मूर्तिकला, वास्तुकला और स्थापत्य कला के लिए चर्चित रही भारत की प्राचीन सभ्यता एवं संस्कृति ने खुद को अपनी सुन्दरता को इमारतों, महलों के साथ साथ धार्मिक स्थलों के माध्यम से भी दर्शाया है | तो आज की इस लिस्ट में हम आपको भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों की जानकारी लाये हैं जो कि अपने भव्य दर्शन के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं |

  1. तिरुपति बालाजी, आंध्र प्रदेश

    भगवान विष्णु का प्रसिद्ध तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर आन्ध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले के तिरुपति में स्थित है। समुद्र तल से 3200 फीट ऊंचाई पर स्थिम तिरुमला के सात पर्वतों में से एक वेंकटाद्रि पर बना श्री वैंकटेश्‍वर मंदिर यहां का सबसे बड़ा आकर्षण है। इसलिए इसे सात पर्वतों का मन्दिर के नाम से भी जाना जाता है। भगवान तिरुपति बालाजी को भारत के सबसे अमीर देवताओं में से एक माना जाता है। माना जाता है कि भगवान तिरुपति बालाजी अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमला में निवास करते हैं। ऐसे कहा जाता है कि यदि कोई भक्त कुछ भी सच्चे दिल से मांगता है, तो भगवान उसकी सारी मुरादें पूरी करते हैं।

    Read More

    58 Votes
  2. अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

    भारत की राजधानी दिल्ली में यमुना नदी के तट पर स्थित अक्षरधाम या स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर भारतीय संस्कृति, वास्तुकला, और आध्यात्मिकता के लिए एक सच्चा चित्रण है। इसे ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है। यह परिसर लगभग 100 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। इसीलिए इसको दुनिया का सबसे विशाल हिंदू मन्दिर परिसर होने का गौरव हासिल है और 26 दिसम्बर 2007 को इसको गिनीज बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिका‌र्ड्स में शामिल किया गया है। इस मंदिर की खासियत यह भी है कि इसमें स्टील, इस्पात या कंक्रीट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। यह मंदिर भारतीय संस्कृति, सभ्यता, परंपराओं और आध्यात्मिकता की आत्मा को प्रदर्शित करता है।

    Read More

    46 Votes
  3. जगन्नाथ मंदिर पुरी, ओडिशा

    जगन्नाथ मंदिर उड़ीसा के तटवर्ती शहर पुरी में स्थित है। यह मंदिर भगवान जगन्नाथ (श्रीकृष्ण) को समर्पित है। पुरी का जगन्नाथ धाम चार धामों में से एक है। मंदिर का वार्षिक रथयात्रा उत्सव प्रसिद्ध है। इस रथ की रस्सियों खींचने और छूने मात्र के लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु यहां आते हैं, मान्यता है कि इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसमें मंदिर के तीनों मुख्य देवता- भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भ्राता बलभद्र और भगिनी सुभद्रा, तीनों तीन अलग-अलग भव्य और सुसज्जित रथों में विराजमान होकर नगर की यात्रा को निकलते हैं। मध्य काल से ही यह उत्सव अति हर्षोल्लस के साथ मनाया जाता है।

    Read More

    44 Votes
  4. कामाख्या देवी मंदिर, असम

    बेहद खूबसूरत और अपनी एक अलग संस्कृति लिए हुए पूर्वोत्तर भारत का प्रवेश द्वार गुवाहाटी असम का सबसे बड़ा शहर है। भारत का प्रसिद्ध कामाख्या मंदिर गुवाहाटी से 8 किलोमीटर दूर पहाड़ी पर नीलांचल पहाड़ियों में स्थित है। यह मंदिर शक्ति की देवी सती का मंदिर है। नीलशैल पर्वतमालाओं पर स्थित मां भगवती कामाख्या का सिद्ध शक्तिपीठ सती के इक्यावन शक्तिपीठों में सर्वोच्च स्थान रखता है। यहीं भगवती की महामुद्रा यानी योनि-कुण्ड स्थित है। मान्यता है कि भगवान विष्णु के चक्र से खंडित होने पर सती की योनि नीलांचल पहाड़ पर गिरी थी।

    Read More

    42 Votes
  5. काशी विश्वनाथ वाराणसी, उत्तर प्रदेश

    वाराणसी में गंगा तट पर स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। शिव की नगरी काशी में महादेव साक्षात वास करते हैं। ऐसा माना जाता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आदि शंकराचार्य, सन्त एकनाथ रामकृष्ण परमहंस, स्‍वामी विवेकानंद, महर्षि दयानंद, गोस्‍वामी तुलसीदास सभी का आगमन हुआ हैं। काशी विश्‍वनाथ मंदिर का हिंदू धर्म में एक विशिष्ट स्थान है। बाबा विश्वनाथ के मंदिर में तड़के सुबह की मंगला आरती के साथ पूरे दिन में चार बार आरती होती है। मान्यता है कि सोमवार को चढ़ाए गए जल का पुण्य अधिक मिलता है। खासतौर पर सावन के सोमवार में यहां जलाभिषेक करने का अपना एक अलग ही महत्व है।

    Read More

    41 Votes
  6. प्रेम मंदिर, वृन्दावन

    सन 2001 से निर्माण कार्य प्रारंभ करवा सन 2012 में जगद्गुरु कृपालु जी महाराज ने अपने नॉन प्रॉफिटेबल चैरिटेबल ट्रस्ट से भगवान श्रीकृष्ण का मथुरा (उत्तर प्रदेश) में 54 एकड़ की भूमि पर एक सुंदर विशाल मंदिर का निर्माण करवाया, जिसे के 'प्रेम मंदिर' के नाम से जाना जाता है | दूर दूर से सैलानी यहाँ पर आते हैं और आनन्द की अनुभूति पाते हैं |

    Read More

    38 Votes
  7. मीनाक्षी मंदिर मदुरै, तमिलनाडु

    मीनाक्षी मन्दिर तमिलनाडु राज्य के मदुरै शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है और इस मंदिर को मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर या मीनाक्षी अम्मान मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। ये मन्दिर भगवान शिव और देवी पार्वती को समर्पित है जो मीनाक्षी के नाम से जानी जाती थीं। इस मन्दिर को देवी पार्वती के सर्वाधिक पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। तमिलनाडु में स्थित मां मीनाक्षी देवी का यह मंदिर विश्‍व के सात अजूबों में शमिल है। यह मंदिर 2500 साल पुराने शहर मदुराई का दिल और जीवन रेखा है और साथ ही तमिलनाडु के मुख्य आकर्षणों में से भी एक है। यह मंदिर अपनी शानदार वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है।

    Read More

    36 Votes
  8. वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू

    देवी मां का अवतार माता रानी वैष्णो देवी और वैष्णवी के रूप में भी जानी जाती हैं वैष्णो देवी मंदिर इसी शक्ति को समर्पित है, जो भारत के जम्मू और कश्मीर में वैष्णो देवी की पहाड़ी पर स्थित है। ऐसा माना जाता है की माँ वैष्णो देवी अपने भक्तो को अपनी मर्जी पर दर्शन कराने बुलाती हैं। लोकप्रिय कथाओं के अनुसार, देवी वैष्‍णों इस गुफा में छिपी और एक राक्षस का वध कर दिया। मंदिर का मुख्‍य आकर्षण गुफा में रखे तीन पिंड है। इस मंदिर में आने के लिए सबसे पहले कटरा पहुंचे और वहां से चढ़ाई शुरू कर दें। यहां चढ़ाई रात के किसी भी पहर से शुरू की जा सकती है और गुफा में दर्शन करना एक रोमांचक अनुभव है।

    Read More

    36 Votes
  9. सोमनाथ मंदिर, गुजरात

    बारह ज्योतिर्लिगों में सबसे प्रमुख सोमनाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिन्दू मंदिर है। सोमनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल है। गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल बंदरगाह में स्थित इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण स्वयं चन्द्रदेव ने किया था। इसी क्षेत्र में भगवान श्रीकृष्णचन्द्र ने यदु वंश का संहार कराने के बाद अपनी नर लीला समाप्त कर ली थी। इस कारण इस क्षेत्र का और भी महत्व बढ़ गया। गुजरात के सौराष्ट्र से होकर प्रभास क्षेत्र में कदम रखते ही दूर से ही दिखाई देने लगता है वो ध्वज जो हजारों वर्षों से भगवान सोमनाथ का यशगान करता आ रहा है, जिसे देखकर शिव की शक्ति का, उनकी ख्याति का एहसास होता है।

    Read More

    36 Votes
  10. बृहदेश्वर मंदिर तंजावुर, तमिलनाडु

    तमिलनाडु के तंजावुर का बृहदेश्वर अथवा बृहदीश्वर मन्दिर विश्व के प्रमुख ग्रेनाइट मंदिरों मे से एक हिंदू मंदिर है। इसका निर्माण 1003-1010 ई. के बीच चोल शासक प्रथम राजराज चोल ने करवाया था। बृहदेश्वर मंदिर अपनी भव्यता, वाश्तुशिल्प और केन्द्रीय गुम्बद से लोगों को आकर्षित करता है। विश्व में यह अपनी तरह का पहला और एकमात्र मंदिर है जो कि ग्रेनाइट का बना हुआ है। भगवान शिव को समर्पित बृहदीश्वर मंदिर शैव धर्म के अनुयायियों के लिए पवित्र स्थल रहा है। इसके दुर्ग की ऊंचाई विश्व में सर्वाधिक है और दक्षिण भारत की वास्तुकला की अनोखी मिसाल इस मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घेषित किया है।

    Read More

    35 Votes
  11. दक्षिणेश्वर काली मंदिर, कोलकाता

    कोलकाता के निकट दक्षिणेश्वर में गंगा नदी (हुगली) के किनारे स्थित माता काली का भव्य मंदिर पश्चिम बंगाल में सबसे प्रसिद्ध है | यह मंदिर सन 1855 में बना था |

    Read More

    17 Votes
  12. शिर्डी साईं बाबा मंदिर, महाराष्ट्र

    साईं बाबा का मंदिर शिर्डी में महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में स्थित है, जहां साईं ने अपने चमत्कारों से लोगों को विस्मृत किया। साईं का जीवन शिर्डी में बीता जहां उन्होंने लोक कल्याणकारी कार्य किए। साईं बाबा का मंदिर 1922 में स्थापित हुआ और इस मंदिर में तीन मंदिर श्री गणेश मंदिर, साईं बाबा मंदिर व श्री शिव मंदिर बने हुए हैं। यह तीनों मंदिर साईं बाबा की समाधी स्थल के पास है। साईं बाबा के दर्शन का अगर मौका मिल जाए तो भक्त धन्य हो जाते हैं। महाराष्ट्र के शिरडी गांव में हर साल करोड़ों श्रद्धालु आते हैं।

    Read More

    9 Votes
अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |