सड़कें दो स्थानों के बीच के रास्ते का समय बचाने, यातायात और जन सुविधा के लिए होती हैं | लेकिन कभी कभार इन सड़कों को भी ऐसे रास्तों से गुजरना पड़ता है जहाँ एक हलकी सी ढील और फिर मन लो कि आपकी जान पर बन सकती है | जी हाँ पहाड़ों और दर्रों से होकर गुजरने वाले ये रास्ते भारत में भी कई जगहों पर हैं , जहाँ से होकर गुजरने वाले वाहन के चालक का भी दिल खूब मजबूत होना चाहिए | वरना कमजोर दिल वालों की तो जान हलक में उतर आये |

आइये जानते हैं एसी ही कुछ खतरनाक भारतीय सड़कों के बारे में –

  1. लेह-मनाली राजमार्ग

    Like Dislike Button
    36Votes

    लेह-मनाली राजमार्ग भारत में हिमांचल प्रदेश के मनाली और जम्मू कश्मीर के लेह को जोड़ने वाला राजमार्ग और एनएच 21 का हिस्सा है। लेह-मनाली राजमार्ग की औसत ऊंचाई 4000 मीटर और लम्बाई 475 किलोमीटर है। लेकिन तंगलंगला दर्रे में राजमार्ग की ऊंचाई 5000 मीटर से अधिक हो जाती है। यह राजमार्ग साल में केवल 4 से 5 महीने के लिए ही खुलता है और अक्टूबर में भारी बर्फबारी की वजह से बंद हो जाता है। यह पूरा मार्ग पर्वतीय भूभाग में स्थित है। पूरे मार्ग पर शानदार और हैरतअंगेज दृश्य आपका मन मोह लेंगे।

    Read More

  2. जोजी ला पास

    Like Dislike Button
    32Votes

    जोजी ला पास हिमालय पर्वत श्रृंखलाओं के पश्चिमी भाग में श्रीनगर और लेह के NH-1 पर स्थित है। इसको गेटवे ऑफ हिमालया के नाम से भी जाना जाता है। समुद्र सतह से लगभग 3465 मीटर की ऊँचाई पर स्थित यह लद्दाख और कश्मीर के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी है। कश्मीर घाटी का सबसे खतरनाक पास माना जाने वाला जोजी ला पास बर्फ से ढंके हुए पहाड़ों, कश्मीर घाटी और जंगलों से घिरा हुआ है। वसंत ऋतु को छोड़कर भारी बर्फ़बारी के कारण पूरे वर्ष यह स्थान बंद रहता है। एक बार जब आप जोजी ला पास तक पहुंच जाते हैं, तो आपको शक्तिशाली हिमालय पर्वतों के बारे में आश्चर्यजनक दृष्टिकोण दिखने लगता है और आपके यहाँ आने की कीमत अदा करता है।

    Read More

  3. रोहतांग पास

    Like Dislike Button
    27Votes

    रोहतांग पास हिमालय का एक प्रमुख पास है। रोहतांग पास भारत देश के हिमाचल प्रदेश में समुद्री तल से 4111 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है, जहां से मनाली का शानदार दृश्य दिखाई पड़ता है। यह पास, दुनिया की सबसे ऊंची चलने वाली रोड़ है जहां हर साल लाखों पर्यटक इस लॉफी पहाड़ पर भ्रमण करने आते हैं। यहां से पहाडों, सुंदर दृश्यों वाली भूमि और ग्लेसियर का शानदार दृश्य देखा जा सकता है। इन सभी के अलावा इस पर्यटन स्थल में आकर पर्यटक ट्रैकिंग, माउंटेन बाइकिंग और पैरालाइडिंग भी कर सकते हैं। यह पास साल में मई के महीने में पर्यटकों के लिए खुल जाता है और सितम्बर में भारी बर्फबारी के कारण बंद कर दिया जाता है।

    Read More

  4. किन्नौर

    Like Dislike Button
    26Votes

    किन्नौर रोड भारत में हिमांचल प्रदेश के किन्नौर जिले के संगला घाटी में है। किन्नौर राज्य हिमांचल प्रदेश, भारत में है। किन्नौर और बाकी देश के बीच एक सड़क से जोड़ने के लिए किन्नौर रोड कठिन पहाड़ को काट कर बनाया गया है। इस रोड पर चलने के लिए आपके पास अपने वाहन और आपके ड्राइविंग कौशल में पूर्ण विश्वास होना चाहिए। किन्नौर के अधिकांश गांव काफी ऊंचाई पर हैं, जिनमें से कुछ करीब 4000 मीटर तक की ऊंचाई पर हैं इसीलिए यह एक सूखा और बहुत ठंडा क्षेत्र है। सर्दियों के दौरान (दिसंबर से मई तक) घाटी छह महीने तक, जब भारी बर्फबारी होती है तब यह रोड किसी भी समय बंद किया जा सकता है।

    Read More

  5. नाथुला पास

    Like Dislike Button
    26Votes

    नाथुला पास हिमालय का एक पहाड़ी पास है जो भारत के सिक्किम राज्य और तिब्बत में चुम्बी घाटी को जोड़ता है। यह लगभग 15000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। नाथू ला पास चीन और भारत के बीच आपसी समझौतों द्वारा स्थापित तीन खुले व्यापार की चौकियों में से एक है। भारत और चीन के बीच 1962 में हुए युद्ध के बाद इसे बंद कर दिया गया था। इसे वापस 5 जूलाई 2006 को व्यापार के लिए खोल दिया गया है। यह पास प्राचीन रेशम मार्ग की एक शाखा का हिस्सा भी रहा है। ये पास हिन्दू और बौद्ध तीर्थयात्रियों के लिए इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह इस क्षेत्र में मौजूद कई तीर्थ स्थलों की दूरी कम कर देता है।

    Read More

  6. चांग ला पास

    Like Dislike Button
    25Votes

    चांग ला पास भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य में लद्दाख में स्थित समुद्र तल से 5360 मीटर की ऊंचाई पर एक उच्च पर्वत पास है। चांग ला पास हिमालय में स्थित चंगथांग पठार के लिए मुख्य प्रवेश द्धार है। यह देश की सबसे ऊंची पहाड़ी सड़कों में से एक है। यह पूरे वर्ष के दौरान बर्फ से ढंका रहता है। आमतौर पर यह सड़क पूरे वर्ष खुली जाती है, लेकिन इसको किसी भी समय बंद किया जा सकता है। ठंडी जलवायु और ऊंचाई से ऑक्सीजन की कमी के कारण इस जगह पर जाने के दौरान कुछ सावधानियां आवश्यक हैं। लेकिन यहाँ पहुँचने के बाद आप बर्फीले पहाड़ों के दृश्यों के साथ बर्फ का आनंद ले सकते हैं।

    Read More

  7. मुन्नार रोड

    Like Dislike Button
    24Votes

    मुन्नार रोड, मुन्नार समुद्र के स्तर से 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। मुन्नार रोड, कोच्चि से शुरू होने वाली तेज और संकीर्ण ज़िग-ज़ग रोड में 130 किमी की लंबाई के साथ तेजी से घुमावदार और प्रचलित चढ़ाई का नाम है। मुन्नार, भारत के केरल का एक लोकप्रिय पहाड़ी शहर है। यह शहर पश्चिमी घाटों पर स्थित है, जो इडुक्की जिले में स्थित है। कोठमंगलम और अगले शहर अदमिली के बीच, आप प्राकृतिक वन के माध्यम से एक सुंदर शांत ड्राइव का अनुभव कर सकते हैं। इसके अलावा आप कई ताज़ा झरने देख सकते हैं। साथ ही आप अनगिनत चाय के बागानों से ताजे चाय के पत्तों की मीठी सुगंध का अनुभव भी कर सकते हैं।

    Read More

  8. खरदुंग ला पास

    Like Dislike Button
    24Votes

    दुनिया का सबसे ऊँचा गाड़ी चलाने योग्य मार्ग खरदुंग ला पास समुद्र स्तर से ऊपर 5359 मीटर की ऊंचाई पर भारत के जम्मू और कश्मीर में स्थित एक उच्च पर्वत पास है। पर्यटकों को नुब्रा घाटी तक पहुंचने के लिए खरदुंग ला पास ही एक मार्ग है। सीमा सड़क संगठन को साल भर खरदुंग ला पास के रखरखाव की जिम्मेदारी दी गई है। ये पास भारत के लिए रणनीतिक रूप से भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका उपयोग सियाचिन ग्लेशियर को आपूर्ति करने के लिए किया जाता है। यह सड़क लगभग हर साल बर्फबारी की वजह से बंद हो जाती है। इस क्षेत्र में भारी धुंध की संभावना रहती है इसलिए कम दृश्यता की स्थिति में ड्राइविंग करना खतरनाक हो सकता है। इस दर्रे से यात्रा करते वक़्त पर्यटक काराकोरम और लद्दाख श्रंखला के सुंदर दृश्य का आनंद ले सकते हैं।

    Read More

  9. वालपराय तिरुपति घाट रोड

    Like Dislike Button
    23Votes

    वालपराय तिरुपति घाट सड़क तिरुपति और तिरूमाला के बीच खड़ी एक प्राकृतिक ढलान घाट सड़क है। दोनों घाट सड़कें डबल लेन प्रकार की हैं और प्रत्येक सड़क की लंबाई लगभग 19 किमी है। तिरुमला पहाड़ियों को जाने के लिए सड़क का शुरुआती बिंदु अलिपीरी है। पृथ्वी पर सबसे भीड़ भरे मंदिर तिरुपति तक पहुंचना आसान नहीं है। तिरुपति में इस सड़क पर 40 खतरनाक मोड़ हैं जो काफी खतरनाक है और दुर्घटनाओं से ग्रस्त है। इसके मोड़ इतने खतरनाक हैं की वाहन चालक को सीट पर ध्यान से बैठना पड़ता है।

    Read More

  10. स्पीति घाटी

    Like Dislike Button
    19Votes

    स्पीति घाटी हिमांचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले में स्थित एक ठंडी रेगिस्तान पहाड़ी घाटी है। स्पीति का अर्थ है मिडल लैंड अर्थात ये तिब्बत और भारत के बीच की भूमि है। आसपास के क्षेत्र में से स्पीति घाटी कम से कम आबादी वाले क्षेत्रों में से एक है, और उत्तरी भारत तक पहुंच के लिए प्रवेश द्वार है। लाहौल और स्पीति उच्च पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ है। एक सड़क दोनों डिवीजनों को जोड़ती है, लेकिन अक्सर हिमपात के कारण सर्दी और वसंत में भारी हिमपात और कठिन परिस्थितियों के कारण इसको बंद कर दिया जाता है।

    Read More

अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |