Change Language to English

14 लोकप्रिय भारतीय पुल

समय में वापस लोग, एक जंगल समाशोधन कि एक नदी में खुलता है और एक मृत पेड़ नदी के एक तरफ से दूसरे करने के लिए खींच के माध्यम से चल रहा है। और वहां पहला पुल आता है। इस खोज के बाद से, इंजीनियरिंग और डिजाइन की सीमाओं को धक्का दिया और मृत पेड़ पर सुधार करके इसे कहीं भी पुल बनाने के लिए संभव बनाया – नदियों को फैलाते हुए, पहाड़ों को पार करते हुए और देशों को जोड़ते हुए। स्पष्ट रूप से, हम पुलों के बिना रह चुके हैं।

पुल मानव द्वारा बनाई गई एक असाधारण संरचना हैं। इन्हे नदियों, घाटियों और अन्य बाधाओं से विभाजित स्थानों को जोड़ने के लिए बनाया जाता है। ये अति महत्वपूर्ण संरचनाएं होती हैं जो व्यापारिक रास्ते खोलती हैं, यात्रा के समय को कम करती हैं, क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था को तेज करती हैं और लोगों की नौकरी की संभावनाओं को बढ़ाती हैं। यहां भारत के लोकप्रिय पुलों की सूची दी गई है। ये पुल अत्याधुनिक इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी और दूरदर्शिता के प्रतीक हैं। इनमें से कुछ पुल दुनिया के सबसे लंबे और सबसे ऊंचे पुलों में से एक हैं। कुछ पुलों को स्टील से बनाया जाता है, जबकि कुछ में कंक्रीट और अन्य धातुओं का उपयोग किया गया है। ये पुल लोगों के जीवन को आसान बनाते हैं। इनमे से कुछ तो ऐसे दुर्गम स्थानों पर बनाए गए हैं जहां बनाना लगभग संभव लग रहा था। ऐसी शानदार संरचनाओं के निर्माण के लिए हमारे सिविल इंजीनियर्स बधाई के पात्र है।


ढोला सादिया पुल Dhola Sadiya Bridge

भूपेन हजारिका सेतु या ढोला-सदिया सेतु भारत का सबसे लम्बा पुल है। जिसका उद्घाटन 26 मई 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कर दिया गया। यह 9.15 किलोमीटर (5.69 मील) लम्बा सेतु लोहित नदी को पार करता है, जो ब्रह्मपुत्र नदी की एक मुख्य उपनदी है। इसका एक छोर अरुणाचल प्रदेश के ढोला कस्बे में और दूसरा छोर असम के तिनसुकिया जिले के सदिया कस्बे में है। इस से अरुणाचल प्रदेश और असम के बीच के यातायात के समय में चार घंटे की कमी आएगी। ढोला-सदिया सेतु महाराष्ट्र के मुंबई नगर के बान्द्रा-वर्ली समुद्रसेतु से 3.55 किमी (2.21 मील) अधिक लम्बा है।

Read More

दिबांग नदी पुल Dibang River Bridge

एनएच 13 ट्रांस अरुणाचल राजमार्ग के हिस्से के रूप में 2018 में पूरा हुआ दिबांग रिवर ब्रिज, दिबांग नदी के पार 6.2 किमी लंबा सड़क पुल है, जो बोमजीर और मालेक गांवों को जोड़ता है और अरुणाचल प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में दंबुक और रोइंग के बीच सभी मौसम की कनेक्टिविटी प्रदान करता है। यह रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पुल भारतीय सेना की राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और वास्तविक नियंत्रण सीमा क्षेत्रों के ईस्टर सेक्टर में चीनी सैन्य खतरे का मुकाबला करने में मदद करता है। इसे इडु मिश्मी भाषा में "टैलोन" के रूप में जाना जाता है और पदम लोगों द्वारा बसाए गए क्षेत्र में "सिकंग" कहा जाता है। इसे कभी-कभी "सिसेरी नदी पुल" के रूप में भी जाना जाता है|

Read More

महात्मा गांधी सेतु Mahatma Gandhi Setu
महात्मा गांधी सेतु पटना से वैशाली जिला को जोड़ने को लिये गंगा नदी पर उत्तर-दक्षिण की दिशा में बना एक पुल है। यह दुनिया का सबसे लम्बा, एक ही नदी पर बना सड़क पुल है। इसकी लम्बाई 5,750 मीटर है। भारत की प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने इसका उद्घाटन मई 1982 में किया था। इसका निर्माण गैमोन इंडिया लिमिटेड ने किया था। वर्तमान में यह राष्ट्रीय राजमार्ग 19 का हिस्सा है।

Read More

बांद्रा वर्ली समुद्र लिंक Bandra Worli Sea Link
बांद्रा-वर्ली समुद्रसेतु (आधिकारिक राजीव गांधी सागर सेतु) 8-लेन का, तार-समर्थित कांक्रीट से निर्मित पुल है। यह बांद्रा को मुम्बई के पश्चिमी और दक्षिणी (वर्ली) उपनगरों से जोड़ता है और यह पश्चिमी-द्वीप महामार्ग प्रणाली का प्रथम चरण है। 16 अरब रुपये (40 करोड़ $) की महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास निगम की इस परियोजना के इस चरण को हिन्दुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा पूरा किया गया है। इस पुल का उद्घाटन 30 जून, 2009 को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन प्रमुख श्रीमती सोनिया गांधी द्वारा किया गया लेकिन जन साधारण के लिए इसे 1 जुलाई, 2009 को मध्य-रात्रि से खोला गया। साढ़े पांच किलोमीटर लंबे इस पुल के बनने से बांद्रा और वर्ली के बीच यात्रा में लगने वाला समय 45 मिनट से घटकर मात्र 6-8 मिनट रह गया है। इस पुल की योजना 1980 के दशक में बनायी गई थी, किंतु यह यथार्थ रूप में अब जाकर पूर्ण हुआ है।यह सेतु मुंबई और भारत में अपने प्रकार का प्रथम पुल है। इस सेतु-परियोजना की कुल लागत 16.50 अरब रु है। इस पुल की केवल प्रकाश-व्यवस्था करने के लिए ही 9 करोड़ रु का व्यय किया गया है। इसके कुल निर्माण में 38,000 कि.मी इस्पात रस्सियां, 5,75,000 टन कांक्रीट और 6,000 श्रमिक लगे हैं। इस सेतु में लगने वाले इस्पात के खास तारों को चीन से मंगाया गया था। जंग से बचाने के लिए इन तारों पर खास तरह का पेंट लगाने के साथ प्लास्टिक के आवरण भी चढ़ाए गए हैं। अब तैयार होने पर इस पुल से गुजरने पर यात्रियों को चुंगी (टोल) कर देना तय हुआ है। यह चुंगी किराया प्रति वाहन 40-50 रु तक होगा। इस पुल की कुल 7 कि.मी (ढान सहित) के यात्रा-समय में लगभग 1 घंटे की बचत और कई सौ करोड़ वाहन संचालन व्यय एवं ईंधन की भी कटौती होगी। इस बचत को देखते हुए इसकी चुंगी नगण्य है। प्रतिदिन लगभग सवा लाख वाहन इस पुल पर से गुजरेंगे।

Read More

बोगीबिल ब्रिज Bogibeel Bridge
बोगीबील ब्रिज (असमिया: বগীবিল / बगीबिल ; उच्चारण : बोगीबील ) भारत के असम राज्य में ब्रह्मपुत्र नदी पर बना एक पुल है। इस पर रेलपथ तथा सड़कपथ दोनों बने हुए हैं। यह पुल असम के धेमाजी जिला और डिब्रूगढ़ जिला को जोड़ता है। इस पर सन 2002 में कार्य आरम्भ हुआ था। यह 4.94 किमी लम्बा है और भारत का सबसे लम्बा रेल-सह-सड़क सेतु है। यह भारत का पाँचवा सबसे बड़ा सेतु है तथा एशिया का दूसरा सबसे लंबा रेल-रोड सेतु है। इसका उद्घाटन भारत के प्रधान मन्त्री नरेन्द्र मोदी ने 25 दिसम्बर 2018 को सुशासन दिवस के अवसर पर किया था।बोगीबील सेतु का जीवनकाल 120 वर्ष अनुमानित है। पुल को बनाने में 30 लाख सीमेंट की बोरियों का इस्तेमाल किया गया। इतनी सीमेंट से 41 ओलिंपिक स्वीमिंग पूल बनाए जा सकते हैं।

Read More

विक्रमशिला सेतु Vikramshila Setu
विक्रमशिला सेतु भारतीय धर्म बिहार के भागलपुर के पास गंगा में एक पुल है, जिसका नाम विक्रमाशिला के प्राचीन महाविहार के नाम पर रखा गया था, जिसे राजा धर्मपाल (783 से 820 एडी) द्वारा स्थापित किया गया था। विक्रमशिला सेतु भारत में पानी पर 5 वां सबसे लंबा पुल है। 4.7 किमी लंबा दो लेन पुल गंगा के विपरीत किनारे पर चल रहे एनएच 80 और एनएच 31 के बीच एक लिंक के रूप में कार्य करता है। यह गंगा के दक्षिण तट पर भागलपुर की तरफ बरारी घाट से उत्तर बैंक पर नवगछिया तक चलता है। यह भागलपुर को पूर्णिया और कैथीर से भी जोड़ता है। इसने भागलपुर और गंगा में स्थानों के बीच सड़क यात्रा दूरी को काफी कम कर दिया है। जून 2018 में, 4,37 9.01 करोड़ रुपये के व्यय के साथ, विक्रमशिला रेलवे स्टेशन और कटारिया रेलवे स्टेशन (नवगछिया रेलवे स्टेशन के पास) के बीच एक और 24 किमी लंबी विक्रमशिला -कटरिया गंगा ब्रिज (पीरपैती-नवगछिया) को मंजूरी दे दी गई थी। वाई आकार में ब्रिज के दोनों तरफ से रेल लाइन मिलेगी। उत्तर में कटरिया और नवगछिया तथा दक्षिण में विक्रमशिला और शिवनारायणपुर स्टेशन की तरफ लाइन जुड़ेगी।

Read More

वेम्बनाड रेल पुल Vembanad Rail Bridge

वेम्बनाड रेल पुल कोच्चि, केरल में एडापल्ली और वल्लारपदम को जोड़ने वाली एक रेल है। 4,620 मीटर की कुल लंबाई के साथ, यह लंबा रेलवे पुल है।

पुल का निर्माण जून 2007 में शुरू हुआ और 31 मार्च 2010 को पूरा हुआ। रेल पुल का निर्माण रेल विकास निगम लिमिटेड, चेन्नई पीआईयू, ए गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एंटरप्राइज (आरवीएनएल) द्वारा किया गया था।

Read More

दीघा-सोनपुर रेल-सह-सड़क पुल Digha–Sonpur Bridge
दीघा-सोनपुर रेल-सह-सड़क पुल अथवा जे पी सेतु (लोकनायक जय प्रकाश नारायण सेतु), गंगा पर बना पुल है जो पटना और सोनपुर को जोड़ता है। इसकी लम्बाई 4,556 मीटर है। 4,556 मीटर (14,948 फीट) लंबाई का यह पुल भारत में असम में बोगीबील ब्रिज के बाद दूसरा सबसे लंबा रेल-सह-सड़क पुल है। दीघा-गाँधी मैदान सड़क से दीघा सड़क सेतु की दूरी 1.7 किलोमीटर है। दीघा सह सम्पर्क पथ छह लेन का है। दीघा सड़क सेतु के 2.56 कि॰मी॰ लम्बे सोनपुर एप्रोच के लिए जमीन मालिकों की आपसी सहमति से उनकी जमीन का 99 साल के लिए अनवरत लीज/ परपीचुअल लीज (Perpetual lease) रजिस्टर्ड एग्रीमेण्ट कर सरकार ने उन्हें जमीन की कीमत का चौगुनी मुआवजा देकर एग्रीमेण्ट किया है। सोनपुर एप्रोच के 600 मीटर दूरी में एलिवेटेड स्ट्रक्चर है। 2.56 कि॰मी॰ सोनपुर एप्रोच में सारण जिला के गंगाजल, चौसिया, भरपुरा और सुलतानपुर गाँव की जमीन है। जेपी सेतु को नेशनल हाइवे-19 से हाजीपुर-छपरा फोर लेन सड़क से जोड़ा जायेगा।

Read More

आरा-छपरा सेतु Arrah–Chhapra Bridge

अर्र-छपरा ब्रिज (भोजपुरी: आरा-छपरा सेतु) या वीर कुंवर सिंह सेतु 1,920 मीटर (6,300 फीट) की मुख्य पुल लंबाई में फैला हुआ पुल है। पुल भारत में गंगा नदी को पार करता है, जो बिहार राज्य में भोजपुर और सारण जिलों में अर्राह और छपरा शहरों को जोड़ता है। पुल बिहार के उत्तरी और दक्षिणी भागों के बीच एक सड़क मार्ग का मार्ग प्रदान करता है।

राजनेता नीतीश कुमार ने जुलाई 2010 में अर्र-छपरा पुल की आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा भोजपुरी भाषी जिलों को जोड़ने की है। पुल ने छपरा और अरहा के बीच की दूरी 130 किमी से घटाकर 40 किमी कर दी है। । इसने अरवन, औरंगाबाद और भभुआ जिलों की दूरी सिवान, छपरा और गोपालगंज जिलों से बहुत कम कर दी है। लोग पटना जिले में न जाकर दक्षिण से उत्तर बिहार जा सकते हैं। यह पुल एनएच -19 को छपरा के दोरीगंज में और अरहर के कोइलवर में एनएच -30 को चार लेन के पुल से जोड़ता है।

Read More

गोदावरी चौथा पुल Godavari Fourth Bridge

गोदावरी चौथा पुल या कोव्वुर-राजमुंदरी 4 वाँ पुल भारत के राजमुंदरी में गोदावरी नदी के पार बनाया गया है। यह दोहरा पुल कोवावुर से राजामेंद्रवरम शहर में कथेरू, कोंथमुरु, पालचेरला क्षेत्रों के माध्यम से राजामेन्द्रवरम में दीवानचेरुवु जंक्शन को जोड़ता है। इस पुल का निर्माण उद्देश्य कोलकाता और चेन्नई के बीच सड़क की दूरी को कम से कम 150 किलोमीटर (93 मील) कम करना था।

पुल की आधारशिला 2009 में तत्कालीन मुख्यमंत्री वाई.एस. राजशेखर रेड्डी। 4 पुल को 2012 में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन कई देरी के कारण इसे 2015 में यातायात के लिए खोल दिया गया था।

Read More

मुंगेर गंगा ब्रिज Munger Ganga Bridge

श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल, भारत के बिहार राज्य के मुंगेर में, गंगा के पार एक रेल-सह-सड़क पुल है। यह पुल मुंगेर जिला मुंगेर-जमालपुर जुड़वां शहरों को उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों से जोड़ता है। श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल बिहार में गंगा पर तीसरा ऐसा पुल हे जिसमे रेल-सह-सड़क पुल है।3.692 किलोमीटर लंबे (2.294 मील) इस पुल की लागत 9,300 करोड़ रु है। जो मोकामा के पास राजेंद्र सेतु से 55 किमी और भागलपुर के विक्रमशिला सेतु से 68 किमी की दूरी पर स्थित है। यह पुल गंगा के दक्षिणी किनारे पर NH 33 और गंगा के उत्तरी भाग पर NH 31 को जोड़ेगा। श्रीकृष्ण सेतु पूर्वी रेलवे के साहिबगंज लूप लाइन पर जमालपुर जंक्शन और रतनपुर रेलवे स्टेशन को जोड़ता है। यह पुल के उत्तर छोर पर सबदलपुर जंक्शन को साहेबपुर कमाल जंक्शन और खगड़िया जंक्शन के जो की पूर्व मध्य रेलवे के बरौनी-कटिहार सेक्शन पर स्थित है।  यह पुल बेगूसराय और खगड़िया जिलों को संभागीय मुख्यालय मुंगेर शहर से भी जोड़ता है।

2002 में एक वीडियो कॉन्फ्रेंस सिस्टम के माध्यम से, तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा इस पुल पर निर्माण कार्य का उद्घाटन किया गया था।  ब्रिज को औपचारिक रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 12 मार्च 2016 को मालगाड़ियों के लिए खोला गया था।  

Read More

हावड़ा ब्रिज Howrah Bridge
रवीन्द्र सेतु भारत के पश्चिम बंगाल में हुगली नदी के उपर बना एक "कैन्टीलीवर सेतु" है। यह हावड़ा को कोलकाता से जोड़ता है। इसका मूल नाम "नया हावड़ा पुल" था जिसे बदलकर 14 जून सन् 1965 को 'रवीन्द्र सेतु' कर दिया गया। किन्तु अब भी यह "हावड़ा ब्रिज" के नाम से अधिक जाना जाता है। यह अपने तरह का छठवाँ सबसे बड़ा पुल है। सामान्यतया प्रत्येक पुल के नीचे खंभे होते है जिन पर वह टिका रहता है परंतु यह एक ऐसा पुल है जो सिर्फ चार खम्भों पर टिका है दो नदी के इस तरफ और पौन किलोमीटर की चौड़ाई के बाद दो नदी के उस तरफ। सहारे के लिए कोई रस्से आदि की तरह कोई तार आदि नहीं। इस दुनिया के अनोखे हजारों टन बजनी इस्पात के गर्डरों के पुल ने केवल चार खम्भों पर खुद को इस तरह से बैलेंस बनाकर हवा में टिका रखा है कि 80 वर्षों से इस पर कोई फर्क नहीं पडा है जबकि लाखों की संख्या में दिन रात भारी वाहन और पैदल भीड़ इससे गुजरती है। अंग्रेजों ने जब इस पुल की कल्पना की तो वे ऐसा पुल बनाना चाहते थे कि नीचे नदी का जल मार्ग न रुके। अतः पुल के नीचे कोई खंभा न हो। ऊपर पुल बन जाय और नीचे हुगली में पानी के जहाज और नाव भी बिना अवरोध चलते रहें। ये एक झूला अथवा कैंटिलिवर पुल से ही संभव था| इस पुल में प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोगो का सफर तय होता है

Read More

रामसेतु Adam's Bridge
रामसेतु, तमिलनाडु, भारत के दक्षिण पूर्वी तट के किनारे रामेश्वरम द्वीप तथा श्रीलंका के उत्तर पश्चिमी तट पर मन्नार द्वीप के मध्य प्रभु श्रीराम व उनकी वानर सेना द्वारा सीता माता को रावण से मुक्त कराने के लिए बनाई गई एक शृंखला (मार्ग)है। भौगोलिक प्रमाणों से पता चलता है कि किसी समय यह सेतु भारत तथा श्रीलंका को भू मार्ग से आपस में जोड़ता था। हिन्दू पुराणों की मान्यताओं के अनुसार इस सेतु का निर्माण अयोध्या के राजा राम श्रीराम की सेना के दो सैनिक जो की वानर थे, जिनका वर्णन प्रमुखतः नल-नील नाम से रामायण में मिलता है, द्वारा किये गया था, यह पुल 48 किलोमीटर (30 मील) लम्बा है तथा मन्नार की खाड़ी (दक्षिण पश्चिम) को पाक जलडमरूमध्य (उत्तर पूर्व) से अलग करता है। कुछ रेतीले तट शुष्क हैं तथा इस क्षेत्र में समुद्र बहुत उथला है, कुछ स्थानों पर केवल 3 फुट से 30 फुट (1 मीटर से 10 मीटर) जो नौगमन को मुश्किल बनाता है। यह कथित रूप से 15 शताब्दी तक पैदल पार करने योग्य था जब तक कि तूफानों ने इस वाहिक को गहरा नहीं कर दिया।

Read More

चिनाब पुल Chenab Bridge

चिनाब पुल एक भारतीय रेलवे स्टील और कंक्रीट आर्च ब्रिज है जो भारत में जम्मू और कश्मीर के रियासी जिले में बक्कल और कौरी के बीच निर्माणाधीन है। पूरा होने पर, पुल नदी के ऊपर 359 मीटर (1,178 फीट) की ऊंचाई पर चेनाब नदी को खोद देगा, जिससे यह दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल बन जाएगा। नवंबर 2017 में मुख्य आर्च के निर्माण की शुरुआत के लिए आधार समर्थन को पूर्ण घोषित किया गया था।

Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

Keywords:

भारत में लोकप्रिय पुल प्रसिद्ध भारतीय पुल भारत में सर्वश्रेष्ठ पुल अद्भुत भारतीय पुल भारत में शीर्ष पुल