थानों में से एक होने के साथ ही यह मंदिर यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों में से एक है। पर्यटक यहाँ केवल वास्तुशास्त्र का अनुपम सौंदर्य देखने ही नहीं आते बल्कि यहाँ का सूर्योदय और सूर्यास्त देखने भी आते हैं। सनातनी लोग इसे पवित्र तीर्थस्थान मानते हैं।"

Read More

कृष्ण जन्म भूमि Krishna Janmabhoomi
कृष्ण जन्म भूमि मथुरा का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है जहाँ हिन्दू धर्म के अनुयायी कृष्ण भगवान का जन्म स्थान मानते हैं। यह विवादों में भी घिरा हुआ है क्योंकि इससे लगी हुई जामा मस्जिद मुसलमानों के लिये धार्मिक स्थल है। भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि का न केवल राष्द्रीय स्तर पर महत्व है बल्कि वैश्विक स्तर पर जनपद मथुरा भगवान श्रीकृष्ण के जन्मस्थान से ही जाना जाता है। आज वर्तमान में महामना पंडित मदनमोहन मालवीय जी की प्रेरणा से यह एक भव्य आकर्षक मन्दिर के रूप में स्थापित है। पर्यटन की दृष्टि से विदेशों से भी श्रद्धालु भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन के लिए यहाँ प्रतिदिन आते हैं। भगवान श्रीकृष्ण को विश्व में बहुत बड़ी संख्या में नागरिक आराध्य के रूप में मानते हुए दर्शनार्थ आते हैं।

Read More

रामेश्वरम मंदिर Rameswaram tample
रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में स्थित है। यह तीर्थ हिन्दुओं के चार धामों में से एक है। इसके अलावा यहां स्थापित शिवलिंग बारह द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। भारत के उत्तर मे काशी की जो मान्यता है, वही दक्षिण में रामेश्वरम् की है। रामेश्वरम चेन्नई से लगभग सवा चार सौ मील दक्षिण-पूर्व में है। यह हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी से चारों ओर से घिरा हुआ एक सुंदर शंख आकार द्वीप है। बहुत पहले यह द्वीप भारत की मुख्य भूमि के साथ जुड़ा हुआ था, परन्तु बाद में सागर की लहरों ने इस मिलाने वाली कड़ी को काट डाला, जिससे वह चारों ओर पानी से घिरकर टापू बन गया। यहां भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई करने से पूर्व पत्थरों के सेतु का निर्माण करवाया था, जिसपर चढ़कर वानर सेना लंका पहुंची व वहां विजय पाई। बाद में राम ने विभीषण के अनुरोध पर धनुषकोटि नामक स्थान पर यह सेतु तोड़ दिया था। आज भी इस 30 मील (48 कि.मी) लंबे आदि-सेतु के अवशेष सागर में दिखाई देते हैं। यहां के मंदिर के तीसरे प्रकार का गलियारा विश्व का सबसे लंबा गलियारा है।

Read More

अमरनाथ गुफा मंदिर Amarnath Cave Temple
अमरनाथ हिन्दुओं का एक प्रमुख तीर्थस्थल है। यह कश्मीर राज्य के श्रीनगर शहर के उत्तर-पूर्व में 135 सहस्त्रमीटर दूर समुद्रतल से 13,600 फुट की ऊँचाई पर स्थित है। इस गुफा की लंबाई (भीतर की ओर गहराई) 19 मीटर और चौड़ाई 16 मीटर है। गुफा 11 मीटर ऊँची है। अमरनाथ गुफा भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। अमरनाथ को तीर्थों का तीर्थ कहा जाता है क्यों कि यहीं पर भगवान शिव ने माँ पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था।यहाँ की प्रमुख विशेषता पवित्र गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग का निर्मित होना है। प्राकृतिक हिम से निर्मित होने के कारण इसे स्वयंभू हिमानी शिवलिंग भी कहते हैं। आषाढ़ पूर्णिमा से शुरू होकर रक्षाबंधन तक पूरे सावन महीने में होने वाले पवित्र हिमलिंग दर्शन के लिए लाखों लोग यहां आते हैं। गुफा की परिधि लगभग डेढ़ सौ फुट है और इसमें ऊपर से बर्फ के पानी की बूँदें जगह-जगह टपकती रहती हैं। यहीं पर एक ऐसी जगह है, जिसमें टपकने वाली हिम बूँदों से लगभग दस फुट लंबा शिवलिंग बनता है। चन्द्रमा के घटने-बढ़ने के साथ-साथ इस बर्फ का आकार भी घटता-बढ़ता रहता है। श्रावण पूर्णिमा को यह अपने पूरे आकार में आ जाता है और अमावस्या तक धीरे-धीरे छोटा होता जाता है। आश्चर्य की बात यही है कि यह शिवलिंग ठोस बर्फ का बना होता है, जबकि गुफा में आमतौर पर कच्ची बर्फ ही होती है जो हाथ में लेते ही भुरभुरा जाए। मूल अमरनाथ शिवलिंग से कई फुट दूर गणेश, भैरव और पार्वती के वैसे ही अलग अलग हिमखंड हैं।

Read More

डेलावेयर हिंदू मंदिर Hindu Temple of Delaware
760 Yorklyn रोड पर डेलावेयर का हिंदू मंदिर, Hockessin संयुक्त राज्य अमेरिका में कई हिंदू मंदिरों में से एक है। मुख्य देवता देवी महालक्ष्मी हैं, जो धन और समृद्धि की देवी हैं। डेलावेयर घाटी क्षेत्र में 7,000 से अधिक परिवार हैं जो सालाना इस मंदिर में आते हैं।

Read More

कैलाशनाथ मंदिर, कांचीपुरम Kailasanathar Temple (Karuppadithattadai)
कैलाशनाथ मंदिर, कांचीपुरम में स्थित एक हिन्दू मंदिर है। यह शहर के पश्चिम दिशा में स्थित यह मंदिर कांचीपुरम का सबसे प्राचीन और दक्षिण भारत के सबसे शानदार मंदिरों में एक है। इस मंदिर को आठवीं शताब्दी में पल्लव वंश के राजा राजसिम्हा ने अपनी पत्नी की प्रार्थना पर बनवाया था। मंदिर के अग्रभाग का निर्माण राजा के पुत्र महेन्द्र वर्मन तृतीय के करवाया था। मंदिर में देवी पार्वती और शिव की नृत्य प्रतियोगिता को दर्शाया गया है। यह द्रविडशैली का मंदिर है

Read More

चोपता तुङ्गनाथ Tungnath Temple

तुंगनाथ पर्वत पर स्थित है तुंगनाथ मंदिर, जो 3460 मीटर की ऊँचाई पर बना हुआ है और पंच केदारों में सबसे ऊँचाई पर स्थित है। यह मंदिर 1,000 वर्ष पुराना माना जाता है और यहाँ भगवान शिव की पंच केदारों में से एक के रूप में पूजा होती है। ऐसा माना जाता है की इस मंदिर का निर्माण पाण्डवों द्वारा भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किया गया था, जो कुरुक्षेत्र में हुए नरसंहार के कारण पाण्डवों से रुष्ट थे। तुंगनाथ की चोटी तीन धाराओं का स्रोत है, जिनसे अक्षकामिनी नदी बनती है। मंदिर चोपता से 3 किलोमीटर दूर स्थित है। कहा जाता है कि पार्वती माता ने शिव जी को प्रसन्न करने के लिए यहां ब्याह से पहले तपस्या की थी ।

Read More

बद्रीनाथ मन्दिर Badrinath Temple
बद्रीनाथ में जो प्रतिमा है़ वह विष्णु के एक रूप "बद्रीनारायण" की है। बद्रीनाथ अथवा बद्रीनारायण मन्दिर भारतीय राज्य उत्तराखण्ड के चमोली जनपद में अलकनन्दा नदी के तट पर स्थित एक हिन्दू मन्दिर है। यह हिंदू देवता विष्णु को समर्पित मंदिर है और यह स्थान इस धर्म में वर्णित सर्वाधिक पवित्र स्थानों, चार धामों, में से एक यह एक प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण 7वीं-9वीं सदी में होने के प्रमाण मिलते हैं। मन्दिर के नाम पर ही इसके इर्द-गिर्द बसे नगर को भी बद्रीनाथ ही कहा जाता है। भौगोलिक दृष्टि से यह स्थान हिमालय पर्वतमाला के ऊँचे शिखरों के मध्य, गढ़वाल क्षेत्र में, समुद्र तल से 3,133 मीटर (10,279 फ़ीट) की ऊँचाई पर स्थित है। जाड़ों की ऋतु में हिमालयी क्षेत्र की रूक्ष मौसमी दशाओं के कारण मन्दिर वर्ष के छह महीनों (अप्रैल के अंत से लेकर नवम्बर की शुरुआत तक) की सीमित अवधि के लिए ही खुला रहता है। यह भारत के कुछ सबसे व्यस्त तीर्थस्थानों में से एक है; 2012 में यहाँ लगभग 10.6 लाख तीर्थयात्रियों का आगमन दर्ज किया गया था। बद्रीनाथ मन्दिर में हिंदू धर्म के देवता विष्णु के एक रूप "बद्रीनारायण" की पूजा होती है। यहाँ उनकी 1 मीटर (3.3 फीट) लंबी शालिग्राम से निर्मित मूर्ति है जिसके बारे में मान्यता है कि इसे आदि शंकराचार्य ने 8वीं शताब्दी में समीपस्थ नारद कुण्ड से निकालकर स्थापित किया था। इस मूर्ति को कई हिंदुओं द्वारा विष्णु के आठ स्वयं व्यक्त क्षेत्रों (स्वयं प्रकट हुई प्रतिमाओं) में से एक माना जाता है। यद्यपि, यह मन्दिर उत्तर भारत में स्थित है, "रावल" कहे जाने वाले यहाँ के मुख्य पुजारी दक्षिण भारत के केरल राज्य के नम्बूदरी सम्प्रदाय के ब्राह्मण होते हैं। बद्रीनाथ मन्दिर को उत्तर प्रदेश राज्य सरकार अधिनियम – 30/1948 में मन्दिर अधिनियम – 16/1939 के तहत शामिल किया गया था, जिसे बाद में "श्री बद्रीनाथ तथा श्री केदारनाथ मन्दिर अधिनियम" के नाम से जाना जाने लगा। वर्तमान में उत्तराखण्ड सरकार द्वारा नामित एक सत्रह सदस्यीय समिति दोनों, बद्रीनाथ एवं केदारनाथ मन्दिरों, को प्रशासित करती है। विष्णु पुराण, महाभारत तथा स्कन्द पुराण जैसे कई प्राचीन ग्रन्थों में इस मन्दिर का उल्लेख मिलता है। आठवीं शताब्दी से पहले आलवार सन्तों द्वारा रचित नालयिर दिव्य प्रबन्ध में भी इसकी महिमा का वर्णन है। बद्रीनाथ नगर, जहाँ ये मन्दिर स्थित है, हिन्दुओं के पवित्र चार धामों के अतिरिक्त छोटे चार धामों में भी गिना जाता है और यह विष्णु को समर्पित 108 दिव्य देशों में से भी एक है। एक अन्य संकल्पना अनुसार इस मन्दिर को बद्री-विशाल के नाम से पुकारते हैं और विष्णु को ही समर्पित निकटस्थ चार अन्य मन्दिरों – योगध्यान-बद्री, भविष्य-बद्री, वृद्ध-बद्री और आदि बद्री के साथ जोड़कर पूरे समूह को "पंच-बद्री" के रूप में जाना जाता है। ऋषिकेश से यह 294 किलोमीटर की दूरी पर उत्तर दिशा में स्थित है। मन्दिर तक आवागमन सुलभ करने के लिए वर्तमान में चार धाम महामार्ग तथा चार धाम रेलवे जैसी कई योजनाओं पर कार्य चल रहा है।

Read More

बेलुड़ मठ Belur Math, Ramakrishna temple
बेलुड़ मठ भारत के पश्चिम बंगाल में हुगली नदी के पश्चिमी तट पर बेलूड़ में स्थित है। यह रामकृष्ण मिशन और रामकृष्ण मठ का मुख्यालय है। इस मठ के भवनों की वास्तु में हिन्दू, इसाई तथा इस्लामी तत्वों का सम्मिश्रण है जो धर्मो की एकता का प्रतीक है। इसकी स्थापना 1897 में स्वामी विवेकानन्द ने की थी।

Read More

श्री सीता रामचंद्रस्वामी मंदिर Shri Bhadrachalam Temple
श्री सीता रामचंद्रस्वामी मंदिर एक दक्षिण भारतीय हिंदू मंदिर है जो भगवान विष्णु के सातवें अवतार राम को समर्पित है। यह तेलंगाना राज्य में भद्राद्री कोठागुडेम जिले के एक भाग, भद्राचलम शहर में गोदावरी नदी के तट पर स्थित है।

Read More

ब्रह्मेश्वर मंदिर Brahmeswara Temple
ब्रह्मेश्वर मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो 9 वीं शताब्दी ईस्वी सन् के अंत में ओडिशा के भुवनेश्वर में निर्मित हुआ, यह भगवान शिव को समर्पित है|

Read More

मालिबू हिंदू मंदिर Malibu Hindu Temple
मालिबू हिंदू मंदिर, 1981 में निर्मित हिंदू भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर, सांता मोनिका पर्वत में कैलिफोर्निया के मालिबू के पास कैलाबास शहर में स्थित है। यह दक्षिणी कैलिफोर्निया के हिंदू मंदिर सोसायटी के स्वामित्व और संचालित है।

Read More

एकाम्बरनाथ मन्दिर Shri Ekambareswarar Temple (Kanchipuram)
एकाम्बरनाथ मन्दिर भारत के तमिलनाडु राज्य के कांचीपुरम शहर मे है। कांचीपुरम को मंदिरो का शहर भी कहा जाता है। एकाम्बरनाथ मन्दिर शहर के उतरी भाग मे है।

Read More

त्यागराज मंदिर Thyagaraja Temple
त्यागराज मंदिर एक शिव मंदिर, तमिलनाडु, भारत में स्थित है।

Read More

व्रज मंदिर Vraj
व्रज हिंदू मंदिर, पूर्वी पेंसिल्वेनिया, संयुक्त राज्य अमेरिका में, रूल्स 183 और 895 के चौराहे से दो मील पश्चिम में, शूइल्किल काउंटी में स्थित है। यह 300 एकड़ भूमि को कवर करता है। व्रज को नोनतन नदालय के रूप में भी जाना जाता है|

Read More

अन्नामलैयार मंदिर Annamalaiyar Temple
अन्नामलैयार मंदिर, एक हिंदू मंदिर है जो भारत के तमिलनाडु में तिरुवनमलाई शहर में अरुणाचल पहाड़ी के आधार पर स्थित देवता शिव को समर्पित है। यह हिंदू धर्म संप्रदाय के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि पांच तत्वों में से एक मंदिर, पंच भूत स्टाल और विशेष रूप से अग्नि, या अग्नि का तत्व है।

Read More

बीएपीएस श्री स्वामीनारायण मंदिर BAPS Shri Swaminarayan Mandir
Bochasanwasi अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस), स्वामीनारायण सम्प्रदाय के भीतर एक हिंदू संप्रदाय है। यह गठन किया गया था, Yagnapurushdas द्वारा, स्वामीनारायण सम्प्रदाय के वाड़ताल सूबा छोड़ने सिद्धांत स्वामीनारायण सभी तरह वापस गुनटितानैंड स्वामी डेटिंग गुरुओं के एक वंश के माध्यम से पृथ्वी पर मौजूद रहने के लिए किया गया है कि पर बाद - स्वामीनारायण के सबसे प्रमुख शिष्यों में से एक। अक्षर पुरुषोत्तम सिद्धांत के आधार पर, बीएपीएस के अनुयायियों, Aksharbrahman गुरुओं के एक वंश के माध्यम से प्रकट होता है स्वामीनारायण का मानना ​​है गुनटितानैंड स्वामी, भागत्जी महाराज, शास्तरीजी महाराज, योगिजी महाराज, प्रमुख स्वामी महाराज, और वर्तमान में महंत स्वामी महाराज द्वारा पीछा के साथ शुरुआत। 2019 के रूप में, बीएपीएस 44 shikharbaddha मंदिर और दुनिया भर में 1,200 से अधिक मंदिर है कि स्वामीनारायण, गुनटितानैंड स्वामी, और उनके उत्तराधिकारियों के murtis के लिए प्रस्ताव भक्ति करने के अनुयायियों की अनुमति देकर इस सिद्धांत के अभ्यास की सुविधा है। बीएपीएस मंदिर भी पालक संस्कृति और युवाओं के विकास के लिए गतिविधियों की सुविधा है। कई भक्त हिंदू मूल्यों के पारेषण और दैनिक दिनचर्या में अपने शामिल करने, पारिवारिक जीवन, और कैरियर के लिए एक जगह के रूप मंदिर देखने। बीएपीएस भी बीएपीएस दान, एक अलग गैर लाभ सहायता संगठन है जो स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यावरण मकसदों, और समुदाय के निर्माण अभियान को संबोधित करते हुए दुनिया भर के परियोजनाओं के एक नंबर का नेतृत्व किया गया है के माध्यम से मानवीय और धर्मार्थ प्रयासों के एक मेजबान में संलग्न है।

Read More

इस्कॉन मंदिर (बेंगलुरु) ISKCON Temple (Banglore)

श्री राधा कृष्ण मंदिर दुनिया में सबसे बड़ा इस्कॉन मंदिरों में से एक है। यह कर्नाटक के भारतीय राज्य में उत्तर बैंगलोर के राजाजीनगर पर स्थित है। इस्कॉन का हरे कृष्ण मंदिर 1, आर ब्लॉक, चॉर्ड रोड, राजाजी नगर में हरे कृष्ण पहाड़ी पर स्थित है। सुंदर बगीचे के बीच में स्थित होने के कारण इस मंदिर के चारों ओर विश्राम करते हुए प्रकृति सौंदर्य का अनुभव करते हुए ईश्वर के साथ एकाकार हुआ जा सकता है। विकलांग और बुजुर्ग व्यक्तियों के लिए यहां एलिवेटर लगाए गए हैं।

Read More

वडकुनाथन मन्दिर Thrissur Vadakkunnathan Temple
वडकुनाथन मंदिर केरल के त्रिशूर नगर में स्थित एक प्राचीन शिव मंदिर है। इसे 'टेंकैलाशम' तथा 'ऋषभाचलम्' भी कहते हैं।

Read More

ढाकेश्वरी मन्दिर Dhakeshwari Mandir (Dhaka)
ढाकेश्वरी मन्दिर ढाका नगर का सबसे महत्वपूर्ण मन्दिर है। इन्हीं ढाकेश्वरी देवी के नाम पर ही ढाका का नामकरण हुआ है। भारत के विभाजन से पहले तक ढाकेश्वरी देवी मन्दिर सम्पूर्ण भारत के शक्तिपूजक समाज के लिए आस्था का बहुत बड़ा केन्द्र था। 12वीं शताब्दी में सेन राजवंश के बल्लाल सेन ने ढाकेश्वरी देवी मन्दिर का निर्माण करवाया था। ढाकेश्वरी पीठ की गिनती शक्तिपीठ में की जाती है क्योंकि यहां पर सती के आभूषण गिरे थे।

Read More

शिकागो का हिंदू मंदिर Hindu Temple of Greater Chicago (Lemont)
ग्रेटर शिकागो का हिंदू मंदिर Lemont, इलिनोइस में 1977 में स्थापित एक हिंदू मंदिर परिसर है। इस परिसर में दो अलग-अलग मंदिर शामिल हैं: राम मंदिर, जिसमें श्री राम, सीता और लक्ष्मण, भगवान गणेश, श्री हनुमान, भगवान वेंकटेश्वर, महालक्ष्मी, श्री कृष्ण और राधा शामिल हैं।

Read More

नैलायप्पर मंदिर Nellaiappar Temple
स्वामी नैलायप्पर मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के एक शहर तिरुनेलवेली में स्थित भगवान शिव को समर्पित है। शिव को नेलियाप्पार (वेणुवननाथ के नाम से भी जाना जाता है) को लिंगम द्वारा दर्शाया गया है और उनकी पत्नी पार्वती को कांतिमथी अम्मन के रूप में दर्शाया गया है। मंदिर तिरुनेलवेली जिले में थामिबरानी नदी के उत्तरी तट पर स्थित है । पीठासीन देवता 7 वीं शताब्दी के तमिल सायवा विहित कार्यों में प्रतिष्ठित हैं, तेवारम , जो तमिल संत कवियों द्वारा नायनार के रूप में जाना जाता है और पाडल पेट्रा स्टालम के रूप में वर्गीकृत है ।

Read More

वैथीस्वरन कोईल Vaitheeswaran Koil
हमारे देश में भगवान शिव के प्रसिद्ध क्षेत्रों में वैथीस्वरन कोईल का एक विशेष स्थान है। यहाँ भक्तों के हृदय में भगवान वैथीयंतर के रूप में बसते हैं। वैथीयंतर शब्द का अर्थ है हर बीमारी का इलाज करने वाले, जिसे हम आजकल की भाषा में चिकित्सक या डॉक्टर भी कह सकते हैं। मान्यता है कि वैथीयंतर ने 4,480 बीमारियों का इलाज संभव किया।

Read More

गंगोत्री मन्दिर Gangotri Mandir
गंगोत्री गंगा नदी का उद्गम स्थान है। गंगाजी का मंदिर, समुद्र तल से 3042 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। भागीरथी के दाहिने ओर का परिवेश अत्यंत आकर्षक एवं मनोहारी है। यह स्थान उत्तरकाशी से 100 किमी की दूरी पर स्थित है। गंगा मैया के मंदिर का निर्माण गोरखा कमांडर अमर सिंह थापा द्वारा 18 वी शताब्दी के शुरूआत में किया गया था वर्तमान मंदिर का पुननिर्माण जयपुर के राजघराने द्वारा किया गया था। प्रत्येक वर्ष मई से अक्टूबर के महीनो के बीच पतित पावनी गंगा मैंया के दर्शन करने के लिए लाखो श्रद्धालु तीर्थयात्री यहां आते है। यमुनोत्री की ही तरह गंगोत्री का पतित पावन मंदिर भी अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर खुलता है और दीपावली के दिन मंदिर के कपाट बंद होते है।

Read More

गुरुवायुर मन्दिर Guruvayur Temple (Guruvayur)
गुरुवयूर श्री कृष्ण मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो हिंदू देवता गुरुवायुरप्पन को समर्पित है, जो भारत के केरल में गुरुवायूर शहर में स्थित है। यह केरल में हिंदुओं के सबसे महत्वपूर्ण पूजा स्थलों में से एक है और इसे अक्सर भुलोका वैकुंठ के रूप में जाना जाता है।

Read More

मोरेश्वर Ganesh Temple Morgaon
श्री मयूरेश्वर मंदिर या श्री मोरेश्वर मंदिर गणेश भगवान के लिए समर्पित है। यह महाराष्ट्र के भारतीय राज्य में, पुणे जिले में Moragaon में स्थित है पुणे शहर से लगभग 65 किमी दूर है।

Read More

पशुपतिनाथ मन्दिर (नेपाल) Pashupatinath Temple (Kathmandu)
पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल की राजधानी काठमांडू से तीन किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में बागमती नदी के किनारे देवपाटन गांव में स्थित एक हिंदू मंदिर है। नेपाल के एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बनने से पहले यह मंदिर राष्ट्रीय देवता, भगवान पशुपतिनाथ का मुख्य निवास माना जाता था। यह मंदिर यूनेस्को विश्व सांस्कृतिक विरासत स्थल की सूची में सूचीबद्ध है। पशुपतिनाथ में आस्था रखने वालों को मंदिर परिसर में प्रवेश करने की अनुमति है। गैर हिंदू आगंतुकों को इसे बाहर से बागमती नदी के दूसरे किनारे से देखने की अनुमति है। यह मंदिर नेपाल में शिव का सबसे पवित्र मंदिर माना जाता है। 15 वीं शताब्दी के राजा प्रताप मल्ल से शुरु हुई परंपरा है कि मंदिर में चार पुजारी (भट्ट) और एक मुख्य पुजारी (मूल-भट्ट) दक्षिण भारत के ब्राह्मणों में से रखे जाते हैं। पशुपतिनाथ में शिवरात्रि का पर्व विशेष महत्व के साथ मनाया जाता है।

Read More

श्री वेंकटेश्वर बालाजी मंदिर Shri Venkateswara Balaji Temple - England
श्री वेंकटेश्वर (बालाजी) मंदिर यूरोप के सबसे बड़े कामकाजी हिंदू मंदिरों में से एक है। यह वैष्णव परंपरा में हिंदू भगवान विष्णु के एक रूप को समर्पित है। यह मंदिर बिर्मधाम शहर के उत्तर-पश्चिम में टिप्टन और ओल्डबरी के उपनगरों के बीच, वेस्ट मिडलैंड्स, इंग्लैंड में स्थित है।

Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

Keywords:

सर्वाधिक लोकप्रिय हिंदू मंदिर प्रसिद्ध हिंदू मंदिर सर्वश्रेष्ठ हिंदू मंदिर अद्भुत हिंदू मंदिर