हमारे शरीर से जुडी कई ऐसी जानकारियां ऐसी हैं जिन्हें अभी तक विज्ञान भी नहीं समझ पाया है या यू कहें कि इनके सामने विज्ञान भी फेल है। वैसे तो मानव शरीर से जुडी कई विस्मयकारी जानकारियां हैं लेकिन हम उनमें से केवल 10 जानकारियां यहां आपको बताने जा रहे हैं जिन्हें ज्यादातर लोग नहीं जानते हैं।

हमारा दिल – प्रत्येक मनुष्य का दिल 1 मिनट में औसतन 72 बार, पूरे दिन में 1,00,000 बार, 1 वर्ष में 3,600,000 बार, और पूरे जीवनकाल के दौरान 5 अरब बार धड़कता है।

जीभ व उँगलियाँ – हमारे फिंगरप्रिंट की तरह प्रत्येक इंसान की जीभ के प्रिंट भी अलग-अलग होते हैं। साथ ही सिर्फ जुड़वाँ लोगों को छोड़कर प्रत्येक व्यक्ति की अपनी एक अलग गंध भी होती है।

पानी और हमारा शरीर – हमारे शरीर के भार का लगभग दो-तिहाई भार सिर्फ पानी का है। इसमें खून का 94%, मस्तिष्क का 83% और मांसपेशियों का 75% पानी शामिल होता है।

आँखें और दिमाग – हम कोई भी वस्तु अपनी आँखों से नहीं बल्कि अपने दिमाग की मदद से देख पाते हैं। हमारी ऑंखें सिर्फ सूचना (इनफार्मेशन) को लेने का काम करती हैं और इसको हमारे दिमाग तक पहुचाती हैं।

छींक – छींकते समय आँखे खुली रख पाना नामुनकिन है, साथ ही अगर आप छींकते वक्त अपनी आँखे खुली रखने की कोशिश करेंगे तो आपकी आँखों की पुतली बाहर निकल सकती है। इसके अलावा सिर्फ छींकते समय ही हमारे दिल की गति एक मिली सेंकेड के लिए रुकती है।

नींद – लगभग हर मनुष्य को सोने के लिए 7 मिनट लगते हैं और हम अपनी जिन्दगी का 33% सिर्फ सोते हुए बिता देते हैं।

खाना और मनुष्य – एक मनुष्य अपने पूरे जीवनकाल में लगभग 27,000 किलोग्राम तक भोजन खा जाता है जो कि 6 हाथियों के वजन के बराबर है। साथ ही प्रत्येक मनुष्य अपने जीवनकाल में लगभग 60,500 लीटर पानी पी जाता है।

नाखून – हमारे हाथ की बीच की उंगली के नाखून हमारी बांकी उंगलियों के नाखूनों की तुलना में ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं। साथ ही हमारी उंगलियों के नाखून पैरों के नाखूनों की अपेक्षा 4 गुना ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं।

हमारी हड्डियाँ – जब कोई इंसान पैदा होता है तो उसके शरीर में करीब 300 हड्डियाँ होती हैं, लेकिन 18 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते उसके शरीर में हड्डियों की संख्या सिर्फ 206 ही रह जाती है। साथ ही आप के शरीर की लगभग 25% हड्डियाँ सिर्फ आपके पैरों में होती हैं।

हड्डियों की मजबूती – मानव शरीर की हड्डियाँ ग्रेनाइट पत्थर जितनी मजबूत होती हैं। साथ ही हमारे दांत पूरे मानव शरीर के सबसे कठोर पदार्थ हैं।