Change Language to English

24 सबसे खतरनाक और जानलेवा वायरस

विषाणु (virus) अकोशिकीय अतिसूक्ष्म जीव हैं जो केवल जीवित कोशिका में ही वंश वृद्धि कर सकते हैं। ये नाभिकीय अम्ल और प्रोटीन से मिलकर गठित होते हैं, शरीर के बाहर तो ये मृत-समान होते हैं परंतु शरीर के अंदर जीवित हो जाते हैं। इन्हे क्रिस्टल के रूप में इकट्ठा किया जा सकता है। एक विषाणु बिना किसी सजीव माध्यम के पुनरुत्पादन नहीं कर सकता है। यह सैकड़ों वर्षों तक सुशुप्तावस्था में रह सकता है और जब भी एक जीवित मध्यम या धारक के संपर्क में आता है उस जीव की कोशिका को भेद कर आच्छादित कर देता है और जीव बीमार हो जाता है। एक बार जब विषाणु जीवित कोशिका में प्रवेश कर जाता है, वह कोशिका के मूल आरएनए एवं डीएनए की जेनेटिक संरचना को अपनी जेनेटिक सूचना से बदल देता है और संक्रमित कोशिका अपने जैसे संक्रमित कोशिकाओं का पुनरुत्पादन शुरू कर देती है। वायरस कोशिका के बाहर तो मरे हुए ऱहते है लेकिन जब ये कोशिका मैंं प्रवेश करते है तो इनका जीवन चक्र प्रारम्भ होने लगता है |


कोरोनावायरस Coronavirus
कोरोनावायरस (Coronavirus) कई प्रकार के विषाणुओं (वायरस) का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग उत्पन्न करता है। यह आरएनए वायरस होते हैं। इनके कारण मानवों में श्वास तंत्र संक्रमण पैदा हो सकता है जिसकी गहनता हल्की से लेकर अति गम्भीर तक हो सकती है। गाय और सूअर में इनके कारण अतिसार हो सकता है जबकि इनके कारण मुर्गियों के ऊपरी श्वास तंत्र के रोग उत्पन्न हो सकते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या विषाणुरोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है। अभी तक रोगलक्षणों का उपचार किया जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे।

Read More

इबोला वायरस Ebola virus
इबोला विषाणु रोग (EVD) या इबोला हेमोराहैजिक बुखार (EHF) इबोला विषाणु के कारण लगने वाला अत्यन्त संक्रामक एवं घातक रोग है। आम तौर पर इसके लक्षण वायरस के संपर्क में आने के दो दिनों से लेकर तीन सप्ताह के बीच शुरू होता है, जिसमें बुखार, गले में खराश, मांसपेशियों में दर्द और सिरदर्दहोता है। आम तौर पर मतली, उल्टी और डायरिया होने के साथ-साथ जिगर और गुर्दाका कामकाज धीमा हो जाता है। इस स्थिति में, कुछ लोगों को खून बहने की समस्या शुरू हो जाती है।

Read More

मारबर्ग वाइरस Marburg virus
मारबर्ग वाइरस एक विषाणु है। मारबर्ग वायरस (MARV) मनुष्यों और गैर-अमानवीय प्राइमेट में वायरल रक्तस्रावी बुखार के रूप में मारबर्ग वायरस रोग का कारण बनता है। वायरस को बेहद खतरनाक माना जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे एक जोखिम समूह 4 पैथोजन (बायोसैफ्टी स्तर 4-समतुल्य समति की आवश्यकता) के रूप में रेट किया है।

Read More

MERS-CoV
मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (MERS), जिसे ऊंट फ्लू भी कहा जाता है, MERS-coronavirus (MERS-CoV) के कारण होने वाला एक वायरल श्वसन संक्रमण है। लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं। उनमें बुखार, खांसी, दस्त और सांस की तकलीफ शामिल हैं। यह बीमारी आमतौर पर अन्य स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों में अधिक गंभीर होती है। मृत्यु दर निदान मामलों का लगभग एक तिहाई है।

Read More

रेबीज़ Rabies
रेबीज़ एक विषाणु जनित बीमारी है जिस के कारण अत्यंत तेज इन्सेफेलाइटिस इंसानों एवं अन्य गर्म रक्तयुक्त जानवरों में हो जाता है। प्रारंभिक लक्षणों में बुखार और एक्सपोजर के स्थल पर झुनझुनी शामिल हो सकते हैं। इन लक्षणों के बाद निम्नलिखित एक या कई लक्षण होते हैं: हिंसक गतिविधि, अनियंत्रित उत्तेजना, पानी से डर, शरीर के अंगों को हिलाने में असमर्थता, भ्रम, और होश खो देना। लक्षण प्रकट होने के बाद, रेबीज़ का परिणाम लगभग हमेशा मौत है। रोग संक्रमण और लक्षणों की शुरुआत के बीच की अवधि आमतौर पर एक से तीन महीने होती है। तथापि, यह समय अवधि एक सप्ताह से कम से लेकर एक वर्ष से अधिक तक में बदल सकती है। यह समय अवधि उस दूरी पर निर्भर करता है जिसे विषाणु के लिए केंद्रीय स्नायुतंत्र तक पहुँचने के लिए तय करना आवश्यक है।

Read More

इनफ़्लुएंज़ा 2
इनफ्लुएंजा एक विशेष समूह के वायरस के कारण मानव समुदाय में होनेवाला एक संक्रामक रोग है। इसमें ज्वर और अति दुर्बलता विशेष लक्षण हैं। फुफ्फुसों के उपद्रव की इसमें बहुत संभावना रहती है। यह रोग प्राय: महामारी के रूप में फैलता है। बीच-बीच में जहाँ-तहाँ रोग होता रहता है।

Read More

7

डेंगू

Like Dislike Button
0 Votes
डेंगू Dengue
डेंगू बुख़ार एक संक्रमण है जो डेंगू वायरस के कारण होता है। डेंगू का इलाज समय पर करना बहुत जरुरी होता हैं. मच्छर डेंगू वायरस को संचरित करते (या फैलाते) हैं। डेंगू बुख़ार को "हड्डीतोड़ बुख़ार" के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इससे पीड़ित लोगों को इतना अधिक दर्द हो सकता है कि जैसे उनकी हड्डियां टूट गयी हों। डेंगू बुख़ार के कुछ लक्षणों में बुखार; सिरदर्द; त्वचा पर चेचक जैसे लाल चकत्ते तथा मांसपेशियों और जोड़ों का दर्द शामिल हैं। कुछ लोगों में, डेंगू बुख़ार एक या दो ऐसे रूपों में हो सकता है जो जीवन के लिये खतरा हो सकते हैं। पहला, डेंगू रक्तस्रावी बुख़ार है, जिसके कारण रक्त वाहिकाओं (रक्त ले जाने वाली नलिकाएं), में रक्तस्राव या रिसाव होता है तथा रक्त प्लेटलेट्स (जिनके कारण रक्त जमता है) का स्तर कम होता है। दूसरा डेंगू शॉक सिंड्रोम है, जिससे खतरनाक रूप से निम्न रक्तचाप होता है। डेंगू वायरस 3 भिन्न-भिन्न प्रकारों के होते हैं। यदि किसी व्यक्ति को इनमें से किसी एक प्रकार के वायरस का संक्रमण हो जाये तो आमतौर पर उसके पूरे जीवन में वह उस प्रकार के डेंगू वायरस से सुरक्षित रहता है। हलांकि बाकी के तीन प्रकारों से वह कुछ समय के लिये ही सुरक्षित रहता है। यदि उसको इन तीन में से किसी एक प्रकार के वायरस से संक्रमण हो तो उसे गंभीर समस्याएं होने की संभावना काफी अधिक होती है। लोगों को डेंगू वायरस से बचाने के लिये कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। डेंगू बुख़ार से लोगों को बचाने के लिये कुछ उपाय हैं, जो किये जाने चाहिये। लोग अपने को मच्छरों से बचा सकते हैं तथा उनसे काटे जाने की संख्या को सीमित कर सकते हैं। वैज्ञानिक मच्छरों के पनपने की जगहों को छोटा तथा कम करने को कहते हैं। यदि किसी को डेंगू बुख़ार हो जाय तो वह आमतौर पर अपनी बीमारी के कम या सीमित होने तक पर्याप्त तरल पीकर ठीक हो सकता है। यदि व्यक्ति की स्थिति अधिक गंभीर है तो, उसे अंतः शिरा द्रव्य (सुई या नलिका का उपयोग करते हुये शिराओं में दिया जाने वाला द्रव्य) या रक्त आधान (किसी अन्य व्यक्ति द्वारा रक्त देना) की जरूरत हो सकती है। 1960 से, काफी लोग डेंगू बुख़ार से पीड़ित हो रहे हैं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यह बीमारी एक विश्वव्यापी समस्या हो गयी है। यह 110 देशों में आम है। प्रत्येक वर्ष लगभग 50-100 मिलियन लोग डेंगू बुख़ार से पीड़ित होते हैं। वायरस का प्रत्यक्ष उपचार करने के लिये लोग वैक्सीन तथा दवाओं पर काम कर रहे हैं। मच्छरों से मुक्ति पाने के लिये लोग, कई सारे अलग-अलग उपाय भी करते हैं। डेंगू बुख़ार का पहला वर्णन 1779 में लिखा गया था। 20वीं शताब्दी की शुरुआत में वैज्ञानिकों ने यह जाना कि बीमारी डेंगू वायरस के कारण होती है तथा यह मच्छरों के माध्यम से संचरित होती (या फैलती) है। लक्षण बुखार आना, ठंड लगना ,मांसपेशी व जोड़ों में दर्द, कमजोरी महसूस करना , चक्कर आना रक्त में platelets की संख्या कम होना, नब्ज कमजोर चलना मृत्यु की संभावना रहना

Read More

रोटावाइरस Rotavirus
रोटावायरस छोटे बच्चों में अतिसार का प्रमुख कारण है यह डबल-स्ट्रैण्डेड आर एन ए विषाणु की एक जाति है। लगभग पाँच वर्ष की आयु में विश्व के लगभग सभी बच्चे रोटावायरस से कम से कम एक बार अवश्य संक्रमित होते हैं।

Read More

सार्स कोरोनावाइरस 3
सार्स कोरोनावाइरस एक विषाणु है। यह श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है। सार्स कोरोनावाइरस द्वारा जनित श्वसन से संबंधित रोग है। नवम्बर 2002 और जुलाई 2003 के बीच, दक्षिणी चीन में सार्स रोग प्रकोप आरम्भ हुआ जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न देशों में 8273 लोग संक्रमित हुए एवं 775 लोगों की मृत्यु हो गयी थी, इसमें सबसे अधिक संख्या हाँगकांग की रही! 2020 में कोरोनावायरस तो होती ही खतरनाक साबित हुआ और इसकी शुरुआत 2020 में वहां शहर चाइना से हुई थी और सबसे ज्यादा संक्रमित लोग अमेरिका में हुए और सबसे ज्यादा मृत्यु इटली में हुई.

Read More

एचआईवी / एड्स HIV/AIDS

एचआईवी / एड्स, या मानव इम्यूनो वायरस, कुछ लेखकों द्वारा एक वैश्विक महामारी माना जाता है। हालांकि, डब्ल्यूएचओ वर्तमान में एचआईवी का वर्णन करने के लिए 'वैश्विक महामारी' शब्द का उपयोग करता है। 2018 तक, लगभग 37.9 मिलियन लोग विश्व स्तर पर एचआईवी से संक्रमित हैं। 2018 में एड्स से लगभग 770,000 मौतें हुईं।

Read More

11

चेचक

Like Dislike Button
0 Votes
चेचक Smallpox
चेचक (शीतला, बड़ी माता, स्मालपोक्स) एक विषाणु जनित रोग है। श्वासशोथ एक संक्रामक बीमारी थी, जो दो वायरस प्रकारों, व्हेरोला प्रमुख और व्हेरोला नाबालिग के कारण होती है। इस रोग को लैटिन नाम व्हेरोला या व्हेरोला वेरा द्वारा भी जाना जाता है, जो व्युत्पन्न ("स्पॉटेड") या वार्स ("पिंपल") से प्राप्त होता है। मूल रूप से अंग्रेजी में "पॉक्स" या "लाल प्लेग" के रूप में जाना जाता है; 15 वीं शताब्दी में "श्वेतपोक्स" शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले "महान पॉक्स" (सीफीलिस)। चेकोपॉक्स के अंतिम स्वाभाविक रूप से होने वाले मामले (वेरियोला नाबालिग) का निदान 26 अक्टूबर 1977 को हुआ था। चेचक के साथ संक्रमण प्रसारित होने से पहले त्वचा के छोटे रक्त वाहिकाओं और मुंह और गले में केंद्रित है। त्वचा में यह एक विशिष्ट दाने का परिणाम है और, बाद में, तरल पदार्थ से भरा छाले उठाया। वी। प्रमुख ने एक और अधिक गंभीर बीमारी का उत्पादन किया और 30-35 प्रतिशत की एक समग्र मृत्यु दर थी। वी। नाबालिग एक मामूली बीमारी का कारण बनता है (जिसे अल्स्ट्रिम भी कहा जाता है) जो उन लोगों के बारे में प्रतिशत मार डाला, जो इसे संक्रमित करते हैं। वीकी लंबी अवधि की जटिलताओं में प्रमुख संक्रमण, आम तौर पर चेहरे पर होता है, जो कि 65-85 प्रतिशत जीवित बचे हुए होते हैं। कॉर्नियल अल्सरेशन और स्कायरिंग, और गठिया और ऑस्टियोमाइलाइटिस के कारण अंग विकृति से उत्पन्न होने वाली अंधापन कम आम जटिलताओं थे, जिन्हें लगभग 2-5 प्रतिशत मामलों में देखा गया था।

Read More

निपा वायरस संक्रमण Nipah virus infection
निपा वायरस संक्रमण (एनआईवी) निपा वायरस के कारण एक वायरल संक्रमण है। संक्रमण से लक्षण बुखार, खांसी, सिरदर्द, सांस की तकलीफ और भ्रम से भिन्न होते हैं।. जटिलताओं में मस्तिष्क और दौरे की सूजन शामिल हो सकती है।. यह वायरस टेरोपस जीन्स नामक नस्ल के चमगादड़ में मिला, 1995 में यह वायरस सूअर में भी देखने को मिला था, तथा NiV M -निपाह वायरस इस नाम से मलेशिया में मिला था एवं NiV B-नाम से बांग्लाादेश में । निपा वायरस फ्रूट चमगादड़ों से होता है जिस पेड़ पर चमगादड़ रहते हैं वहां वह इस वायरस को फैला देते हैं उस पेड़ के फल खाने वाले को यह वायरस हो जाता है। यह एक लाइलाज बीमारी है जिससे मुक्ति मौत के साथ ही मिल पाती है अभी तक इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है।

Read More

हंटावायरस पल्मोनरी सिंड्रोम Hantavirus pulmonary syndrome

चूहों या अन्य कुतरने वाले जीवों द्वारा फैलाये गए वायरस का एक समूह जिससे गंभीर बीमारी हो सकती है| हन्टावायरस घातक संक्रमण कर सकता है| इसका संक्रमण चूहों या अन्य कुतरने वाले जीवों के मूत्र से युक्त हवा में सांस लेने से होता है| शुरुआती लक्षणों में बुखार, मांसपेशियों में दर्द और थकान होते हैं| बाद में खांसी और सांस लेने में कठिनाई भी पैदा हो सकती है| इलाज के विकल्प सीमित होने के कारण सबसे अच्छी सुरक्षा चूहों या अन्य कुतरने वाले जीवों और उनके रहने के स्थान से दूर रहना है|

Read More

हंतावाइरस हेमोरेजिक फीवर Hantavirus hemorrhagic fever with renal syndrome

रीनल सिंड्रोम ( एचएफआरएस ) के साथ हन्टावायरस हेमोरेजिक बुखार , बंटाविरेल्स में परिवार हंतावीरिडे से हंतावीरस की प्रजातियों के कारण चिकित्सकीय रूप से समान बीमारियों का एक समूह है। इसे कोरियाई रक्तस्रावी बुखार और महामारी रक्तस्रावी बुखार के रूप में भी जाना जाता है।

Read More

जापानी एनसिफेलिटिस Japanese encephalitis
चावलों के खेतों में पनपने वाले मच्छरों से (प्रमुख रूप से क्युलेक्स ट्रायटेनियरहिंचस समूह)। यह मच्छर जापानी एनसिफेलिटिस वायरस से संक्रमित हो जाते हैं (सेंट लुई एलसिफेलिटिस वायरस एंटीजनीक्ली से संबंधित एक फ्लेविवायरस)। जापानी एनसिफेलिटिस वायरस से संक्रमित मच्छरों के काटने से होता है। जापानी एनसेफेलाइटिस वायरस से संक्रांत पालतू सूअर और जंगली पक्षियों के काटने पर मच्छर संक्रांत हो जाते है। इसके बाद संक्रांत मच्छर पोषण के दौरान जापानी एनसेफेलिटिस वायरस काटने पर मानव और जानवरों में जाते हैं। जापानी एनसेफेलिटिस वायरस पालतू सूअर और जंगली पक्षियों के रक्त प्रणाली में परिवर्धित होते हैं। जापानी एनसेफेलिटिस के वायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं होता है। उदारहण के लिए आपको यह वायरस किसी उस व्यक्ति को छूने या चूमने से नहीं आ सकता जिसे यह रोग है या किसी स्वास्थ्य सेवा कर्मचारी से जिसने किसी इस प्रकार के रोगी का उपचार किया हो। केवल पालतू सूअर और जंगली पक्षी ही जापानी एनसेफेलिटिस वायरस फैला सकते हैं।

Read More

लासा फीवर Lassa fever

लासा बुखार , जिसे लासा रक्तस्रावी बुखार ( LHF ) के रूप में भी जाना जाता है , एक प्रकार का वायरल रक्तस्रावी बुखार है, जो लासा वायरस के कारण होता है। वायरस से संक्रमित लोगों में से कई में लक्षणों का विकास नहीं होता है। जब लक्षण होते हैं तो उनमें आमतौर पर बुखार , कमजोरी, सिरदर्द, उल्टी और मांसपेशियों में दर्द होता है।

Read More

वेस्ट नाइल वायरस West Nile virus

वेस्ट नाइल वायरस ( WNV ) एक एकल-फंसे RNA वायरस है जो वेस्ट नाइल बुखार का कारण बनता है। यह विशेष रूप से जीनस फ्लेववायरस से परिवार फ्लेविविरिडे का सदस्य है, जिसमें जीका वायरस, डेंगू वायरस और पीला बुखार वायरस भी शामिल है। वेस्ट नाइल वायरस मुख्य रूप से मच्छरों द्वारा फैलता है, ज्यादातर क्यूलेक्स की प्रजातियां हैं।

Read More

जिका वायरस Zika virus
जिका विषाणु फ्लाविविरिडए विषाणु परिवार से है। जो दिन के समय सक्रिय रहते हैं। इन्सानों में यह मामूली बीमारी के रूप में जाना जाता है, जिसे जिका बुखार, जिका या जिका बीमारी कहते हैं। 1947 के दशक से इस बीमारी का पता चला। यह अफ्रीका से एशिया तक फैला हुआ है। यह 2014 में प्रशांत महासागर से फ्रेंच पॉलीनेशिया तक और उसके बाद 2015 में यह मेक्सिको, मध्य अमेरिका तक भी पहुँच गया।

Read More

येलो फीवर Yellow fever
पीतज्वर या 'यलो फीवर' (Yellow fever) एक संक्रामक तथा तीव्र रोग हैं, जो सहसा आरंभ होता है। इसमें ज्वर, वमन, मंद नाड़ी, मूत्र में ऐल्वुमेन की उपस्थिति, रक्तस्राव तथा पीलिया के लक्षण होते हैं। इस रोग का कारक एक सूक्ष्म विषाणु होता है, जिसका संवहन ईडीस ईजिप्टिआई (स्टीगोमिया फेसियाटा) जाति के मच्छरों द्वारा होता है। यह रोग कर्क तथा मकर रेखाओं के बीच स्थित अफ्रीका तथा अमरीका के भूभागों में अधिक होता है।

Read More

हेपेटाइटिस बी Hepatitis B
यकृतशोथ ख (हेपाटाइटिस बी) हेपाटाइटिस बी वायरस (HBV) के काऱण होने वाली एक संक्रामक बीमारी है जो मनुष्य के साथ बंदरों की प्रजाति के लीवर को भी संक्रमित करती है, जिसके कारण लीवर में सूजन और जलन पैदा होती है जिसे हेपाटाइटिस कहते हैं। मूलतः, "सीरम हेपेटाइटिस" के रूप में ज्ञात इस बीमारी के कारण एशिया और अफ्रिका में महामारी पैदा हो चुकी है और चीन में यह स्थानिक मारक है। विश्व की जनसंख्या के एक तिहाई लोग, दो अरब से अधिक, हेपेटाइटिस बी वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 35 करोड़ इस वायरस के दीर्घकालिक वाहक के रूप शामिल हैं। हेपेटाइटिस बी वायरस का संचरण संक्रमित रक्त या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में जाने से होता है।

Read More

हेपेटाइटिस सी Hepatitis C
यकृतशोथ ग (हेपेटाइटिस सी) एक संक्रामक रोग है जो हेपेटाइटिस सी वायरस एचसीवी (HCV) की वजह से होता है और यकृत को प्रभावित करता है. इसका संक्रमण अक्सर स्पर्शोन्मुख होता है लेकिन एक बार होने पर दीर्घकालिक संक्रमण तेजी से यकृत (फाइब्रोसिस) के नुकसान और अधिक क्षतिग्रस्तता (सिरोसिस) की ओर बढ़ सकता है जो आमतौर पर कई वर्षों के बाद प्रकट होता है. कुछ मामलों में सिरोसिस से पीड़ित रोगियों में से कुछ को यकृत कैंसर हो सकता है या सिरोसिस की अन्य जटिलताएं जैसे कि यकृत कैंसर और जान को जोखिम में डालने वाली एसोफेजेल वराइसेस तथा गैस्ट्रिक वराइसेस विकसित हो सकती हैं. हेपेटाइटिस सी वायरस रक्त से रक्त के संपर्क द्वारा फैलता है. शुरुआती संक्रमण के बाद अधिकांश लोगों में, यदि कोई हों, तो बहुत कम लक्षण होते हैं, हालांकि पीड़ितों में से 85% के यकृत में वायरस रह जाता है. इलाज के मानक देखभाल जैसे कि दवाइयों, पेजिन्टरफेरॉन और रिबावायरिन से स्थायी संक्रमण ठीक हो सकता है.

Read More

हेपेटाइटिस ए Hepatitis A
यकृतशोथ क (हैपेटाइटिस ए) एक विषाणु जनित रोग है। यकृतशोथ क यकृत की सूजन होती है जो यकृतशोथ क विषाणु के कारण होती है। इसमें रोगी को काफ़ी चिड़चिड़ापन होता है। इसे विषाणुजनित (वाइरल) यकृतशोथ भी कहते हैं। यह बीमारी दूषित भोजन ग्रहण करने, दूषित जल और इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलती है। इसके लक्षण प्रकट होने से पहले और बीमारी के प्रथम सप्ताह में अंडाणु तैयार होने के पंद्रह से पैंतालीस दिन के बीच रोगी व्यक्ति के मल से यकृतशोथ क विषाणु फैलता है। रक्त एवं शरीर के अन्य द्रव्य भी संक्रामक हो सकते हैं। संक्रमण समाप्त होने के बाद शरीर में न तो वाइरस ही शेष रहता है और न ही वाहक रहता है। यकृतशोथ क के लक्षण फ्लू जैसे ही होते हैं, किंतु त्वचा तथा आंखे पीली हो जाती हैं, जैसे कि पीलिया में होती हैं। इसका कारण है कि यकृत रक्त से बिलीरूबिन को छान नहीं पाता है। अन्य सामान्य यकृतशोथ विषाणु, हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी है, किंतु यकृतशोथ क सबसे कम गंभीर है और इन बीमारियों में सबसे मामूली है। अन्य दोनों बीमारियां लंबी बीमारियों में परिवर्तित हो सकती है। किंतु यकृतशोथ क नहीं होती।

Read More

23

खसरा

Like Dislike Button
0 Votes
खसरा Measles
खसरा श्वसन प्रणाली में वायरस, विशेष रूप से मोर्बिलीवायरस के जीन्स पैरामिक्सोवायरस के संक्रमण से होता है। मोर्बिलीवायरस भी अन्य पैरामिक्सोवायरसों की तरह ही एकल असहाय, नकारात्मक भावना वाले आरएनए वायरसों द्वारा घिरे होते हैं। इसके inलक्षणों में बुखार, खांसी, बहती हुई नाक, लाल आंखें और एक सामान्यीकृत मेकुलोपापुलर एरीथेमाटस चकते भी शामिल है। खसरा (कभी-कभी यह अंग्रेज़ी नाम मीज़ल्स से भी जाना जाता है) श्वसन के माध्यम से फैलता है (संक्रमित व्यक्ति के मुंह और नाक से बहते द्रव के सीधे या वायुविलय के माध्यम से संपर्क में आने से) और बहुत संक्रामक है तथा 90% लोग जिनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता नहीं है और जो संक्रमित व्यक्ति के साथ एक ही घर में रहते हैं, वे इसके शिकार हो सकते हैं। यह संक्रमण औसतन 14 दिनों (6-19 दिनों तक) तक प्रभावी रहता है और 2-4 दिन पहले से दाने निकलने की शुरुआत हो जाती है, अगले 2-5 दिनों तक संक्रमित रहता है (अर्थात् कुल मिलाकर 4-9 दिनों तक संक्रमण रहता है).अंग्रेजी बोलने वाले देशों में खसरा का एक वैकल्पिक नाम रुबेओला है, जिसे अक्सर रुबेला (जर्मन खसरा) के साथ जोड़ा जाता है; हालांकि दोनों रोगों में कोई संबंध नहीं हैं।

Read More

वेरीसेल्ला जोस्टर वायरस Varicella zoster virus
चिकन पॉक्स (छोटी माता) वेरीसेल्ला जोस्टर वाइरस के संक्रमण से होने वाली बीमारी है। यह बहुत ही संक्रामक होती है और संक्रमित निसृत पदार्थों को सांस के साथ अंदर ले जाने से फैलती है। इसमें बुखार आ जाता है और शरीर पर ददोरा हो जाता है, जिसमें तेज खुजली होती है। इसके अलावा त्वचा में बैक्टिरीयल संक्रमण, निमोनिया और मस्तिष्क में सूजन भी चिकनपॉक्स के लक्षण हैं। बच्चों और युवाओं में इस बीमारी का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। चिकनपॉक्स छूने से बहुत तेजी से फैलता है। चिकित्सक सलाह देते हैं कि चिकन पॉक्स के निवारण के लिये 12 से 15 महीनों की उम्र के बीच बच्चों को चिकन पॉक्स का टीका, और 4 से 6 वर्ष की उम्र के बीच दूसारा टीका लगवा लेना चाहिये।यह टीका चिकन पॉक्स के हल्के संक्रमण को रोकने के लिये 70 से 80 प्रतिशत असरदार होता है और गंभीर रूप से संक्रमण को रोकने के लिये 95 प्रतिशत असरदार होता है। इसीलिए हालांकि कुछ बच्चों ने टीका लगवा लिया होता हैं फिर भी उनमे इस रोग से ग्रसित होने के लक्षण सौम्य होते हैं, बनिबस्त उन बच्चों के जिन्होंने यह टीका नहीं लगवाया होता है।

Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

Keywords:

दुनिया में सबसे खतरनाक वायरस दुनिया में घातक वायरस पृथ्वी पर भयंकर वायरस मृत्युकारक वाइरस