Change Language to English

84 सर्वाधिक लोकप्रिय योग आसनों की सूची

सुविधापूर्वक एक चित और स्थिर होकर बैठने को आसन कहा जाता है। आसन का शाब्दिक अर्थ है – बैठना, बैठने का आधार, बैठने की विशेष प्रक्रिया आदि। पातंजल योगदर्शन में विवृत्त अष्टांगयोग में आसन का स्थान तृतीय एवं गोरक्षनाथादि द्वारा प्रवर्तित षडंगयोग में प्रथम है। चित्त की स्थिरता, शरीर एवं उसके अंगों की दृढ़ता और कायिक सुख के लिए इस क्रिया का विधान मिलता है। आइये जानते हैं इन योग आसनों के बारे में :

योग का हमारे जीवन में अभूतपूर्व योगदान है। आजकल, हर कोई विभिन्न योगासनों को सीखना चाहता है। यह एक प्राचीन विद्या है जो अब लाखों लोगो के दैनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। कुछ लोग योग आसनों को सीखने के लिए औपचारिक योगा क्लास में भाग लेते हैं जबकि कई घर में ही योगा सीख लेतें हैं। योग अत्यंत लाभकारी है। यहां कुछ आसन और उनके लाभ दिए गए हैं। ये आसन सम्पूर्ण शरीर को स्वस्थ रखते हैं एवं तनाव, चिंता और अवसाद से लड़ने में भी मदद करते हैं। यहाँ कुछ योगासनों के नाम एवं उनसे होने वाले फायदों की सूची दी गयी है ताकि उन सभी की मदद मिल सके जो योगासनों के लिए एक निश्चित मार्गदर्शिका की खोज कर रहे हैं। ये आसन आपके शरीर, मन और आत्मा को ध्यान की अवस्था में लाने में भी मदद करेंगे।


धनुरासन 2

इसमें शरीर की आकृति सामान्य तौर पर खिंचे हुए धनुष के समान हो जाती है, इसीलिए इसको धनुरासन कहते हैं।

भुजंगासन 3

इस आसन में शरीर की आकृति फन उठाए हुए भुजंग अर्थात सर्प जैसी बनती है इसीलिए इसको भुजंगासन या सर्पासन कहा जाता है।

शीर्षासन Sirsasana

सिर के बल किए जाने की वजह से इसे शीर्षासन कहते हैं। शीर्षासन एक ऐसा आसन है जिसके अभ्यास से हम सदैव कई बड़ी-बड़ी बीमारियों से दूर रहते हैं। हालांकि यह आसन काफी मुश्किल है। यह हर व्यक्ति के लिए सहज नहीं है। शीर्षासन से हमारा पाचनतंत्र अच्छा रहता है, रक्त संचार सुचारू रहता है। शरीर को बल प्राप्त होता है।

पद्मासन 4

शांति या सुख का अनुभव करना या बोध करना अलौकिक ज्ञान प्राप्त करने जैसा है, यह तभी संभव है, जब आप पूर्णतः स्वस्थ हों। अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करने के यूँ तो कई तरीके हैं, उनमें से ही एक आसान तरीका है योगासन व प्राणायाम करना।

सिद्धासन 5

सिद्धासन नाम से ही ज्ञात होता है कि यह आसन सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाला है, इसलिए इसे सिद्धासन कहा जाता है। यमों में ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ है, नियमों में शौच श्रेष्ठ है वैसे आसनों में सिद्धासन श्रेष्ठ है।

नटराजासन 6

नटराजासन, लॉर्ड ऑफ द डांस पोज़ या डांसर पोज़ आधुनिक योग में एक खड़े, संतुलन, पीछे झुकने वाले आसन हैं। यह शास्त्रीय भारतीय नृत्य रूप भरतनाट्यम में एक मुद्रा से लिया गया है, जिसे नटराज मंदिर, चिदंबरम में मंदिर की मूर्तियों में दर्शाया गया है।

उत्थित पार्श्वकोणासन 7

उत्थित पार्श्वकोणासन, एक्सटेंडेड साइड एंगल पोज़, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आसन है। इसमें कई आवश्यक मांसपेशी समूहों का उपयोग करना शामिल है: पैर, टखने, कमर, छाती, फेफड़े, कंधे, रीढ़ और पेट।

वज्रासन 8

यह ध्यानात्मक आसन हैं। मन की चंचलता को दूर करता है। भोजन के बाद किया जानेवाला यह एक मात्र आसन हैं।

9

हलासन

Like Dislike Button
14 Votes
हलासन 9

इस आसन में शरीर का आकार हल जैसा बनता है। इससे इसे हलासन कहते हैं। हलासन हमारे शरीर को लचीला बनाने के लिए महत्वपूर्ण है। इससे हमारी रीढ़ सदा जवान बनी रहती है।

वीरभद्रासन 10

योग विज्ञान में वीरभद्रासन को योद्धाओं का आसन कहा जाता है। इस आसन को पावर योग (Power Yoga) का आधार माना जाता है। वीरभद्रासन को बिगिनर लेवल या आसान आसन माना जाता है।

11

भैरवासन

Like Dislike Button
12 Votes
भैरवासन Bhairavasana

भैरवासन या दुर्जेय मुद्रा, जिसे कभी-कभी सुपर्ता भैरवासना भी कहा जाता है, हठ योग में एक पुनरावर्ती आसन है, भैरवासन में शरीर को सीधे पैर और एक हाथ पर संतुलित किया गया है, जैसा कि वासिहसन में है। भैरव भगवान शिव के आठ पहलुओं में से एक है। मुद्रा को अण्कुशासन भी कहा जाता है, हाथी गोड़ मुद्रा।

12

तड़ासन

Like Dislike Button
12 Votes
तड़ासन 11

तड़ासन, माउंटेन पोज़ या समष्टि, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक स्थायी आसन है; यह मध्ययुगीन हठ योग ग्रंथों में वर्णित नहीं है। यह कई अन्य खड़े आसनों का आधार है।

13

शलभासन

Like Dislike Button
10 Votes
शलभासन 12

शलभासन, टिड्डी मुद्रा, या ग्रासहॉपर पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक प्रवण पीठ झुकने वाला आसन है।

विपरीत दण्डासन 13

विपरीत दण्डासन या उलटा स्टाफ पोज़ आधुनिक योग में एक उल्टा-सीधा झुकने वाला आसन व्यायाम के रूप में है। यह जमीन पर दोनों पैरों के साथ किया जा सकता है, या एक पैर सीधे ऊपर उठाया जा सकता है।

15

नावासन

Like Dislike Button
9 Votes
नावासन 14

नौका आसन इस आसन की अंतिम अवस्था में हमारे शरीर की आकृति नौका समान दिखाई देती है, इसी कारण इसे नौकासन कहते है। इस आसन की गिनती पीठ के बल लेटकर किए जाने वाले आसनों में मानी जाती है।

सूर्य नमस्कार 15

सूर्य नमस्कार योगासनों में सर्वश्रेष्ठ है। यह अकेला अभ्यास ही साधक को सम्पूर्ण योग व्यायाम का लाभ पहुंचाने में समर्थ है। इसके अभ्यास से साधक का शरीर निरोग और स्वस्थ होकर तेजस्वी हो जाता है। 'सूर्य नमस्कार' स्त्री, पुरुष, बाल, युवा त... अधिक पढ़ें

त्रिकोणासन 16

अपने दाएं एड़ी के केंद्र बिंदु को बाएं पैर के आर्थिक केंद्र की सीध में रखें|ध्यान रहे कि आपका पैर जमीन को दवा रहा हो शरीर को दोनों पैरों पर एक समान रूप से पढ़ रहा हो गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोड़ जाए

उष्ट्रासन 17

Ustrasana, Ushtrasana, या Camel Pose व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में घुटनों के बल झुकने वाला आसन है।

वृक्षासन 18

सीधे खड़े होकर दायें पैर को उठा कर बायें जंघा पर इस प्रकार रखें की पैर का पंजा नीचे की ओर तथा एड़ी जंघाके मूल में लगी हुई हो। दोनों हाथों को नमस्कार की स्थिति मे सामने रखिए। इस स्थिति में यथाशक्ति बने रहने के पश्चात इसी प्रकार दूसरे पैर से अभ्यास करें।

अष्टांग नमस्कार 19

अष्टाङ्ग नमस्कार या अष्टाङ्ग दण्डवत् प्रणाम्, सूर्य नमस्कार का एक चरण है जिसमें शरीर, आठ अंगों के द्वारा भूमि को स्पर्श करती है। ये आठ अंग हैं- दोनों पाँव, दोनों घुटने, छाती, ठुण्डी और दोनों हथेलियाँ। इसको 'दण्डवत प्रणाम' इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस मुद्रा में शरीर 'दण्डवत' हो जाता है।

जठर परिवर्तनासन Jathara Parivartanasana

व्यायाम के रूप में जठर परिवर्तनासन, संशोधित अब्दीन मुद्रा, बेली ट्विस्ट या स्पाइनल ट्विस्ट आधुनिक योग में एक पुनरावर्ती मोड़ आसन है।

पार्श्वोत्तानासन Parshvottanasana

पार्श्वोत्तानासन या तीव्र साइड स्ट्रेच पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में खड़े और आगे झुकने वाला आसन है।

23

शवासन

Like Dislike Button
8 Votes
शवासन 20

शव का अर्थ होता है मृत अर्थात अपने शरीर को शव के समान बना लेने के कारण ही इस आसन को शवासन कहा जाता है। इस आसन का उपयोग प्रायः योगसत्र को समाप्त करने के लिए किया जाता है। यह एक शिथिल करने वाला आसन है और शरीर, मन और आत्मा को नवस्फूर्ति प्रदान करता है।

सेतुबन्ध-सर्वाङ्गासन 21

सेतु बंध सर्वज्ञ, कंधों वाला समर्थित पुल या बस ब्रिज, जिसे सेतु बंधासन भी कहा जाता है, हठ योग और व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक उल्टा आसन है।

स्वस्तिकासन Svastikasana

स्वस्तिकासन हठ योग में एक प्राचीन ध्यान आसन है, जो क्रॉस-लेग्ड है। संस्कृत में स्वस्तिक का अर्थ शुभ होता है; यह सौभाग्य के एक प्राचीन हिंदू प्रतीक का नाम भी है। 

चक्रासन 22

पीठ के बल लेटकर घुटनों को मोड़ीए। एड़ीयां नितम्बों के समीप लगी हुई हों। दोनों हाथों को उल्टा करके कंधों के पीछे थोड़े अन्तर पर रखें इससे सन्तुलन बना रह्ता है। श्वास अन्तर भरकर कटिप्रदेश एवं छाती को ऊपर उठाइये। धीरे-धीरे हाथ एवं पैरों को समीप लाने का प्रयत्न करें, जिससे शरीर की चक्र जैसी आकृति बन जाए।

उत्कटासन 23

पैरों के पंजे भूमि पर टिके हुए हों तथा एड़ियों के ऊपर नितम्ब टिकाकर बैठ जाइए। दोनों हाथ घुटनों के ऊपर तथा घुटनों को फैलाकर एड़ियों के समानान्तर स्थिर करें।

उत्तानासन 24

उत्तानासन या स्टैंडिंग फ़ॉरवर्ड बेंड, जैसे कि पादहस्तासन जैसे पैर की उंगलियों को पकड़ लिया जाता है, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में आगे की ओर झुकने वाला आसन है।

अधोमुखश्वानासन Adho Mukha Shvanasana

यह संस्कृत के शब्द "अध" से लिया गया जिसका अर्थ है "नीचे", "मुख" का अर्थ है "चेहरा" और श्वान का अर्थ है "कुत्ता", और आसन का अर्थ है "मुद्रा"। अधोमुखश्वानासन मुद्रा मध्यवर्ती स्तर की योग मुद्रा है। जिसमें... अधिक पढ़ें

अनन्तासन Anantasana

अनंतासन आसन को विष्णु आसन भी कहा जाता है क्योंकि यह भगवान विष्णु के नाम पर रखा गया हैं।जब आप अनंतासन करते हैं तो आपका शरीर भगवान विष्णु के आराम मुद्रा जैसा दिखता है। अनंतासन एक संस्कृत भाषा का शब्द है जिसका पहला शब्द “अनंत” है जि... अधिक पढ़ें

बद्धकोणासन 25

बद्ध कोणासन, बाउंड एंगल पोज, थ्रोन पोज, बटरफ्लाई पोज या कोब्बलर पोज, और ऐतिहासिक रूप से भद्रासन कहा जाता है, हठ योग और आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में बैठा आसन है। यह एक ध्यान सीट के रूप में उपयुक्त है।

बिडालासन Bidalasana

बिडालासन या Marjariasana, दोनों का अर्थ है संस्कृत में कैट पोज़, व्यायाम के बाद आधुनिक योग में एक घुटना टेकना आसन है। एक पैर वाला एक प्रकार व्याघ्रासन, टाइगर पोज़ है।

चतुरंग दंडासन 26

चतुरंगा दंडासन या फोर-लिम्बर्ड स्टाफ पोज़, जिसे लो प्लैंक के रूप में भी जाना जाता है, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आसन है और सूर्य नमस्कार के कुछ रूपों में, जिसमें जमीन के समानांतर एक सीधा शरीर पैर की उंगलियों और हथेलियों द्वारा समर्थित है, कोहनी के साथ। शरीर के साथ समकोण पर।

गोमुखासन Gomukhasana

गौमुख का अर्थ होता है गाय का मुख अर्थात अपने शरीर को गौमुख के समान बना लेने के कारण ही इस आसन को गौमुखासन कहा जाता है। गौमुखासन तीन शब्दों की संधि से बना है - गौ + मुख + आसन।

पश्चिमोत्तानासन 27

पश्चिमोत्तानासन, बैठा हुआ फॉरवर्ड बेंड या इंटेंस डोर्सल स्ट्रेच हठ योग और आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में बैठा हुआ आगे की ओर झुकने वाला आसन है।

36

सुखासन

Like Dislike Button
7 Votes
सुखासन 28

ध्यान के लिए सुखासन महत्वपूर्ण आसन है। पद्‍मासन के लिए यह आसन विकल्प‌ हैं। पैरों में किसी भी प्रकार का अत्यधिक कष्ट हो तो यह आसन न करें। साइटिका अथवा रीढ़ के निचले भाग के आसपास किसी प्रकार का दर्द हो या घुटने की गंभीर बीमारी में इसका अभ्यास न करें।

उपविष्टकोणासन Upavista Konasana

उपविष्टकोणासन या "वाइड-एंगल सीड फॉरवर्ड बेंड" भी लिखा जाता है, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आसन है, जितना संभव हो उतना व्यापक रूप से पैरों के साथ सीधे बैठना, पैर की उंगलियों को पकड़ना और आगे झुकना।

ऊर्ध्वमुख श्वानासन 29

उर्ध्व मुख श्वानासन या उपर की ओर झुकना कुत्ता मुद्रा, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक पीछे झुकने वाला आसन है। यह आमतौर पर व्यापक रूप से किए गए सूर्य नमस्कार अनुक्रम का हिस्सा है, हालांकि इसके स्थान पर समान भुजंगासन का उपयोग किया जा सकता है।

39

बालासन

Like Dislike Button
6 Votes
बालासन 30

बालासन शवासन की भाँति पूरे शरीर व मन की थकान को दूर करता है।

दण्डासन 31

दंडासन या स्टाफ पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक आसन है।

गर्भासन Garbha Pindasana

गर्भासन एक योगासन है इसमें शरीर का स्वरूप गर्भ में स्थित शिशु की भांति होता है।

गरुडासन 32

गरुडासन सीधे खड़े होकर अपने बाऐं पेर को सीधा रखें और दाऐं पेर को बाऐं पेर के घुटने के ऊपर से रखकर दाऐं पेर को बाऐं पेर कि पिंडली के पीछे कस दें तथा अपनें हाथों को आपस में इस प्रकार कसें कि दाऐं हाथ की कोहनी के नीचे से बाऐं हाथ को... अधिक पढ़ें

राजकपोतासन 33

राजकपोतासन या [वन-लेग्ड] किंग पीजन पोज़ आधुनिक योग में एक बैठा बैक-झुकने आसन है। आसन के यिन योग रूप का नाम हंस मुद्रा है।

उत्थित हस्तपादाङ्गुष्ठासन 34

उत्थित हस्त पादाङ्गुष्ठासन, स्थायी रूप से बड़ा पैर पकड़ना या विस्तारित हाथ-से-बड़ा पैर की अंगुली का व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक स्थायी संतुलन आसन है|

अञ्जनेयासन 35

Crescent Moon Pose या Ashwa Sanchalanasana, Equestrian Pose एक लंगिंग बैक है जो व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में आसन करता है। इसे कभी-कभी सूर्य नमस्कार अनुक्रम में आसनों में से एक के रूप में शामिल किया जाता है|

अर्धचन्द्रासन 36

अर्ध चंद्रासन या हाफ मून पोज आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक स्थायी आसन है। इस आसन को खड़े होकर किया जाता है| अर्ध का अर्थ आधा और चंद्रासन का अर्थ चन्द्र के सामान किया गया आसन है|

47

बकासन

Like Dislike Button
5 Votes
बकासन 37

बकासन, और इसी तरह के काकासन हठ योग और आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में आसन को संतुलित कर रहे हैं। सभी विविधताओं में, ये आर्म बैलेंसिंग पोज़ होते हैं, जिसमें हाथों को फर्श पर लगाया जाता है, ऊपरी बांहों पर पिंडली होती है और पैर ऊपर उठते हैं।

गोरक्षासन Gorakshasana

हठ योग में गोरक्षासन एक आसन है। इसका उपयोग ध्यान के लिए और तांत्रिक साधना में किया जाता रहा है। 

हनुमानासन 38

हनुमानासन या बंदर मुद्रा व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक बैठा आसन है। यह फ्रंट स्प्लिट्स का योग संस्करण है।

जानुशीर्षासन 39

जानुशीर्षासन, हेड-टू-नोज़ पोज़, आधुनिक योग के विभिन्न विद्यालयों में व्यायाम के रूप में बैठा एक घुमा और आगे झुकने वाला आसन है।

क्रोंचासन Kraunchasana

क्रोंचासन या हेरोन मुद्रा, जिसे क्रौंचासन भी लिखा जाता है, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आसन है।

कूर्मासन 40

कूर्मासन, Tortoise Pose, या Turtle Pose व्यायाम के दौरान हठ योग और आधुनिक योग में आसन के आगे झुकना है।

53

मालासन

Like Dislike Button
5 Votes
मालासन Malasana

व्यायाम के रूप में हठ योग और आधुनिक योग में विभिन्न स्क्वैटिंग आसनों के लिए मालासन नाम का उपयोग किया जाता है। परंपरागत रूप से, और बी। के। एस। अयंगर की लाइट ऑन योगा, मलसाना या गारलैंड पोज़ में पैरों के साथ एक अलग स्क्वाटिंग पोज़ के... अधिक पढ़ें

मत्स्यासन 41

मत्स्यासन या मछली मुद्रा हठ योग और व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक पीछे झुकना आसन है। इसे आमतौर पर सर्वसंघासन या कंधे के बल खड़ा करने वाला एक काउंटर माना जाता है, विशेष रूप से अष्टांग विनयसा योग प्राथमिक श्रृंखला के संदर्भ में।

मत्स्येन्द्रासन 42

मत्स्येन्द्रासन, मत्स्येन्द्र की मुद्रा या मत्स्य मुद्रा के स्वामी, व्यायाम के रूप में हठ योग और आधुनिक योग में एक बैठे हुए आसन है। पूर्ण रूप कठिन पारिपूर्ण मत्स्येन्द्रासन है। एक सामान्य और आसान संस्करण है अर्ध मत्स्येन्द्रासन।

सर्वांगासन 43

सर्व अंग और आसन अर्थात सर्वांगासन। इस आसन को करने से सभी अंगों को व्यायाम मिलता है इसीलिए इसे सर्वांगासन कहते हैं। सावधानी: कोहनियाँ भूमि पर टिकी हुई हों और पैरों को मिलाकर सीधा रखें। पंजे ऊपर की ओर तने हुए एवं आँखें बंद हों अथवा पैर के अँगूठों पर दॄष्टि रखें।

स्प्लिट 44

एक विभाजन एक भौतिक स्थिति है जिसमें पैर एक दूसरे के अनुरूप होते हैं और विपरीत दिशाओं में विस्तारित होते हैं।

टिटिभासना 45

टिटिभासना या जुगनू मुद्रा व्यायाम के रूप में हठ योग और आधुनिक योग में एक हाथ-संतुलन आसन है।

सिंहासन Simhasana

व्यायाम के रूप में सिंघासन या सिंह मुद्रा हठ योग और आधुनिक योग में एक आसन है।

भारद्वाजासन Bharadvajasana

भारद्वाजसन या भारद्वाज का ट्विस्ट व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक ट्विस्टिंग आसन है। आसन ऋषि भारद्वाज को समर्पित है जो सात महान ऋषियों या ऋषि में से एक थे।

61

भेकासन

Like Dislike Button
3 Votes
भेकासन 46

मंडुकासन, या मेंढक आसन हठ योग और आधुनिक योग में बैठे आसनों का एक समूह है, जिसमें सभी शरीर को एक मेंढक की तरह आकार में रखते हैं। एक और मेंढक जैसा आसन है भिक्षासन।

कपोतासन 47

कपोतसाना या कबूतर मुद्रा व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में घुटनों के बल झुकने वाला आसन है।

मरीच्यासन 48

मरीच्यासन ऋषि मरीचि के नाम पर रखा गया है| यह आसन कमर और रीड़ की हड्डी के लिए लाभदायक है|

मयूरासन 49

मयूर का अर्थ होता है मोर। इसको करने से शरीर की आकृति मोर की तरह दिखाई देती है, इसलिए इसका नाम मयूरासन है।

परिघासन Parighasana

परिघासन या गेट पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक घुटना टेकना आसन है।

वृश्चिकासन 50

वृश्चिकासन या बिच्छू मुद्रा आधुनिक योग में एक उल्टा आसन है जो व्यायाम के रूप में एक प्रकोष्ठ संतुलन और बैकबेंड को जोड़ती है। योग पर प्रकाश इस मुद्रा के रूप में प्रकोष्ठ और हाथ संतुलन दोनों रूपों का इलाज करता है। यह कुछ योग परंपराओं में हेडस्टैंड चक्र का एक हिस्सा है।

प्रसारिता पादोत्तानासन 51

प्रसारिता पादोत्तानासन या वाइड स्टांस फ़ॉरवर्ड बेंड व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आगे की ओर झुकने वाला आसन है।

सुप्त पादांगुष्ठासन Supta Padangusthasana

सुप्त पादांगुष्ठासन धावक और अन्य एथलीथों के लिए अच्छा आसन है| बिग टो पोज़ के लिए रिक्लाइनिंग हैंड, या सुपाइन हैंड टू टो पोज़ व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक पुनरावर्ती आसन है।

त्रिविक्रमासन 52

त्रिविक्रमासन या खड़े विभाजन हठ योग में एक स्थायी आसन है।

70

तुलासन

Like Dislike Button
3 Votes
तुलासन Tulasana

तुलसासन, बैलेंस पोज़, डोलसाना, टोलसाना, या उदिता पद्मासन व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक हाथ-संतुलन आसन है।

उत्थिता वशिष्ठासन Utthita Vasisthasana

उत्थिता वशिष्ठासन या साइड प्लैंक पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक संतुलित आसन है।

72

वीरासन

Like Dislike Button
3 Votes
वीरासन 53

वीराना या हीरो पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक घुटने टेकने वाला आसन है। मध्यकालीन हठ योग ग्रंथों में इसी नाम के तहत एक क्रॉस-लेग मेडिटेशन आसन का वर्णन किया गया है। सुपता वीरासन मुद्रा का पुनर्पाठ रूप है; यह एक मजबूत खिंचाव प्रदान करता है।

योगनिद्रासन Yoganidrasana

योगनिद्रासन, या योगिक स्लीप पोज़ आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक आगे की ओर झुकने वाला आसन है। इसे कभी-कभी Dvi Pada Sirsasana कहा जाता है, लेकिन यह नाम मुद्रा के संतुलन के रूप का वर्णन करता है। हठ योग में, मुद्रा, पाशिनी मुद्रा, एक मुद्रा थी, प्राण के पलायन को रोकने के लिए एक सील, आसन नहीं।

अधोमुखवृक्षासन Adho Mukha Vrksasana

हाथ पर संतुलन द्वारा शरीर को स्थिर, उल्टे खड़ी स्थिति में शरीर का समर्थन करने का एक कार्य है। एक बुनियादी हस्तरेखा में, शरीर को सीधे हाथ और पैरों के साथ सीधा रखा जाता है, हाथों को लगभग कंधे-चौड़ाई के अलावा और पैरों को एक साथ रखा जाता है।

आकर्ण धनुरासन Akarna Dhanurasana

आकर्ण धनुरासन, जिसे आर्चर पोज़, बो और एरो पोज़ भी कहा जाता है, या शूटिंग बो पोज़ हठ योग और आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक आसन है। एक तीर छोड़ने के लिए आसन एक आर्चर जैसा दिखता है।

अष्टावक्रासन 54

अष्टावक्रासन या आठ-कोण मुद्रा आधुनिक योग में हाथ-संतुलन आसन है, जो कि राजा जनक के आध्यात्मिक गुरु ऋषि अष्टावक्र को समर्पित व्यायाम है।

भुजपीडासन 55

भुजपीडासन या कंधे दबाने की मुद्रा व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक हाथ-संतुलन आसन है। एक प्रकार की मुद्रा एक पैर सीधे बाहर की ओर फैला है।

दुर्वासासन Durvasasana

दुर्वासासन या दुर्वासा, हठ योग में एक उन्नत खड़े आसन है।

कौण्डिन्यासन Koundinyasana

कौण्डिन्यासन, या ऋषि कौण्डिन्य की मुद्रा, व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक हाथ-संतुलन आसन है। यह दोनों पैर मुड़े हुए या सहायक पैर के ऊपर एक पैर के साथ किया जा सकता है, दूसरा पैर सीधा। पक्का गालवसना में एक पैर मुड़ा होता है, पैर शरीर के नीचे उल्टे हाथ पर टिका होता है।

कुक्कुटासन Kukkutasana

कुक्कुटासन, कॉकरेल पोज़ या रोस्टर आसन हठ योग और व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक आसन है।

81

लोलासन

Like Dislike Button
2 Votes
लोलासन Lolasana

लोलसाना या लटकन मुद्रा व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक हाथ-संतुलन आसन है।

82

मकरासन

Like Dislike Button
2 Votes
मकरासन Makarasana

मकरासन या क्रोकोडाइल मुद्रा हठ योग और आधुनिक योग में व्यायाम के रूप में एक पुनरावर्ती आसन है।

83

पाशासन

Like Dislike Button
2 Votes
पाशासन 56

पाशासन या नोज पोज़ एक आसन है।

विपरीत करणी Viparita Karani

विपरीता करणी या दीवार की मुद्रा में दोनों एक आसन और हठ योग में एक मुद्रा है। व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में, यह आमतौर पर एक दीवार और कभी-कभी कंबल के ढेर का उपयोग करके पूरी तरह से समर्थित मुद्रा है।

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

Keywords:

समस्त योग आसन की सूची हिंदी व अंग्रेजी में योगासन के प्रकार व उनके फायदे योगासन के चित्र व नाम चर्बी, वजन,व पेट कम करने के लिए योगासन

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. more information

The cookie settings on this website are set to "allow cookies" to give you the best browsing experience possible. If you continue to use this website without changing your cookie settings or you click "Accept" below then you are consenting to this.

Close