किसी भी देश, राज्य या स्थान की संस्कृति तथा इतिहास का पता उसकी धरोहरों या पुरात्तव सर्वेक्षणों से प्राप्त किये गए पदार्थ अथवा समिग्रियों से चलता है | येही वस्तुएं जब जब किसी निश्चित स्थान पर एकत्रित कर रख दी जाती हैं तो वह स्थान विशेष ‘संग्रहालय’ अथवा ‘म्यूजियम’ कहलाता है | ये वस्तुएं निरंतर आगे बढ़ने वाली अथवा आने वाली पीढ़ियों को उनके इतिहास का बोध कराती हैं तथा अध्ययन के क्षेत्र में भी महत्व रखती हैं |

तो आइये आज हम बात करते हैं भारत में स्थित कुछ ऐसे ही विशेष संग्रहालयों की –

  1. नई दिल्ली में स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय भारत के सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक है और इसे 1949 में दिल्ली में स्थापित किया गया था। इसमें विभिन्न प्रकार के संग्रह हैं जिनमें गहने, पेंटिंग, आर्मर्स, सजावटी कला और पांडुलिपियां शामिल हैं। इसमें एक बौद्ध वर्ग भी है जिसे ईसा पूर्व 3 वीं शताब्दी में अशोक ने बनाया था। संग्रहालय का दौरा एक शानदार अनुभव होने का वादा करता है। यह देश के सबसे अधिक घुमे जाने वाले संग्रहालयों में से एक है।

    Read More

  2. सालार जंग संग्रहालय हैदराबाद में स्थित है। ये संग्रहालय देश में सबसे प्रसिद्ध संग्रहालयों में से एक है। इस संग्रहालय की स्थापना 1951 में नवाब मीर यूसुफ खान के महल में हुई, जिसे लोकप्रिय रूप से सालर जंग III कहा जाता था। इसमें भारत, बर्मा और यूरोप जैसे कई देशों से नक्काशी, घड़ियां, धातु कलाकृतियों, वस्त्रों और चित्रों का संग्रह शामिल है। भारतीय संसद ने इसे राष्ट्रीय महत्व की संस्था के रूप में स्वीकार किया है।

    Read More

  3. सरकारी संग्रहालय जिसे मद्रास संग्रहालय के रूप में भी जाना जाता है। एगमोरे, चेन्नई में स्थित सरकारी संग्रहालय 1815 में स्थापित किया गया था और ये चेन्नई के सबसे व्यस्त स्थानों में से एक है। ये संग्रहालय वनस्पति विज्ञान, नृविज्ञान और जूलॉजी और भूविज्ञान से संबंधित विशिष्ट किस्मों को प्रदर्शित करता है। इसमें प्राचीन दक्षिण भारत के कुछ उत्कृष्ट बौद्ध अवशेष और सिक्के भी शामिल हैं। इसके अलावा इसमें प्राचीन काल से सम्भालकर रखी गयी पुस्तकों के विभिन्न संग्रह की झलक भी मिल सकती है।

    Read More

  4. भाऊ दाजी लाड संग्रहालय 1872 में मुंबई में स्थापित किया गया था और इसको 2 मई 1872 को जनता के लिए खोला गया। ये संग्रहालय 19वीं शताब्दी के सजावटी कला सम्मेलनों को प्रकट करता है। कुछ संग्रह में वेशभूषा, नक्शे, मिट्टी के मॉडल और ऐतिहासिक तस्वीर शामिल हैं। उस समय इसे विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय के रूप में जाना जाता था। इस संग्रहालय की प्रदर्शनी 19वीं शताब्दी में मुम्बई के जीवन का एक प्रतिबिंब प्रदान करती है।

    Read More

  5. भारतीय संग्रहालय एशियाई सोसाइटी द्वारा 1814 में कोलकाता में स्थापित किया गया था। इसमें कला, आर्थिक सुंदरता, भूविज्ञान और पुरातत्व, कला के वैज्ञानिक और रचनात्मक कार्यों की 5 गैलरी शामिल हैं। इसके अलावा इसमें गहने का एक अलग संग्रह, मुगल चित्र, कंकाल और आर्मर शामिल हैं। दुनिया में सबसे पुराने और बड़े संग्रहालयों में से एक होने के साथ ये भारत के सबसे अधिक मांग वाले स्थानों में से एक है।

    Read More

  6. प्रिंस ऑफ वेल्स संग्रहालय मुंबई में स्थित है और इसको 20वीं शताब्दी की शुरुआत में स्थापित किया गया था। इसका नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी वास्तु संग्रहालय रखने के बावजूद इसे अभी भी प्रिंस ऑफ वेल्स संग्रहालय कहा जाता है। इसमें कला विभाग, प्राकृतिक इतिहास खंड और पुरातत्व खंड जैसे 3 प्रमुख वर्ग शामिल हैं। संग्रहालय में स्थित गुंबददार ढांचा हिंदू, इस्लामी और ब्रिटिश वास्तुकला का एक सुंदर मिश्रण है और इसे जॉर्ज वॉट द्वारा डिजाइन किया गया था।

    Read More

  7. नेपियर संग्रहालय 19वीं सदी में निर्मित केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में स्थित सबसे पुराना संग्रहालय है। इसका नाम मद्रास के गवर्नर लॉर्ड नेपियर के नाम पर रखा गया था। यह कथकली पिल्ले मॉडल, संगीत वाद्ययंत्र, केरल के रथ और देवताओं और देवी की कांस्य की मूर्तियों जैसे ऐतिहासिक कलाकृतियों का एक बड़ा संग्रह रखता है। नेपियर संग्रहालय की यात्रा करने पर केरल की समृद्ध संस्कृति और इतिहास की झलक दिखाई देती है।

    Read More

  8. राष्ट्रीय रेलवे संग्रहालय नई दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित बच्चों और रेल उत्साही लोगों के लिए एक पसंदीदा जगह है। इस संग्रहालय में भारतीय रेल के 100 वास्तविक आकार के प्रदर्शन का एक बड़ा संग्रह है यह 10 एकड़ जमीन पर स्थित है। इस संग्रहालय से भारत में रेलवे के विकास का पता चलता है। अपनी विशिष्टता के लिए ये संग्रहालय भारत में सबसे अच्छे संग्रहालयों में से एक है।

    Read More

  9. कालिको संग्रहालय को गौतम साराभाई और उनकी बहन जीरा साराभाई द्वारा 1949 में शुरू किया गया था। ये संग्रहालय अहमदाबाद शहर में सबसे पसंदीदा पर्यटक आकर्षणों में से एक है। ये म्यूजियम ना केवल मुगल युग के दौरान भारत में बने प्राचीन वस्त्र और कपड़े प्रदर्शित करता है, बल्कि यह देश के विभिन्न हिस्सों में कपड़ा उद्योग की प्रगति का वर्णन भी करता है। ये संग्रहालय कला के उत्कृष्ट कार्य द्वारा लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

    Read More

  10. दिल्ली में स्थित शंकर अंतर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय देश में गुड़ियों का सबसे बड़ा संग्रह है। इस संग्रहालय की दीर्घाओं में भारत के विभिन्न हिस्सों से गुड़िया का एक प्रभावशाली प्रदर्शन और 85 अन्य देशों से भी शामिल है। इस संग्रहालय में न्यूजीलैंड, अफ्रीका, भारत और ऑस्ट्रेलिया से 160 से अधिक गिलास मामलों का प्रदर्शन करने वाले दो खंड हैं। विभिन्न देशों से प्रदर्शित गुड़ियाओं के अलावा इसमें आगंतुकों को विभिन्न प्रकार के वेशभूषा की गुड़ियों की एक झलक भी मिल सकती है। जिसमें भारतीय नृत्य और परंपराएं दुल्हा और दुल्हन के जोड़े शामिल हैं।

    Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |