भारत में बहुत से सुन्दर महल हे जो बहुत आकर्षक और बहुत विशाल और अद्भुद है जैसा की आप निचे देख सकते हे १० सबसे सुन्दर महल की सूची तैयार की गयी हे ,अम्बा विलास महल,लेके महल,उम्मैद भवन पैलेस,रामबाग महल,मार्बल पैलेस, कोलकाता,,फलकनुमा पैलेस आदि |

  1. उम्मैद भवन पैलेस

    Like Dislike Button
    1Votes
    उम्मैद भवन पैलेस  Umaid Bhawan Palace
    उम्मैद भवन पैलेस राजस्थान के जोधपुर ज़िले में स्थित एक महल है। यह दुनिया के सबसे बड़े निजी महलों में से एक है। यह ताज होटल का ही एक अंग है। इसका नाम महाराजा उम्मैद सिंह के पौत्र ने दिया था जो वर्तमान में मालिक है। अभी वर्तमान समय में इस पैलेस में 347 कमरे है। इस उम्मैद भवन पैलेस को चित्तर पैलेस के नाम से भी पहले जाना जाता था जब इसका निर्माण कार्य चालू था। यह पैलेस 1943 में बनकर तैयार हुआ था।

    Read More

  2. आमेर दुर्ग

    Like Dislike Button
    1Votes
    आमेर दुर्ग Amer Fort
    आमेर दुर्ग भारत के राजस्थान राज्य की राजधानी जयपुर के आमेर क्षेत्र में एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित एक पर्वतीय दुर्ग है। यह जयपुर नगर का प्रधान पर्यटक आकर्षण है। आमेर का कस्बा मूल रूप से स्थानीय मीणाओं द्वारा बसाया गया था, जिस पर कालांतर में कछवाहा राजपूत मान सिंह प्रथम ने राज किया व इस दुर्ग का निर्माण करवाया। यह दुर्ग व महल अपने कलात्मक विशुद्ध हिन्दू वास्तु शैली के घटकों के लिये भी जाना जाता है। दुर्ग की विशाल प्राचीरों, द्वारों की शृंखलाओं एवं पत्थर के बने रास्तों से भरा ये दुर्ग पहाड़ी के ठीक नीचे बने मावठा सरोवर को देखता हुआ प्रतीत होता है।

    Read More

  3. लक्ष्मी विलास महल

    Like Dislike Button
    1Votes
    लक्ष्मी विलास महल Laxmi Vilas Palace, Vadodara
    लक्ष्मी विलास महल बड़ोदरा में स्थित है। महाराजा पैलेस वास्तव में बड़ोदरा, गुजरात, भारत में महलों की एक श्रृंखला को संदर्भित करता है, क्योंकि गायकवाड़ एक प्रसिद्ध मराठा परिवार है, बड़ोदरा राज्य पर शासन करना शुरू कर दिया। पहले एक सरकार की इमारत थी जिसे सरकार वाडा के रूप में जाना जाता था। पुरानी शास्त्रीय शैली में बनाया गया नज़ारबाग पैलेस के लिए यह इमारत वास्तव में एक महल नहीं थी। इसके बाद, लुक्शमी विलास पैलेस, इंडो-सरैसेनिक रिवाइवल आर्किटेक्चर की एक असाधारण इमारत, 1890 में जीपीबी 180000 की लागत से महाराजा सयाजीराव गायकवाड 3 द्वारा निर्मित किया गया था। यह अब तक का सबसे बड़ा निजी आवास बिका हुआ है और बकिंघम पैलेस के आकार का चार गुना है। निर्माण के समय में यह सबसे आधुनिक सुविधाओं जैसे एलीवेटर और इंटीरियर को बड़े यूरोपीय देश के घर की याद दिलाती है। यह शाही परिवार का निवास है, जो बड़ौदा के निवासियों द्वारा उच्च सम्मान में आयोजित किया जाता है।

    Read More

  4. अम्बा विलास महल (मैसूर महल)

    Like Dislike Button
    0 Votes
    अम्बा विलास महल MYSORE PALACE.
    महाराजा पैलेस, राजमहल मैसूर के कृष्णराजा वाडियार चतुर्थ का है। यह पैलेस बाद में बनवाया गया। इससे पहले का राजमहल चन्दन की लकड़ियों से बना था। एक दुर्घटना में इस राजमहल की बहुत क्षति हुई जिसके बाद यह दूसरा महल बनवाया गया। पुराने महल को बाद में ठीक किया गया जहाँ अब संग्रहालय है। दूसरा महल पहले से ज्यादा बड़ा और अच्छा है। मैसूर पैलेस दविड़, पूर्वी और रोमन स्थापत्य कला का अद्भुत संगम है। नफासत से घिसे सलेटी पत्थरों से बना यह महल गुलाबी रंग के पत्थरों के गुंबदों से सजा है। महल में एक बड़ा सा दुर्ग है जिसके गुंबद सोने के पत्तरों से सजे हैं। ये सूरज की रोशनी में खूब जगमगाते हैं। अब हम मैसूर पैलेस के गोम्बे थोट्टी - गुड़िया घर - से गुजरते हैं। यहां 19वीं और आरंभिक 20वीं सदी की गुड़ियों का संग्रह है। इसमें 84 किलो सोने से सजा लकड़ी का हौद भी है जिसे हाथियों पर राजा के बैठने के लिए लगाया जाता था। इसे एक तरह से घोड़े की पीठ पर रखी जाने वाली काठी भी माना जा सकता है।

    Read More

  5. लेक महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    लेके महल LAKE PALACE.
    लेक पैलेस जिसे कि पहले जग निवास के नाम से जाना जाता था, 83 कमरों तथा सुइट्स का एक होटल है जिसका निर्माण सफ़ेद पत्थर से हुआ है। यह चार एकड़ के एक नैसर्गिक आधार पर पिछोला झील में उदयपुर राजस्थान में जग निवास द्वीप पर बना हुआ है। होटल अपने अतिथियों के लिए एक स्पीड बोट की सुविधा प्रदान करता है जो कि अतिथियों को शहर से होटल तक पहुंचाती है। अपनी विशिष्ट स्तिथि के कारण इस होटल को भारत तथा दुनिया के सबसे अधिक रोमांटिक होटल के रूप में चिन्हित किया गया है।

    Read More

  6. रामबाग महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    रामबाग महल Rambagh Palace
    रामबाग़ महल राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित एक महल है लेकिन वर्तमान में यह एक होटल है। यह पहले जयपुर के महाराजा का घर था।

    Read More

  7. मार्बल पैलेस (कोलकाता)

    Like Dislike Button
    0 Votes
    मार्बल पैलेस, कोलकाता Marble Palace (Kolkata)
    मार्बल पैलेस, कोलकाता कोलकाता की प्रसिद्ध इमारत है।

    Read More

  8. फलकनुमा पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    फलकनुमा पैलेस Falaknuma Palace
    फलकनुमा पैलेस भारत में स्थित हैदराबाद के बहुत ही अधिक श्रेष्ठ स्थानों में से एक है। यह पैगाह हैदराबाद स्टेट से सम्बन्ध रखता है जिस पर बाद में निजामों द्वारा अधिपत्य किया गया। यह फलकनुमा में 32 एकड़ क्षेत्र पर बना हुआ है तथा चारमिनार से 5 किमी की दूरी पर है। इसका निर्माण नवाब वकार उल उमर द्वारा किया गया था जो कि हैदराबाद के प्रधानमन्त्री थे। फलकनुमा का तात्पर्य होता है- “आसमान की तरह” अथवा “आसमान का आइना”

    Read More

  9. चौमोहल्ला पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    चौमोहल्ला पैलेस Chowmahalla Palace, Hyderabad
    चौमोहल्ला पैलेस हैदराबाद राज्य के निज़ाम का महल है। इसका निर्माण वर्ष 1869 में 5 वें निज़ाम अफ़ज़ल-उद-दौला, अासफ जाह पंचम के शासनकाल के दौरान हुआ था। यह 45 एकड़ के क्षेत्र में फैलता है। आज की तारीक में यह महल 7 वें निजाम के पहले पोते - मुकरम जाह की संपत्ति है।

    Read More

  10. कूच बिहार पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    कूच बिहार  पैलेस Cooch Behar Palace
    Cooch Behar Palace, also called the Victor Jubilee Palace, is a landmark in Cooch Behar city, West Bengal. It was modeled after the Buckingham Palace in London in 1887, during the reign of Maharaja Nripendra Narayan.
    The Cooch Behar Palace, noted for its elegance and grandeur, is a property of The Mantri's. It is a brick-built double-story structure in the classical Western style covering an area of 51,309 square feet (4,766.8 m2). The whole structure is 395 feet (120 m) long and 296 feet (90 m) wide and is on rests 4 feet 9 inches (1.45 m) above the ground. The Palace is fronted on the ground and first floors by a series of arcaded verandahs with their piers arranged alternately in single and double rows.
    At the southern and northern ends, the Palace projects slightly and in the centre is a projected porch providing an entrance to the Durbar Hall. The Hall has an elegantly shaped metal dome which is topped by a cylindrical louver type ventilator. This is 124 feet (38 m) high from the ground and is in the style of the Renaissance architecture. The intros of the dome is carved in stepped patterns and Corinthian columns support the base of the cupola. This adds variegated colours and designs to the entire surface. There are various halls in the palace and rooms that include the Dressing Room, Bed Room, Drawing Room, Dining Hall, Billiard hall, Library, Toshakhana, Ladies Gallery and Vestibules. The articles and precious objects that these rooms and halls used to contain are now lost.
    The original palace was 3 storeyed, but was subsequently destroyed by the 1897 Assam earthquake.
    The palace shows the acceptance of European idealism of the cooch kings and the fact that they had embraced European culture without denouncing their Indian heritage.

    Read More

  11. बेंगलोर पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    बेंगलोर पैलेस Bangalore Palace

    बेंगलोर पैलेस बंगलोर विधान सौध के उत्तर-पश्चिम में ऊंचे स्थान पर यह एक सुंदर बगीचे के बीच में स्थित है। यह लंदन के विंडसर-कैसल की झलक देता है।

    Read More

  12. उज्जयंत महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    उज्जयंत महल Ujjayanta Palace

    त्रिपुरा में अगरतला स्थित उज्जयंत महल एक शाही महल है। यह महल एक वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है।

    Read More

  13. लालगढ़ महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    लालगढ़ महल Lalgarh Palace

    लालगढ़ महल राजस्थान में बीकानेर का एक महल और विरासत का होटल है, जिसे 1902 और 1926 के बीच इंडो-सरैसेनिक शैली में बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह ने अपने पिता महाराजा लालसिंह की स्मृति में बनवाया था। नगर के बाहर की इमारतों में लालगढ़ महल बड़ा भव्य है।

    बीकानेर शहर इस महल से केवल 3 किलोमीटर दूर है।

    Read More

  14. किंग कोठी पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    किंग कोठी पैलेस King Kothi Palace

    किंग कोठी पैलेस हैदराबाद, तेलंगाना, भारत में एक शाही महल है।

    Read More

  15. मानसून भवन

    Like Dislike Button
    0 Votes
    मानसून भवन Monsoon Palace

    इसे मूल रूप से सज्जनगढ़ के नाम से जाना जाता था। इसे सज्जन सिंह ने 19 वीं शताब्दी में बनवाया था। पहले यह वेधशाला के लिए जाना जाता था, लेकिन अब यह एक लॉज के रूप में तब्दील हो चुका है। लोकेशन: शहर से 8 किलोमीटर पश्‍िचम में समय: सुबह 10बजे से 6 बजे तक। सभी दिन खुला। इस दुर्ग को उदयपुर का मुकुटमणि भी कहते है।

    Read More

  16. हवामहल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    हवामहल Hawa Mahal

    हवा महल भारतीय राज्य राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक राजसी-महल है। इसे सन 1799 में महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने बनवाया था और इसे किसी 'राजमुकुट' की तरह वास्तुकार लाल चंद उस्ता द्वारा डिजाइन किया गया था। इसकी अद्वितीय पांच-मंजिला इमारत जो ऊपर से तो केवल डेढ़ फुट चौड़ी है, बाहर से देखने पर मधुमक्खी के छत्ते के समान दिखाई देती है, जिसमें 953 बेहद खूबसूरत और आकर्षक छोटी-छोटी जालीदार खिड़कियाँ हैं, जिन्हें झरोखा कहते हैं। इन खिडकियों को जालीदार बनाने के पीछे मूल भावना यह थी कि बिना किसी की निगाह पड़े "पर्दा प्रथा" का सख्ती से पालन करतीं राजघराने की महिलायें इन खिडकियों से महल के नीचे सडकों के समारोह व गलियारों में होने वाली रोजमर्रा की जिंदगी की गतिविधियों का अवलोकन कर सकें। इसके अतिरिक्त, "वेंचुरी प्रभाव" के कारण इन जटिल संरचना वाले जालीदार झरोखों से सदा ठंडी हवा, महल के भीतर आती रहती है, जिसके कारण तेज़ गर्मी में भी महल सदा वातानुकूलित सा ही रहता है।

    Read More

  17. पुरानी हवेली

    Like Dislike Button
    0 Votes
    पुरानी हवेली Purani Haveli

    पुरानी हवेली भारत के हैदराबाद, तेलंगाना, में स्थित एक महल है। यह हैदराबाद राज्य के निज़ाम का आधिकारिक निवास था। यह मीर अकबर अली खान सिकंदर जाह, आसिफ़ जाह तृतीय (1803-1829) के लिए उनके पिता असफ जहां द्वितीय द्वारा बनायी गयी थी।

    सिकंदर जाह कुछ समय के लिए यहां रहते थे और बाद में खिलवत महल में चले गए।

    Read More

  18. ललितामहल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    ललितामहल Lalitha Mahal

    ललिता महल मैसूर का दूसरा सबसे बड़ा महल है। यह चामुंडी हिल के निकट, मैसूर शहर के पूर्वी ओर कर्नाटक राज्य में स्थित है। इस महल का निर्माण 1921 में मैसूर के तत्कालीन महाराजा कृष्णराज वोडेयार चतुर्थ के आदेशानुसार हुआ था। इस महल के निर्माण का प्रमुख उद्देश्य तत्कालीन भारत के वाइसरॉय को मैसूर यात्रा के दौरान ठहराना था। वर्तमान में ललितामहल भारत का अतिथिगृह एवं भारत पर्यटन विकास निगम (आईटीडीसी) होटल है। यह महल लंदन के सेंट पॉल कैथेड्रल की तर्ज पर बना हुआ है। यह मैसूर शहर की भव्य संरचनाओं में से एक है।

    Read More

  19. जयविलास महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    जयविलास महल Jai Vilas Mahal

    जयविलास महलग्वालियर में सिन्धिया राजपरिवार का वर्तमान निवास स्थल ही नहीं एक भव्य संग्रहालय भी है। इस महल के 35 कमरों को संग्रहालय बना दिया गया है। इस महल का ज्यादातर हिस्सा इटेलियन स्थापत्य से प्रभावित है। इस महल का प्रसिध्द दरबार हॉल इस महल के भव्य अतीत का गवाह है, यहां लगा हुए दो फानूसों का भार दो-दो टन का है, कहते हैं इन्हें तब टांगा गया जब दस हाथियों को छत पर चढा कर छत की मजबूती मापी गई। इस संग्रहालय की एक और प्रसिध्द चीज है, चांदी की रेल जिसकी पटरियां डाइनिंग टेबल पर लगी हैं और विशिष्ट दावतों में यह रेल पेय परोसती चलती है। इटली, फ्रांस, चीन तथा अन्य कई देशों की दुर्लभ कलाकृतियां यहाँ मौजूद हैं।

    Read More

  20. जल महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    जल महल Jal Mahal

    जलमहल राजस्थान की राजधानी जयपुर के मानसागर झील के मध्‍य स्थित प्रसिद्ध ऐतिहासिक महल है। अरावली पहाडिय़ों के गर्भ में स्थित यह महल झील के बीचों बीच होने के कारण 'आई बॉल' भी कहा जाता है। इसे 'रोमांटिक महल' के नाम से भी जाना जाता था। जयसिंह द्वारा निर्मित यह महल मध्‍यकालीन महलों की तरह मेहराबों, बुर्जो, छतरियों एवं सीढीदार जीनों से युक्‍त दुमंजिला और वर्गाकार रूप में निर्मित भवन है। जलमहल अब पक्षी अभ्‍यारण के रूप में भी विकसित हो रहा है। यहाँ की नर्सरी में 1 लाख से अधिक वृक्ष लगे हैं जहाँ राजस्थान के सबसे ऊँचे पेड़ पाए जाते हैं।

    Read More

  21. बोल्गात्टी पैलेस एंड आइलैंड रिसॉर्ट कोची

    Like Dislike Button
    0 Votes
    बोल्गात्टी पैलेस एंड आइलैंड रिसॉर्ट कोची Bolgatty Palace and Island Resort Cochin

    लक्कादीव समुद्र और कोची अंतरराष्ट्रीय मरीना के पास बना, यह आरामदेह रिज़ॉर्ट शिव मंदिर एर्नाकुलम हिंदू मंदिर से 4.7 किमी और मट्टनचेरी पैलेस से 15 किमी दूर है.

    खूबसूरत स्टाइल वाले कमरों में मुफ़्त वाई-फ़ाई, टीवी और मिनीबार की सुविधा है; कुछ कमरों में बालकनी है या उनसे झील के नज़ारे दिखते हैं. सुंदर सुइट में उठने-बैठने के लिए अलग से जगह मिलती है.

    होटल में आरामदेह रेस्टोरेंट, लाउंज और आउटडोर पूल है. साथ ही जिम और आयुर्वेदिक उपचार की सुविधा है. दूसरी सुविधाओं में पुस्तकालय और गेम रूम के अलावा नौ होल गोल्फ़ कोर्स, बोट क्रूज़ और बोट जेट्टी शामिल हैं.

    Read More

  22. जगन्मोहन पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    जगन्मोहन पैलेस Jaganmohan Palace

    जगनमोहन पैलेस भारत के मैसूर शहर में एक महल है। इसका निर्माण 1861 में पूरा हुआ और शुरू में मैसूर के राजाओं को उनके घर के रूप में इस्तेमाल किया गया। अब इसे एक आर्ट गैलरी और एक फ़ंक्शन हॉल के रूप में उपयोग किया जाता है। महल मैसूर के शाही शहर के सात महलों में से एक है।

    Read More

  23. कंगला फोर्ट

    Like Dislike Button
    0 Votes
    कंगला फोर्ट Kangla Fort
    कंगला महल (Kangla Palace) मणिपुर की राजधानी इम्फाल में स्थित एक पुराना महल है। यह इम्फाल नदी के दोनों (पूर्वी और पश्चिमी) किनारों पर विस्तृत है लेकिन अब इसके अधिकतर भाग के खंडहर ही बचे हैं। मणिपुरी भाषा में 'कंगला' का अर्थ 'सूखी भूमि' होता है और यह महल प्राचीनकाल में मणिपुर के मेइतेइ राजाओं का निवास हुआ करता था। मणिपुर के प्राचीन इतिहास-ग्रंथ 'चेइथारोल कुम्माबा' के अनुसार इस स्थान पर महल 33 ईसवी काल से खड़ा था हालांकि यहाँ समय के साथ-साथ नए निर्माण होते रहे।

    Read More

  24. कोवियार पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    कोवियार पैलेस Kowdiar Palace

    तिरुवनंतपुरम, केरल, भारत में कोवियार पैलेस का निर्माण 1934 में महाराजा श्री चिथिरा थिरुनल बलराम वर्मा ने अपनी एकमात्र बहन महारानी कार्तिका थिरुनलल लक्ष्मी बाई के लेफ्टिनेंट कर्नल जी वी राजा के विवाह पर किया था।

    Read More

  25. मटिया महल

    Like Dislike Button
    0 Votes
    मटिया महल Matiya Mahal

    भारत के राजस्थान में हिंडौन में स्थित मटिया महल, हिंडौन की एक प्राचीन धरोहर है। यह शानदार इमारत लगभग 150 फीट लंबी, 150 फीट चौड़ी है। यह इमारत लाल बलुआ पत्थर से बनी है। यह तीन मंजिला इमारत है।

    Read More

  26. पद्मनाभपुरम पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    पद्मनाभपुरम पैलेस Padmanabhapuram Palace

    पद्मनाभपुरम पैलेस, जिसे कल्कुलम पैलेस के रूप में भी जाना जाता है, एक त्रावणकोर युग का महल है जो भारत के तमिलनाडु राज्य के कन्याकुमारी जिले में पद्मनाभपुरम में स्थित है। इस महल का स्वामित्व, नियंत्रण और रखरखाव पड़ोसी राज्य केरल की सरकार द्वारा किया जाता है।

    Read More

  27. सकथन थम्पुरण पैलेस

    Like Dislike Button
    0 Votes
    सकथन थम्पुरण पैलेस Sakthan Thampuran Palace

    सकथन थाम्पुरन पैलेस भारत के केरल राज्य में त्रिशूर शहर में स्थित है। इसका नाम वडक्करे पैलेस के रूप में रखा गया है, इसे 1795 में केरल-डच शैली में पुनर्निर्माण किया गया था तत्कालीन कोचीन रियासत के रामवर्मा थमपुरन द्वारा|

    Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |