बचपन में मनोरंजन और जवानी में हिट और फिट रहने के लिए हम लोग खेल का सहारा लेते हैं | हर खेल का अपना अलग महत्त्व होता है | प्रतिभाओं के देश भारत में आजकल जहाँ हर तरफ सिर्फ क्रिकेट का बोलबाला है तथा क्रिकेटरों को भगवान की तरह पूजा जाता है | वहीँ बाकी खेल ग्लैमर की दुनिया में कहीं पीछे छूटते जा रहे हैं | ऐसे में हम आपके लिए विभिन्न खेलों में भारत के प्रतिभावान पुरुष खिलाडियों की सूची लाये हैं जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाडियों और विदेशी टीमों को अपने खेल के माध्यम से धूल चटाई है | समस्त भारतवर्ष के युवा जिनसे प्रेरित होते हैं , आइये नज़र डालते हैं ऐसे ही कुछ खिलाडियों पर –

  1. सचिन तेंदुलकर

    मास्टर ब्लास्टर व लिटिल मास्टर के नाम से मशहूर सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 में मुंबई में हुआ था| सचिन रमेश तेंदुलकर क्रिकेट के इतिहास में विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ौं में गिने जाते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में इनके नाम सर्वाधिक रन, सर्वाधिक शतक और सबसे पहल दोहरा शतक है | भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं। राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं। सन् 2008 में वे पद्म विभूषण से भी पुरस्कृत किये जा चुके है। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर पर फिल्म ‘सचिन – ए बिलियन ड्रीम्स’ भी बनी है।

    Read More

    30 Votes
  2. मिल्खा सिंह

    फ़्लाइंग सिख’ के नाम से मशहूर फर्राटा धावक मिल्खा सिंह भारत के प्रसिद्ध धावक व एथलीट हैं। इनका जन्म 8 अक्टूबर 1935, लायलपुर (जो अब पाकिस्तान में है) में हुआ था। मिल्खा सिंह का नाम सुर्ख़ियों में तब आया जब उन्होंने कटक में हुए राष्ट्रीय खेलों में 200 तथा 400 मीटर में रिकॉर्ड तोड़ दिए । 1958 में ही उन्होंने टोकियो में हुए एशियाई खेलों में 200 तथा 400 मीटर में एशियाई रिकॉर्ड तोड़ते हुए स्वर्ण पदक जीते | इसी वर्ष में कार्डिफ (ब्रिटेन) में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता | उनकी इन्हीं सफलताओं के कारण 1958 में भारत सरकार द्वारा उन्हें ‘पद्मश्री’ से सम्मानित किया गया । वह रिटायरमेंट के बाद पंजाब में ‘डायरेक्टर आफ स्पोर्ट्स’ के पद पर कार्यरत हैं |

    Read More

    23 Votes
  3. महेंद्र सिंह धोनी

    माही और कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी का जन्म 7 जुलाई 1981 को झारखण्ड के रांची में हुआ। धोनी भारतीय क्रिकेटर तथा भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान हैं। वे दायें हाथ के आक्रामक मध्यक्रम बल्लेबाज और विकेट-कीपर हैं, वे अपनी आक्रामक शैली से मैच को खत्म करने वाले बल्लेबाज के रूप में वे जाने जाते हैं। महेंद्र सिंह धोनी इकलौते ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईसीसी की तीनों बड़ी ट्रॉफ़ी पर कब्ज़ा जमाया है। धोनी की कप्तानी में भारत आईसीसी की वर्ल्ड टी-20 (2007) में, क्रिकेट वर्ल्ड कप (2011) में और आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफ़ी (2013) में का खिताब जीत चुका है। महेंद्र सिंह धोनी 2011 में भारतीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल बनाए गए। धोनी को 2008 में आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ़ द इयर अवार्ड, राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार और 2009 में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्मश्री पुरस्कार भी भी प्रदान किये गए हैं।

    Read More

    23 Votes
  4. अभिनव बिंद्रा

    अभिनव बिंद्रा का जन्म 28 सितम्बर 1982 को देहरादून उत्तराखंड में हुआ था। अभिनव बिंद्रा 10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में भारत के एक प्रमुख निशानेबाज हैं। 19 वर्ष की आयु में अभिनव बिंद्रा को देश का सबसे बड़ा खेल सम्मान राजीव गाँधी खेल रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। वह ‘अर्जुन पुरस्कार’और ‘राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’पाने वाले सबसे कम आयु के खिलाड़ी हैं। अभिनव बिन्द्रा ने 11 अगस्त, 2008 को बीजिगं में आयोजित 29वें, ओलंपिक खेलों में 10 मीटर एयर राइफल निशानेबाजी प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल जीतकर इतिहास रच डाला| ओलंपिक में वैयक्तिक स्पर्धा में गोल्ड मैडल जीतने वाले वे भारत के पहले निशानेबाज बन गए। भारत को 28 साल बाद ओलंपिक में गोल्ड मैडल मिला| 2004 के एथेंस ओलंपिक में अभिनव बिन्द्रा ने सातवां स्थान प्राप्त किया था|

    Read More

    21 Votes
  5. बाईचुंग भूटिया

    बाईचुंग भूटिया का जन्म 15 दिसंबर 1976 को सिक्किम में हुआ। वे एक सेवानिवृत्त भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी हैं जो स्ट्राइकर के रूप में खेलते थे। सुप्रसिद्ध भारतीय खिलाड़ी आइ॰ एम॰ विजयन ने भूटिया को “भारतीय फुटबॉल के लिए भगवान का उपहार” बताया। उनका योगदान भारतीय फुटबाल के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है, उनका खेलने का अलग अंदाज है, उनमें उत्तम दर्जे की स्ट्राइक करने की क्षमता है | वह वास्तव में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं | वह भारत के पहले फुटबाल खिलाड़ी है जिन्हें इंग्लिश क्लब के लिए खेलने के लिए आमंत्रित किया गया था। 1998 में ‘अर्जुन पुरस्कार’ जीतने वाले बाइचुंग भूटिया अपने प्रशंसकों की बीच अंतरराष्ट्रीय फुटबाल क्षेत्र में भारतीय फुटबाल टीम के मार्गदर्शक के नाम से जाने जाते हैं| वह 1999 का ‘अर्जुन पुरस्कार’ प्राप्त कर चुके हैं|

    Read More

    20 Votes
  6. पंकज आडवाणी

    पंकज आडवाणी का जन्म 24 जुलाई 1985 को पुणे में हुआ| वे भारतीय स्नूकर और बिलियर्ड्स के खिलाड़ी के रूप में उभरे हैं और विश्व विजेता हैं। पंकज ने मात्र 19 वर्ष की आयु में तीन विश्व खिताब जीतकर इतिहास रच डाला । उन्होंने बिलियर्ड्स तथा स्नूकर दोनों खेलों में तीन विश्व खिताब जीते हैं| वह पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने दोनों खेलों में विजय प्राप्त कर खिताब प्राप्त किए हैं। उन्हें 2005 के लिए ‘राजीव गांधी खेल रत्न’पुरस्कार दिया गया है।

    Read More

    20 Votes
  7. मेजर ध्यानचंद

    “हॉकी के जादूगर”के नाम से जाने जाने वाले मेजर ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ। वे भारतीय फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाडी एवं कप्तान थे। जब वे हॉकी लेकर मैदान में उतरते थे तो गेंद इस तरह उनकी स्टिक से ऐसे चिपक जाती थी जैसे वे किसी जादू की स्टिक से हॉकी खेल रहे हों। ध्यानचंद ने तीन ओलिम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा तीनों बार देश को स्वर्ण पदक दिलाया। ध्यानचंद ने 1928 (एम्सटर्डम), 1932 (लॉस एंजिल्स) और 1936 (बर्लिन) में लगातार तीन ओलिंपिक में भारत को हॉकी में गोल्ड मेडल दिलाए। 1956 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। उनके जन्मदिन को भारत का राष्ट्रीय खेल दिवस घोषित किया गया है। इसी दिन खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं।

    Read More

    19 Votes
  8. लिएंडर पेस

    लिएंडर पेस का जन्म 17 जून 1973 को कोलकाता में हुआ था। लिएंडर पेस भारत के टेनिस खिलाड़ी हैं। वे आजकल युगल एवं मिश्रित युगल मुकाबलों में भाग लेते हैं। वह भारत के सफलतम टेनिस खिलाड़ियों में से एक हैं। उन्होंने कई युगल एवं मिश्रित युगल स्पर्धायें जीती हैं। उनको भारत का खेल जगत में सबसे बड़ा पुरस्कार राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार 1996-1997 में दिया गया और साथ ही 2001 में पद्म श्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। 2014 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। युगल मैचों के अलावा उन्होंने डेविस कप टेनिस स्पर्धा में भारत के लिये कई यादगार जीतें हासिल की और 1996 अटलांटा ओलम्पिक में कांस्य पदक जीता है।

    Read More

    18 Votes
  9. विश्वनाथन आनंद

    शतरंज के बादशाह के नाम से पहचाने जाने वाले विश्वनाथन आनंद का जन्म 11 दिसम्बर 1969 को तमिलनाडु, भारत में हुआ। इन्होंने 5 वर्ष की उम्र से ही शतरंज खेलना शूरू कर दिया था | विश्वनाथन आनंद ने पांच बार विश्व शतरंज प्रतियोगिता जीती है। विश्वनाथन आनंद 2003 में फीडे विश्व शतरंज चैंपियनशिप में विश्व शतरंज बने। विश्वनाथन आनंद को ‘अर्जुन पुरस्कार’, ‘पद्मश्री’, प्रथम ‘राजीव गांधी खेल रत्न’ पुरस्कार, ‘सोवियत लैण्ड नेहरु अवार्ड’, ‘स्पोर्ट्स स्टार’, स्पोर्ट्समैन आफ द ईयर’ जैसे भारत के अनेक प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है।

    Read More

    17 Votes
  10. सुशील कुमार

    सुशील कुमार का जन्म 26 मई 1983 को दिल्ली में हुआ। वे भारत के कुश्ती पहलवान हैं। सुशील कुमार ने अपने ‘पहलवानी करियर’की शुरुआत छत्रसाल स्टेडियम के अखाड़े से मात्र 14 वर्ष की छोटी आयु से ही कर दी थी। वे 2012 के लंदन ओलंपिक में रजत पदक, 2008 के बीजिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर लगातार दो ओलम्पिक मुकाबलों में व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने। सुशील कुमार ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में विभिन्न मेडल्स जीते और देश को गौरवान्वित किया।

    Read More

    16 Votes
  11. युवराज सिंह

    युवराज सिंह (युवी) भारत के क्रिकेट खिलाड़ी हैं। इन्होंने 20-20 विश्व कप 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ एक ओवर की 6 गेंदों में 6 छक्के मार कर विश्व रिकॉर्ड बनाया। इसके साथ ही 20-20 में 12 गेंदों में अर्धशतक बनाने का विश्व रिकॉर्ड भी उनके नाम है। युवराज सिंह को 2011 क्रिकेट विश्व कप में अहम भूमिका निभाने में मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट चुना गया। इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब, पुणे वॉरियर्स इंडिया, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली डेयरडेविल्स, और सनराइजर्स हैदराबाद से खेल चुके हैं।

    Read More

    0 Votes
  12. नारायण कार्तिकेयन

    नारायण कार्तिकेयन(जन्म: 14 जनवरी 1977, मद्रास मेें) भारत के एकमात्र फॉरमूला वन चालक थे। पिछले कई वर्षों में फॉरमूला थ्री में शिरकत करने के पश्चात वर्ष 2005 में नारायण कार्तिकेयन ने आस्ट्रेलियन ग्रान्ड प्रिक्स से अपने फॉरमूला वन कैरियर की शुरूआत की। यद्यपि वह 15वें स्थान पर आये तब भी उनका उभर कर आना सराहनीय है। वर्ष 2011 मैं नारायण ने हिस्पेनिय रेसिंग टीम के लिए ड्राइविंग की है। 2013 में हिस्पेनिय रेसिंग टीम की फॉरमूला वन में लिस्ट न होने के कारण वह दोबारा ड्राइविंग नहीं कर पाए।

    भारत सरकार ने उन्हे 2010 में देश का चौथा उच्चतम नागरिक सम्मान पद्म श्री दिया।

    Read More

    0 Votes
  13. रोहित शर्मा

    रोहित गुरूनाथ शर्मा (अंग्रेज़ी: Rohit Sharma) (जन्म: 30 अप्रैल 1987) एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी है। इनका जन्म नागपुर, महाराष्ट्र में हुआ था। रोहित मुख्य रूप से सलामी बल्लेबाज के रूप में जाने जाते हैं। रोहित टेस्ट क्रिकेट, वनडे और ट्वेन्टी-ट्वेन्टी के अलावा इंडियन प्रीमियर लीग में भी खेलते है इसके अतिरिक्त मुम्बई इंडियन्स टीम के कप्तान भी है। वर्तमान में वे भारतीय वनडे टीम के उप कप्तान भी है। उन्होंने अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाफ 09 नवम्बर 2013 को कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर खेलकर की थी उस मैच में रोहित ने 177 रनों की पारी खेली थी, उन्होंने 108 वनडे मैचों के बाद टेस्ट मैच खेला था। जबकि एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर की शुरुआत 23 जून 2007 को आयरलैण्ड क्रिकेट टीम के खिलाफ की थी। इनके अलावा रोहित ने अपने ट्वेन्टी-ट्वेन्टी में अपना पहला मैच 19 सितम्बर 2007 को इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ खेला था। 13 नवम्बर 2014 को कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर श्रीलंकाई टीम के खिलाफ बल्लेबाजी करते हुए 264 रनों की पारी खेलकर एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक मैच में सबसे ज्यादा रन अर्थात सर्वोच्च स्कोर बनाकर नया कीर्तिमान कायम किया है। रोहित शर्मा एक दिवसीय क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी है। रोहित शर्मा क्रिकेट इतिहास में पहले ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने वनडे क्रिकेट में तीन दोहरे शतक, ट्वेन्टी-20 अंतरराष्ट्रीय में तीन शतक है। फ़ोर्ब्स इंडिया 2015 के भारत के 100 शीर्ष प्रसिद्ध व्यक्तियों में शर्मा को 8वाँ स्थान मिला। महेंद्र सिंह धोनी और गौतम गंभीर के बाद अपनी टीम को आईपीएल खिताब दिलाने वाले तीसरे कप्तान हैं। 2018 एशिया कप में रोहित शर्मा को भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी मिली और फाइनल मैच में बांग्लादेश को हराकर खिताब भी जीता।

    Read More

    0 Votes
  14. हरभजन सिंह

    हरभजन सिंह प्लाहा (जन्म: 03 जुलाई 1980, जालन्धर, पंजाब) भारत के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट खिलाडी हैं। वे इंडियन प्रिमियर लीग के चेन्नई सुपर किंग्स तथा पंजाब राज्य क्रिकेट टीम (2012-13) के भूतपूर्व कप्तान भी हैं। वे स्पिन गेंदबाजी में निपुण हैं और टेस्ट मैचों में ऑफ-स्पिनर द्वारा सर्वाधिक विकेट लेने वाले दूसरे स्पिनर हैं। साथ ही ये इंडियन प्रीमियर लीग में सबसे ज्यादा जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे है।

    Read More

    0 Votes
  15. शिखर धवन

    शिखर धवन (जन्म:5 दिसम्बर 1985, दिल्ली) एक भारतीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर है। वह एक बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज और सामयिक दाएं हाथ के ऑफ़ब्रेक गेंदबाज है। जिन्हे अक्सर गब्बर की संग्या दी जाती है| वह नवंबर, 2004 में दिल्ली के लिए अपने प्रथम श्रेणी कैरियर की शुरुआत की। उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग में Sunrisers हैदराबाद निभाता है और कप्तानों. वह 12 अगस्त 2013 को दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ भारत ए के लिए 150 गेंदों में 248 रन बनाए थे जब उन्होंने एक सूची एक मैच में दूसरा सर्वोच्च स्कोर दर्ज की गई। वह विशाखापत्तनम में अक्टूबर 2010 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत की। उन्होंने (85 गेंदों पर 100 रन. उन्होंने 174 गेंदों पर 187 रन से अपनी पारी को समाप्त) मोहाली में मार्च 2013 में एक ही विपक्ष के खिलाफ अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की और टेस्ट कैरियर की शुरुआत पर किसी भी बल्लेबाज द्वारा सबसे तेज शतक बनाया। ट्वेन्टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में शिखर के अधिकांश रनों (689) का रिकॉर्ड है।- --Khimraj soni (वार्ता) 18:20, 22 दिसम्बर 2018 (UTC)

    Read More

    0 Votes
  16. रविचंद्रन अश्विन (आर अश्विन)

    रविचंद्रन अश्विन एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों के लिए जाने जाते हैं। अनिल कुंबले की तरह रविचंद्रन अश्विन भी अभियांत्रिकी की पढ़ाई छोड़कर क्रिकेट में कैरियर बनाने को प्राथमिकता दी। ऑफ ब्रेक स्पिन गेंदबाजी करने वाले आश्विन ने 2006-07 में तमिलनाडु की ओर से खेलते हुए 20 से भी कम औसत से 31 विकेट झटके। लेकिन इसी सीजन में कलाई की चोट के चलते अश्विन यह प्रदर्शन जारी रखने में नाकाम रहे। 2008 में आश्विन ने आईपीएल के जरिए शानदार वापसी की। चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से इस स्पिनर ने बढि़या प्रदर्शन किया और तमिलनाडु की ओर से भी आश्विन ने बल्ले और गेंद दोनों से शानदार प्रदर्शन किया। 2010 की शुरुआत में आश्विन को टीम इंडिया की ओर से खेलने का मौका मिला। आश्विन के लिए यह उनका पहला विश्व कप था। अश्विन ने अपना 200वां विकेट न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ ग्रीन पार्क स्टेडियम ,कानपुर में 26 सितम्बर को लिया था साथ ही ये भारत दुसरे सबसे तेज 200 विकेट लेने वाले भी बन गए।जूनियर स्तर के क्रिकेट में एक शुरुआती बल्लेबाज के रूप में बहुत कम सफलता हासिल करने के बाद, अश्विन ने इस क्रम को गिरा दिया और एक ऑफ ब्रेक गेंदबाज में बदल गया। उन्होंने दिसंबर 2006 में तमिलनाडु के लिए प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया और अगले सत्र में टीम की कप्तानी की। लेकिन यह 2010 के इंडियन प्रीमियर लीग तक नहीं था जिसमें उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेला, कि वह अपनी किफायती गेंदबाजी के साथ सुर्खियों में आए और जून 2010 में सीमित ओवरों के प्रारूप में अपने पहले अंतरराष्ट्रीय कॉल-अप को अर्जित किया। दक्षिण अफ्रीका में 2010 चैंपियंस लीग ट्वेंटी 20 के टूर्नामेंट का प्रमुख विकेट लेने वाला और खिलाड़ी। वह 2011 के क्रिकेट विश्व कप जीतने वाले भारतीय दस्ते का भी हिस्सा थे। उस वर्ष के अंत में, उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और टेस्ट पदार्पण पर पांच विकेट लेने वाले सातवें भारतीय बने। उन्होंने दो पांच विकेट लिए और उस सीरीज़ में शतक बनाया और प्लेयर ऑफ़ द सीरीज़ का अवार्ड जीता।
    अश्विन उपमहाद्वीप में सफल होते रहे लेकिन ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसे अन्य स्थानों पर कम प्रभावी साबित हुए। 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक घरेलू टेस्ट श्रृंखला में, उन्होंने 29 विकेट लिए, चार मैचों की टेस्ट श्रृंखला में किसी भी भारतीय गेंदबाज द्वारा सबसे अधिक। उसी वर्ष, उन्होंने अपने 18 वें मैच में अपना 100 वां टेस्ट विकेट लिया, जो 80 से अधिक वर्षों में सबसे तेज और सबसे तेज गति से भारतीय गेंदबाज बने। 2017 में, अपना 45 वां टेस्ट खेल रहे, अश्विन सबसे तेज 250 टेस्ट विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने, उन्होंने डेनिस लिली को बेहतर बनाया, जिन्होंने 48 टेस्ट में लैंडमार्क हासिल किया था। [3]
    अश्विन हाल के समय में एकमात्र गेंदबाज हैं, इसके अलावा कैरम बॉल डालने के लिए श्रीलंका के अजंता मेंडिस हैं। अपने टेस्ट करियर में अब तक चार शतकों के साथ, अश्विन ने एक गेंदबाजी ऑलराउंडर के रूप में प्रतिष्ठा अर्जित की है। वह 2014 में अर्जुन पुरस्कार और 2012-14 सत्र के लिए बीसीसीआई के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर ऑफ द ईयर थे। उन्होंने दिसंबर 2016 में वर्ष 2016 के आईसीसी टेस्ट क्रिकेटर के साथ वर्ष 2016 का आईसीसी क्रिकेटर भी जीता।

    Read More

    0 Votes
  17. जसप्रीत बुमराह

    जसप्रीत जसबीरसिंह बुमराह ( जन्म अहमदाबाद, गुजरात, भारत में 6 दिसंबर 1993) एक भारतीय क्रिकेटर हैं जो खेल के सभी प्रारूपों में भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए खेलते हैं। वह लगातार 140-145 किलोमीटर प्रति घंटे (87-90 मील प्रति घंटे) की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं, जिससे वह भारत के सबसे तेज गेंदबाज बन जाते हैं। वह इन-स्विंगिंग यॉर्कर डिलीवरी में भी माहिर हैं। बुमराह एक भारतीय दाएँ हाथ के तेज मध्यम गेंदबाज है और घरेलू स्तर पर गुजरात और मुंबई इंडियंस के लिए भी खेलते हैं।बुमराह ने 4 अप्रैल 2013 को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ 3/32 ले कर, मुंबई इंडियंस के लिए एक सफल इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत की। जनवरी 2016 में वह घायल मोहम्मद शमी की जगह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनकी श्रृंखला के लिए भारत की ट्वेंटी -20 अंतरराष्ट्रीय टीम में जोड़ा गया है। बॉक्सिंग डे टेस्ट भारतीय क्रिकेट टीम का ऑस्ट्रेलिया दौरा 2018-19 पर, बुमराह ने टेस्ट में अपना तीसरा पांच विकेट लिया, करियर के सर्वश्रेष्ठ आंकड़े 6/33 के साथ। वह उसी कैलेंडर वर्ष में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में पांच विकेट लेने वाले पहले एशियाई गेंदबाज बन गए।

    Read More

    0 Votes
  18. वीरेन्द्र सहवाग

    वीरेन्द्र सहवाग एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं। प्यार से उन्हें सभी "वीरू" ही कहते हैं। वैसे उन्हें "नज़फ़गढ़ के नवाब" व "आधुनिक क्रिकेट के ज़ेन मास्टर" के रूप में भी जाना जाता है। वे दायें हाथ के आक्रामक सलामी बल्लेबाज तो हैं ही किन्तु आवश्यकता के समय दायें हाथ से ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी भी कर लेते हैं। उन्होंने भारत की ओर से पहला एकदिवसीय मैच 1999 में व पहला टेस्ट मैच 2001 में खेला था। अप्रैल 2009 में सहवाग एकमात्र ऐसे भारतीय बने जिन्हें "विजडन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर" के खिताब से नवाज़ा गया। उन्होंने अगले वर्ष भी इस ख़िताब को फिर जीता।

    Read More

    0 Votes
  19. राहुल द्रविड़

    राहुल शरद द्रविड़ (कन्नड़: ರಾಹುಲ್ ಶರದ್ ದ್ರಾವಿಡ, मराठी: राहुल शरद द्रविड) (जन्म - 11 जनवरी 1973) भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ियों में से एक हैं, 1996 से वे इसके नियमित सदस्य रहें हैं। अक्टूबर 2005 में वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में नियुक्त किये गए और सितम्बर 2007 में उन्होंने अपने इस पद से इस्तीफा दे दिया। 16 साल तक भारत का प्रतिनिधित्व करते रहने के बाद उन्होंने वर्ष 2012 के मार्च में अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मैट से सन्यास ले लिया। द्रविड़ को वर्ष 2000 में पांच विसडेन क्रिकेटरों में से एक के रूप में सम्मानित किया गया। द्रविड़ को 2004 के उद्घाटन पुरस्कार समारोह में आईसीसी प्लेयर ऑफ़ द ईयर और वर्ष के टेस्ट प्लेयर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।लम्बे समय तक बल्लेबाजी करने की उनकी क्षमता के कारण उन्हें दीवार के रूप में जाना जाता है, द्रविड़ ने क्रिकेट की दुनिया में बहुत से रिकॉर्ड बनाये हैं। द्रविड़ बहुत शांत व्यक्ति है। "दीवार" के रूप में लोकप्रिय द्रविड़ पिच पर लम्बे समय तक टिके रहने के लिए जाने जाते हैं।
    सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर के बाद वे तीसरे ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दस हज़ार से अधिक रन बनाये हैं। 14 फ़रवरी 2007 को, वे दुनिया के क्रिकेट इतिहास में छठे और भारत में सचिन तेंडुलकर और सौरव गांगुली के बाद तीसरे खिलाड़ी बन गए जब उन्होंने एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में दस हज़ार रन का स्कोर बनाया। वे पहले और एकमात्र बल्लेबाज हैं जिन्होंने सभी 10 टेस्ट खेलने वाले राष्ट्र के विरुद्ध शतक बनाया है। 182 से अधिक कैच के साथ वर्तमान में टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा कैच का रिकॉर्ड द्रविड़ के नाम है।
    [6] द्रविड़ ने 18 अलग-अलग भागीदारों के साथ 75 बार शतकीय साझेदारी की है, यह एक विश्व रिकॉर्ड है।

    Read More

    0 Votes
  20. प्रकाश पादुकोण

    प्रकाश पादुकोण एक प्रसिद्ध पूर्व भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। इनका जन्म 10 जून, 1955 को हुआ था और वे कर्नाटक के रहने वाले हैं। भारत में बैडमिंटन के कई महान एकल खिलाड़ी हुए हैं, लेकिन भारतीय बैडमिंटन के बारे में दुनिया के दृष्टिकोण पर सबसे गहरा असर पादुकोण ने डाला। इन्होंने ही सबसे पहले यह दिखाया था कि चीनियों का मुकाबला कैसे किया जा सकता है। नियंत्रण और सटिकता का इस्तेमाल करते हुए वे खेल को धीमा करके अपनी गति पर ले आते थे और उनकी चतुराई उन्हें डगमगा देती थी। 1981 में कुआलालंपुर में विश्व कप फाइनल में हान जियान को 15-0 से ध्वस्त कर दिए थे। ये लगातार नौ साल 1971 से 1979 तक वरिष्ठ राष्ट्रीय चैंपियन रहे | प्रसिद्ध हिन्दी फ़िल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण इन्हीं की बेटी है।

    Read More

    0 Votes
  21. महेश भूपति

    महेश भूपति (जन्म: 7 जून, 1974) एक भारत के पेशेवर टेनिस खिलाड़ी हैं। लिएंडर पेस के साथ मिलकर उन्होंने तीन डबल्स खिताब जीते हैं जिनमें 1999 का विबंलडन का खिताब भी शामिल है। साल 1999 भूपति के लिए स्वर्णिम वर्ष साबित हुआ क्योंकि इसमें उन्होंने अमेरिकी ओपन मिश्रित खिताब जीता और फिर लिएंडर पेस के साथ रोलां गैरां और विंबलडन समेत तीन युगल ट्राफी अपने नाम की। वह और पेस सभी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंटों के फाइनल में पहुंचने वाली पहली युगल जोड़ी बने थे। साल 1999 में ही दोनों को युगल की विश्व रैंकिंग में पहली भारतीय टीम बनने का गौरव हासिल हुआ। ओपन युग में 1952 के बाद यह पहली उपलब्धि थी। हालांकि बीच के सालों में महेश भूपति और लिएंडर पेस के बीच कुछ मतभेद हो गए जिसकी वजह से दोनों ने एक-दूसरे के साथ खेलना बंद कर दिया पर 2008 बीजिंग ओलंपिक्स के बाद से उन्होंने पुनः साथ-साथ खेलना शुरू कर दिया।

    Read More

    0 Votes
  22. विजेंद्र सिंह

    विजेन्द्र सिंह बैनीवाल एक भारतीय पेशेवर मुक्केबाज़ है।

    Read More

    0 Votes
  23. पुल्लेला गोपीचंद

    पुल्लेला गोपीचंद (तेलुगु: పుల్లెల గోపీచంద్) (इनका जन्म 16 नवम्बर 1973 को आंध्र प्रदेश के प्रकाशम जिले के नगन्दला में हुआ) एक भारतीय बैडमिन्टन खिलाडी हैं।
    उन्होंने 2001 में चीन के चेन होंग को फाइनल में 15-12,15-6 से हराते हुए ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप में जीत हासिल की। इस तरह से प्रकाश पादुकोण के बाद इस जीत को हासिल करने वाले दूसरे भारतीय बन गए, जिन्होंने 1980 में जीत हासिल की थी। उन्हें वर्ष 2001 के लिए राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
    लेकिन बाद में, उनकी चोटों के कारण उनके खेल पर प्रभाव पड़ा और वर्ष 2003 में उनकी रैंकिंग गिर कर 126 पर आ गयी। 2005 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया।अब, वे गोपीचंद बैडमिन्टन अकादमी चलाते हैं। अब वे एक जाने माने कोच हैं जिन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। और सायना नेहवाल को एक बैडमिन्टन खिलाडी के रूप में उभारने में मुख्य हाथ उनका ही है। पुलेला गोपीचंद भारत के एक शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी व कोच हैं। 2014 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

    Read More

    0 Votes
  24. कपिलदेव

    कपिलदेव रामलाल निखंज (जन्म 6 जन्वरी 1959) भारत के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी हैं। भारत के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खिलाड़ियों में उनकी गणना होती है। वे भारतीय क्रिकेट के कप्तान के पद पर रह चुके हैं। 1983 के क्रिकेट विश्वकप में वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान थे और उनके नेतृत्व में टीम ने विश्वकप जीतने का गौरव प्राप्त किया। वे विस्डेन द्वारा वर्ष 2002 में 'सदी के भारतीय क्रिकेटर' चुने गये। वे 10 माह के लिये भारतीय क्रिकेट टीम के प्रशिक्षक भी रहे थे।
    कपिलदेव का जन्म चंडीगढ़ में हुआ। उनका विवाह रोमी भाटिया से सन 1980 में हुआ। उनकी बेटी, अमिया देव का जन्म 16 जनवरी, 1996 को हुआ।

    Read More

    0 Votes
  25. सुनील छेत्री

    सुनील छेत्री (जन्म 3 अगस्त 1984) एक भारतीय पेशेवर फुटबॉलर है, जो एक स्ट्राइकर या विंगर के रूप में खेलता है और इंडियन सुपर लीग कि क्लब बेंगलुरु एफसी और भारतीय राष्ट्रीय टीम दोनों में कप्तान है। लोकप्रिय रूप से कैप्टन फैंटास्टिक के रूप में जाना जाता है, जिसने क्रिस्टियानो रोनाल्डो के बाद सक्रिय खिलाड़ियों के बीच अंतर्राष्ट्रीय मैचों में सर्वाधिक गोल करने के मामले में दुसरा पद हासिल किया है। वह दोनों सबसे कैप्ड खिलाड़ी हैं और देश के शीर्ष अंतरराष्ट्रीय संघ फुटबॉल गोल स्कोरर की सूची। सर्वकालिक शीर्ष गोल करने वाले भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए, 72 राष्ट्रीय गोल के साथ 112 दिखावे में।सुनील छेत्री को एएफसी द्वारा उनके 34 वें जन्मदिन पर 'एशियाई आइकन' नामित किया गया था।छेत्री ने 2002 में मोहन बागान में अपने पेशेवर करियर की शुरुआत की। फिर वह जेसीटी में चले गए जहां उन्होंने 48 खेलों में 21 गोल किए। उन्होंने 2010 में मेजर लीग सॉकर के कैनसस सिटी विजार्ड्स के लिए हस्ताक्षर किए, विदेश जाने के लिए उपमहाद्वीप के तीसरे खिलाड़ी बने। हालाँकि, संयुक्त राज्य अमेरिका में वह कार्यकाल लंबे समय तक नहीं चला और जल्द ही वह भारत आई-लीग में वापस आ गया, जहाँ उसने चिराग यूनाइटेड और मोहन बागान के लिए खेला। विदेश जाने से पहले। इस बार उन्हें प्राइमिरा लिगा स्पोर्टिंग क्लब डी पुर्तगाल द्वारा हस्ताक्षरित किया गया, जहां उन्होंने क्लब के रिजर्व पक्ष के लिए खेला था।उन्होंने भारत को 2007 नेहरू कप, 2009 नेहरू कप, 2012 नेहरू कप और साथ ही 2011 सैफ चैम्पियनशिप जीतने में मदद की। वह 2008 एएफसी चैलेंज कप के दौरान भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक था, जिसमें भारत ने टूर्नामेंट जीता और इस तरह 27 वर्षों में अपने पहले एएफसी एशियाई कप के लिए क्वालीफाई किया। उन्होंने तब दो गोल के साथ 2011 एएफसी एशियाई कप में अपने अल्पकालिक अभियान के दौरान भारत का नेतृत्व किया। छेत्री का नाम अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ प्लेयर ऑफ़ द ईयर छः बार 2007, 2011, 2013, 2014, 2017 और 2018–19 में रखा गया है।

    Read More

    0 Votes
  26. विजय अमृतराज

    विजय अमृतराज (तमिल: விஜய் அமிர்தராஜ், जन्म: 14 दिसंबर, 1953) भारत के पूर्व टेनिस खिलाड़ी हैं।.
    14 दिसंबर 1953 को चेन्नै में मैगी और रॉबर्ट अमृतराज के घर जन्मे विजय और उनके छोटे भाई आनंद और अशोक विश्व टेनिस में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले पहले खिलाड़ी थे। विजय ने अपना पहला ग्रांप्री 1970 में खेला था। 1973 में वह विंबलडन और यू.एस. ओपन के क्वॉर्टर फाइनल तक पहुंचे, जहां उन्हें यान कोडेस और केन रोजवैल जैसे दिग्गज ही हरा सके। 1976 के विंबलडन में विजय और आनंद सेमीफाइनल तक पहुंचे थे। इसके बाद के वर्ष ब्योर्न बोर्ग, जिमी कॉनर्स और जान मैकेनरो जैसे युवा खिलाड़ियों के कारनामों से भरे पडे़ थे और ग्रैंड स्लैम इवेंट्स में इन्हीं का बोलबाला चला करता था।
    तो भी विजय अमृतराज ने अपनी जगह बनाए रखी और 1981 के विंबलडन में क्वॉर्टर फाइनल में उन्हें पांच सैटों तक चले मैच में जिमी कॉनर्स से मात खानी पड़ी। इस तरह के फाइव सैटर्स खेलना विजय की खासियत थी। वे नैसर्गिक रूप से ग्रासकोर्ट प्लेयर थे और सर्व ऐंड वॉली पर ज्यादा निर्भर रहते थे। विश्व के सबसे अच्छे खिलाड़ियों से उनका लगातार हारना केवल स्टैमिना की कमी के कारण होता था, जो कि ज्यादातर भारतीय टेनिस खिलाडि़यों की समस्या रही है।
    1979 के विंबलडन में जब ब्योन बोर्ग अपने खेल की बुलंदी पर थे। दूसरे राउंड में विजय का उनसे सामना हुआ। विजय ने बोर्ग को छकाते हुए पहला सेट 6-2 से जीता। बोर्ग ने दूसरा सेट 6-4 से जीता। सबको हैरत में डालते हुए विजय ने पिछले चैंपिअन को न सिर्फ तीसरे सेट में 6-4 से हराया चौथे में 4-1 से लीड ले ली। पराजय के सामने खडे़ बोर्ग ने केवल बेहतर स्टैमिना की बदौलत सैट और मैच बचा लिया। कोई हैरानी नहीं कि ऐसे मैच देखते हुए ही टेनिस की दुनिया विजय को करो या मरो शैली वाले खिलाड़ी के तौर पर जानती थी।
    विजय अब भी खेलते हैं और इस साल के विंबलडन सीनियर्स पुरुष डबल्स में जीन मेयर के साथ उन्हें पहली सीड दी गई थी। विंबलडन को टीवी पर देखने वाले जानते हैं कि विजय अमृतराज की कॉमेन्ट्री के बिना इधर के सालों की टीवी कवरेज की कल्पना भी नहीं की जा सकती। विजय ने जेम्स बॉन्ड की फिल्म ओक्टॉपसी में रोल किया है और स्टार ट्रैक में भी।
    जब वह दस साल के थे बहुत तो बीमार रहा करते थे। बस दस मीटर भर दौड़ने से थक कर चूर हो जाने वाले इस बच्चे का ख्वाब था डॉक्टर बनना और गरीबों की सेवा करना। तब विजय को लगता था कि वह बस यही काम कर सकते थे। आज पैंतालीस साल बाद वह भारत के गौरव हैं और दुनिया में शांति कायम करने के महती उद्देश्य हेतु उन्हें संयुक्त राष्ट्र संघ ने शांतिदूत बनाया है।

    Read More

    0 Votes
  27. सुनील गावस्कर

    सुनील गावस्कर भारत के क्रिकेट के पूर्व-खिलाड़ी हैं। सुनील गावस्कर वर्तमान युग में क्रिकेट के महान बल्लेबाजों में गिने जाते हैं। इन्होंने बल्लेबाजी से संबंधित कई कीर्तिमान स्थापित किए। इनका जन्म 10 जुलाई 1949 को मुम्बई (महाराष्ट्र) में हुआ था। उनकी पत्नी का नाम मार्शनील है। इनके पुत्र रोहन गावस्कर भी भारतीय क्रिकेट टीम में खेल चुके हैं।

    Read More

    0 Votes
  28. गौतम गंभीर

    गौतम गंभीर भारत के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं, जिन्होंने भारत के लिये क्रिकेट के सभी प्रारूप में खेला हैं। बायें हाथ के सलामी बल्लेबाज गौतम दिल्ली से घरेलू क्रिकेट खेलते हैं। इंडियन प्रीमियर लीग में वे दिल्ली डेयरडेविल्स, और कोलकाता नाईट राइडर्स के लिए खेलते हैं। उन्होंने 2003 में बांग्लादेश के खिलाफ अपना एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) पदार्पण किया और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अगले वर्ष अपना पहला टेस्ट खेला। उन्होंने 2010 के अंत से लेकर 2011 के अंत तक छह वनडे मैचों में भारतीय टीम की कप्तानी की, जिसमें भारत ने सभी छह मैच जीते। उन्होंने 2007 विश्व ट्वेंटी 20 (54 गेंदों में 75 रन) और 2011 क्रिकेट विश्व कप (122 गेंदों में 97 रन) दोनों के फाइनल में भारत की ऐतिहासिक जीत में एक अभिन्न भूमिका निभाई। गंभीर की कप्तानी में, कोलकाता नाइट राइडर्स ने 2012 में अपना पहला आईपीएल खिताब जीता और 2014 में फिर से खिताब जीता।
    गंभीर एकमात्र भारतीय हैं और चार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों में से एक हैं जिन्होंने लगातार पांच टेस्ट मैचों में शतक बनाए हैं। वह एकमात्र भारतीय बल्लेबाज हैं जिन्होंने लगातार चार टेस्ट सीरीज में 300 से अधिक रन बनाए हैं। अप्रैल 2018 तक, वे ट्वेंटी 20 अंतर्राष्ट्रीय में भारत के लिए छठा सबसे अधिक रन बनाने वाला खिलाड़ी थे।उन्हें वर्ष 2008 में भारत के राष्ट्रपति द्वारा अर्जुन पुरस्कार, भारत का दूसरा सर्वोच्च खेल पुरस्कार प्रदान किया गया था। 2009 में, वे ICC टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक रैंक वाले बल्लेबाज थे। उसी वर्ष, वे ICC टेस्ट प्लेयर ऑफ़ द ईयर पुरस्कार के प्राप्तकर्ता थे। 2019 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत के चौथा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, पद्मश्री से सम्मानित किया गया।अक्टूबर 2018 में, 2018-19 विजय हजारे ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल के दौरान, उन्होंने लिस्ट ए क्रिकेट में अपना 10,000वां रन बनाया। दिसंबर 2018 में, उन्होंने क्रिकेट के सभी रूपों से अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की।2019 में, वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए और पूर्वी दिल्ली से लोकसभा के लिए चुनाव लड़, सांसद चुने गये।

    Read More

    0 Votes
  29. सुरेश रैना

    सुरेश रैना (कश्मीरी : سریش رائنا‎ (; जन्म 27 नवम्बर 1986) भारत के प्रमुख क्रिकेट खिलाड़ी हैं। रैना के पिता त्रिलोकी चन्द एक सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी है। तथा माता प्रवेश रैना जो एक हाउसवाइफ है ।
    वह बाएं हाथ के मध्यक्रम के बल्लेबाज और एक बाएं हाथ के ऑफ स्पिन गेंदबाज है। वे घरेलू क्रिकेट के सभी रूपों में उत्तर प्रदेश के लिए खेलता है और इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स के उप कप्तान है। उन्होंने आईपीएल में सर्वाधिक रन बनाए हैं और सबसे ज्यादा कैच पकङे है। उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स के सभी मैच खेले है। रैना 18 वर्ष की आयु में श्रीलंका के खिलाफ 2005 में अपने एक दिवसीय कैरियर की शुरुआत की और 2010 में अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत श्रीलंका के खिलाफ ही की। रैना भारत की विश्व कप 2011 की विजेता टीम का हिस्सा था। लेकिन विशेषज्ञों ने उनकी तकनीक अक्सर विशेष रूप से तेजी और छोटी गेंदों के खिलाफ सवाल उठाया गया है। उनका औसत विदेशी धरती पर इसे समर्थन करता है।

    Read More

    0 Votes
  30. सौरव गांगुली

    सौरव चंडीदास गांगुली (/sʃuːrəv ɡɛnɡuːlj/ ; जन्म 08 जुलाई 1972), दादा नाम से ( बंगाली में "बड़े भाई") के रूप में जाने जाते हैं), जो पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी और भारतीय राष्ट्रीय टीम के कप्तान हैं। वर्तमान में, वो क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ बंगाल के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त है साथ ही विजडन इंडिया के साथ संपादकीय बोर्ड के अध्यक्ष भी है। अपने खेल करियर के दौरान, गांगुली ने खुद को दुनिया के अग्रणी बल्लेबाजों में से एक के रूप में दिखाया था और राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के सबसे महान कप्तानों में से एक बने थे। यह बाएं हाथ से मध्य क्रम में बल्लेबाजी किया करते थे और एक अच्छे ओपनर बल्लेबाज भी रहे है।
    सौरव गांगुली इंडियन प्रीमियर लीग की संचालन परिषद के चार सदस्यों में से एक हैं, जो टूर्नामेंट के सभी कार्यों के लिए जिम्मेदारी निभाते हैं। उन्हें जनवरी 2016 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त किया गया था। वह इंडियन प्रीमियर लीग की तकनीकी समिति के भी सदस्य हैं।
    गांगुली को क्रिकेट की दुनिया में आगे लाने में उनके बड़े भाई स्नेहाशीष ने काफी मदद की थी। उन्हें आधुनिक समय में भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक माना जाता है, और अब तक के सबसे महान वनडे बल्लेबाजों में से एक है। उन्होंने राज्य और स्कूल की टीमों में खेलकर अपने करियर की शुरुआत की थी। सचिन तेंदुलकर के बाद वह एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) में भारतीय टीम के दूसरे ऐसे खिलाड़ी बने थे जिन्होंने 10 हजार से ज्यादा रन बनाये थे। 2002 में, विजडन क्रिकेटर्स अलमैनैक ने उन्हें विव रिचर्ड्स, सचिन तेंदुलकर, ब्रायन लारा, डीन जोन्स और माइकल बेवन के बाद छठे सबसे बड़े वनडे बल्लेबाज का दर्जा दिया।
    विभिन्न भारतीय घरेलू टूर्नामेंटों, जैसे कि रणजी ट्रॉफी और दिलीप ट्रॉफी में खेलने के बाद, गांगुली को भारतीय क्रिकेट टीम के इंग्लैंड दौरे पर पहली बार मौका मिला था। उन्होंने 131 रन बनाए और भारतीय टीम में अपनी जगह पक्की की थी। गांगुली को टीम में जगह देने का आश्वासन श्रीलंका, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला में सफल प्रदर्शन के बाद दिया गया, जिन्होंने मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार जीता था। 1999 क्रिकेट विश्व कप में , वह राहुल द्रविड़ के साथ 318 रनों की साझेदारी में शामिल थे, जो विश्व कप टूर्नामेंट के इतिहास में दूसरी सर्वोच्च साझेदारी है। 2000 में टीम के अन्य खिलाड़ियों द्वारा मैच फिक्सिंग घोटालों के कारण, और उनके खराब स्वास्थ्य के लिए, भारतीय कप्तान सचिन तेंदुलकर ने अपना पद त्याग दिया और गांगुली को भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया था। वह जल्द ही काउंटी की ओर से डरहम के लिए खराब प्रदर्शन और 2002 की नेटवेस्ट सीरीज के फाइनल में अपनी शर्ट उतारने के बाद मीडिया की आलोचना का विषय बने थे। उन्होंने 2003 क्रिकेट विश्व कप में भारत का नेतृत्व किया था और फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से हार गए थे। व्यक्तिगत प्रदर्शन में कमी के कारण, उन्हें अगले वर्ष टीम से बाहर कर दिया गया था। गांगुली को 2004 में भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने 2006 में राष्ट्रीय टीम में वापसी की, और बल्लेबाजी में सफल प्रदर्शन किया। इस समय के दौरान, वह कई गलतफहमियों को लेकर भारतीय टीम के कोच ग्रेग चैपल के साथ विवादों में रहे थे। इसके बाद गांगुली को फिर से टीम से बाहर कर दिया गया, हालांकि उन्हें 2007 क्रिकेट विश्व कप में खेलने के लिए चुना गया था।
    गांगुली 2008 में इंडियन प्रीमियर लीग के टूर्नामेंट के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स टीम में कप्तान के रूप में शामिल हुए थे। उसी वर्ष, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक घरेलू टेस्ट श्रृंखला के बाद, उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। उन्होंने पश्चिम बंगाल टीम के लिए खेलना जारी रखा और उन्हें बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ क्रिकेट डेवलपमेंट कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। बाएं हाथ के गांगुली एक शानदार एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय बल्लेबाज रहे है, जिन्होंने 311 मैचों में 11,363 रन बनाये है। वह अब तक के सबसे सफल भारतीय टेस्ट कप्तानों में से एक हैं, जिन्होंने 49 टेस्ट मैचों में से 21 में जीत दिलाई। सौरव गंगली 11 जीत के साथ विदेशों में सबसे सफल भारतीय टेस्ट कप्तान हैं। भारतीय टीम आईसीसी रैंकिंग में उनके कप्तान बनने से पहले आठवें स्थान पर थी, और उनके कार्यकाल में टीम रैंक दूसरे स्थान पर पहुंची थी।

    Read More

    0 Votes
  31. रविन्द्र जडेजा

    रविन्द्रसिन्ह अनिरुद्धसिन्ह जडेजा (जन्म 6 दिसम्बर 1988 नवागम-खेड़, सौराष्ट्र में) एक भारतीय क्रिकेटर हैं। वे प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सौराष्ट्र का और भारतीय प्रीमियर लीग में गुजरात लॉयन्स का प्रतिनिधित्व करते हैं वे 2008 में मलेशिया में विश्व कप की विजयी भारतीय U-19 क्रिकेट टीम का भी हिस्सा थे। जडेजा एक बाएं हाथ से खेलनेवाले मध्य क्रम के बल्लेबाज हैं और धीमी गति से बाएं हाथ के प्राचीन शैली के गेंदबाज हैं।

    Read More

    0 Votes
  32. राज्यवर्धन सिंह राठौड़

    कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ (जन्म 29 जनवरी 1970, जैसलमेर, राजस्थान) एक भारतीय निशानेबाज हैं जिन्होंने 2004 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक, एथेंस में डबल ट्रैप स्पर्धा में रजत पदक विजेता हैं। वो प्रथम भारतीय (स्वतंत्रता के बाद) हैं जिन्होंने व्यक्तिगत रजत पदक जीता। उनसे पहले ब्रितानी मूल के भारत में जन्मे नॉर्मन प्रिचर्ड ने 1900 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में दो रजत पदक जीते। वो 16वीं लोकसभा में जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के सांसद चुने गये।

    Read More

    0 Votes
  33. अचंत शरत कमल

    अचंत शरत कमल (अंग्रेज़ी: Achanta Sharath Kamal) (तमिल: அச்சந்த சரத் கமல்) (जन्म 12 जुलाई 1982) एक भारतीय प्रोफेशनल टेबल टेनिस के खिलाड़ी है जो तमिलनाडु के रहने वाले है। 2016 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया।
    उन्होंने मेलबर्न में आयोजित हुए 2006 राष्ट्रमण्डल खेलों की पुरुष एकल व टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता। नई दिल्ली के 2010 राष्ट्रमण्डल खेलों में उन्होंने पुरुष युगल स्पर्धा में शुभाजीत साहा के साथ स्वर्ण तथा एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता। उन्होंने गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों की टीम स्पर्धा में एंथोनी अमलराज, हरमीत देसाई, साथियान गणानाशेखरन तथा सनिल शेट्टी के साथ स्वर्ण, पुरुष युगल स्पर्धा में साथियान गणाशेखरन के साथ रजत तथा पुरुष एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता।

    Read More

    0 Votes
  34. योगेश्वर दत्त

    योगेश्वर दत्त (जन्म: 2 नवंबर 1982) एक भारतीय कुश्ती खिलाड़ी हैं। इन्होंने 2012 ग्रीष्मकालीन ऑलंपिक्स में कुश्ती की 60 किग्रा फ़्रीस्टाइल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था। स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में योगेश्वर दत्त ने 65 किलोग्राम भार वर्ग में फ्रीस्टाइल कुश्ती में कनाडाई पहलवान को हराकर भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता। 2012 में भारत सरकार द्वारा इन्हें राजीव गाँधी खेल रत्न का सम्मान दिया गया।

    Read More

    0 Votes
  35. खाशाबा दादासाहेब जाधव

    खाशाबा दादासाहेब जाधव एक भारतीय एथलीट थे। उन्हें एक पहलवान के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने 1952 में हेलसिंकी में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। वह ओलंपिक में व्यक्तिगत पदक जीतने वाले स्वतंत्र भारत के पहले एथलीट थे

    Read More

    0 Votes
  36. नीरज चोपड़ा

    नीरज चोपड़ा (जन्म 24 दिसंबर, 1997) एक भारतीय ट्रैक और फील्ड एथलीट प्रतिस्पर्धा में भाला फेंकने वाले खिलाड़ी हैं। अंजू बॉबी जॉर्ज के बाद किसी विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक को जीतने वाले वह दूसरे भारतीय हैं। बायडगोसज्च्ज़, पोलैंड में आयोजित 2016 आइएएएफ U20 विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की। इस पदक के साथ साथ उन्होंने एक विश्व जूनियर रिकॉर्ड भी स्थापित किया है।
    2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी करते हुए 82.23 मीटर तक भाला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता था। ऐसे प्रदर्शन के बावजूद भी वे 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में स्थान पाने में वह विफल रहे क्योंकि अर्हता प्राप्त करने के लिए अंतिम तिथि 11 जुलाई थी।
    वह है से खंडरा गांव, पानीपत, हरियाणा , भारत में है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोच गैरी गैरी कैल्वर्ट हैं। नीरज ने 85.23 मीटर का भाला फेंककर 2017 एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में सम्पन्न हुए 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों में उन्होंने 86.47 मीटर भाला फेंककर स्पर्धा का स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

    Read More

    0 Votes
  37. रोहन बोपन्ना

    रोहन बोपन्ना (जन्म: 4 मार्च 1980) एक भारतीय पेशेवर टेनिस खिलाड़ी है।

    Read More

    0 Votes
  38. सुकांत इंदुकांत कदम

    सुकांत इंदुकांत कदम एक भारतीय पेशेवर पैरा-बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। 2014 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण करने के बाद, वह 12 जून 2017 को SL4 श्रेणी में विश्व नंबर 2 बने। उन्होंने युगांडा पैरा-बैडमिंटन इंटरनेशनल 2017 में अपना पहला खिताब जीता।

    Read More

    0 Votes
  39. पारूपल्ली कश्यप

    पी. कश्यप (जन्म: 8 सितम्बर 1986) एक भारतीय बैडमिंटन खिलाडी हैं। ग्लासगो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में पी. कश्यप ने बैडमिंटन मेंस सिंगल्स में गोल्ड मेडल जीता। कश्यप ने सिंगापुर के डी. वोंग को 21-14, 11-21, 21-19 से हराया। पी. कश्यप ने कॉमनवेल्थ गेम्स के बैडमिंटन मेंस सिंगल्स में 32 सालों बाद गोल्ड जीतने का सौभाग्य भी पाया। भारत सरकार द्वारा 2012 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

    Read More

    0 Votes
  40. श्रीकांत किदम्बी

    श्रीकांत किदम्बी (अंग्रेजी :Srikanth Kidambi) एक भारतीय पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ी है। इन्होंने 2014 में चाइना ओपन सुपर सीरीज़ प्रीमियर का खिताब भी जीता था। इन्होंने गोपीचन्द बैडमिंटन एकेडमी हैदराबाद से खेल का प्रशिक्षण लिया था।

    Read More

    0 Votes
  41. मोहम्मद अजहरुद्दीन

    मोहम्मद अजहरुद्दीन मसऊदी (8 फरवरी, 1963, हैदराबाद) भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रहे थे। इनका जन्म 8 फरवरी, 1963 को हैदराबाद में हुआ था। अजहरुद्दीन मसऊदी ने अपने अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट कॅरियर की शुरुआत 1984-85 में इंग्लैंड के विरुद्ध की थी। उन्होंने 99 टेस्ट मैचों में 45.03 की औसत से कुल 6215 रन बनाए हैं। इसमें 199 रन उनका सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर रहा है। अजहरुद्दीन मसऊदी ने टेस्ट मैचों में 22 शतक एवं 21 अर्धशतक लगाए हैं। अजहरुद्दीन मसऊदी ने अपने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय कॅरियर की शुरुआत 1985 में इंग्लैंड के विरुद्ध बेंगलुरु में की थी। उन्होंने 334 एकदिवसीय मैचों की 308 पारियों में 54 बार नाबाद रहते हुए 36.92 की औसत से कुल 9378 रन बनाए हैं। इसमें नाबाद 153 रन उनका सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर रहा है। अजहरुद्दीन मसऊदी ने एकदिवसीय मैचों में 7 शतक एवं 58 अर्धशतक लगाए हैं। उन्होंने 229 प्रथम श्रेणी मैचों में 51.98 की औसत से कुल 15,855 रन बनाए हैं।

    Read More

    0 Votes
  42. शिवा थापा

    शिवा थापा (अंग्रेज़ी: Shiva Thapa) (असमीया : শিৱ থাপা) (जन्म 08 दिसम्बर 1993) एक भारतीय मुक्केबाज है जिनका जन्म असम गुवाहाटी में हुआ था। ये तेल और प्राकृतिक गैस में कार्य भी करते हैं। शिवा थापा ने 2012 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में भी हिस्सा लिया था। ये भारत के सबसे जवान मुक्केबाज है जिन्होंने ओलम्पिक में क़्वालीफाई किया था।

    Read More

    0 Votes
  43. गगन नारंग

    गगन नारंग (तेलुगु: గగన్ ) भारत का एक राईफ़ल निशानेबाज (विशेषतया ऑलंपिक गोल्ड क्वेस्ट द्वारा समर्थित हवाई राईफ़ल शूटिंग) खिलाड़ी है। ये लंदन ऑलंपिक्स हेतु अर्हता लेने वाले प्रथम भारतीय थे। इन्होंने लंदन 2012 ओलंपिक में हुई पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में 701.1 अंकों के साथ कांस्य पदक हासिल किया।

    Read More

    0 Votes
  44. चेतेश्वर पुजारा

    चेतेश्वर अरविंद पुजारा (जन्म : 25 जनवरी 1988, राजकोट, गुजरात) एक भारतीय टेस्ट क्रिकेट खिलाड़ी हैं। पुजारा एक दाँये हाथ के बल्लेबाज हैं, जो घरेलू क्रिकेट में सौराष्ट्र और इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरू की ओर से खेलते हैं। टेस्ट क्रिकेट में पुजारा ने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 2010 की घरेलू शृंखला के दूसरे क्रिकेट टेस्ट मैच में पदार्पण किया। घायल वी वी एस लक्ष्मण के स्थानापन्न के तौर पर शामिल पुजारा पहली पारी में केवल तीन गेंदों का सामना कर एक चौके की सहायता से चार रन बनाकर आउट हो गये। पुजारा ऐसे पाँचवें भारतीय बल्लेबाज़ हैं जिसने अपनी पहले ही मैच में चौथी पारी में अर्द्धशतक बनाया। चेतेश्वर पुजारा का टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक स्कोर 206 है। ये अब तक अपने टेस्ट क्रिकेट कैरियर में कुल 2 दोहरे शतक लगा चुके हैंजो अपने आप में एक रिकॉर्ड है।

    Read More

    0 Votes
  45. करुण चंडोक

    करुण चंद्रोक (जन्म 19 जनवरी 1984) एक भारतीय रेसिंग ड्राइवर और टेलीविजन प्रस्तोता हैं, जिन्होंने आखिरी बार महिंद्रा रेसिंग के लिए फॉर्मूला ई में प्रतिस्पर्धा की थी। इससे पहले, चंद्रोक ने 2010 में फॉर्मूला वन में हिस्पानिया रेसिंग के लिए प्रतिस्पर्धा की थी। इससे पहले, उन्होंने दो साल जीपी 2 सीरीज में तीन साल तक दौड़ लगाई। 2013 में, चंदोक ने सीफर्थ मोटरस्पोर्ट के लिए एफआईए जी

    Read More

    0 Votes
  46. धनराज पिल्ले

    धनराज पिल्ले (तमिल: தன்ராஜ் பிள்ளை) (जन्म 16 जुलाई 1968) एक फील्ड हॉकी खिलाड़ी और भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान हैं। इस समय वे भारतीय हॉकी टीम के प्रबंधक हैं। साथ ही, वे कंवर पाल सिंह गिल के निलंबन के पश्चात निर्मित भारतीय हॉकी फेडरेशन की अनौपचारिक (एडहॉक) समिति के सदस्य भी हैं।

    Read More

    0 Votes
  47. सैयद मोदी

    सैयद मोदी, सैयद मेहदी हसन जैदी के रूप में पैदा हुए, एक भारतीय बैडमिंटन एकल खिलाड़ी थे। वह आठ बार नेशनल बैडमिंटन चैंपियन थे। अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन सर्किट में उनकी सबसे उल्लेखनीय उपलब्धि 1982 के राष्ट्रमंडल खेलों में पुरुष एकल खिताब के रूप में मिली।

    Read More

    0 Votes
  48. विजय कुमार (निशानेबाज )

    विजय कुमार शर्मा पद्म श्री, एवीएसएम, एसएम भारत के एक खेल निशानेबाज हैं। उन्होंने 2012 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में व्यक्तिगत 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल स्पर्धा में रजत पदक जीता। कुमार हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के बरसार गाँव के निवासी हैं और डोगरा रेजिमेंट इंडियन आर्मी में सेवानिवृत्त सूबेदार मेजर हैं

    Read More

    0 Votes
  49. विराट कोहली

    विराट कोहली (जन्म: 05 नवम्बर 1988) भारतीय क्रिकेट टीम के वर्तमान में तीनों प्रारूपों के कप्तान हैं। दाएं हाथ के बल्लेबाज कोहली को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक माने जाते है। वे सन 2008 में 19 वर्ष से कम आयु वाले विश्व कप क्रिकेट टीम के कप्तान भी रह चुके है। भारत के घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट में वह दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते है जबकि इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की कप्तानी करते है।
    कोहली ने मलेशिया में 2008 अंडर - 19 विश्व कप में भारत को अपनी कप्तानी में जीत दिलाई और कुछ महीने बाद, 19 साल की उम्र में श्रीलंका के खिलाफ भारत के लिए अपने वनडे क्रिकेट में पदार्पण किया। शुरुआत में यह रिजर्व बल्लेबाज के रूप में खेलते थे। लेकिन उन्होंने जल्द ही खुद को एकदिवसीय क्रिकेट में मध्य क्रम में नियमित रूप से खुद को तैयार किया और 2011 क्रिकेट विश्व कप में मिली जीत में हिस्सा थे। उन्होंने 2011 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और 2013 तक ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट शतक के साथ उन्होंने "ओडीआई स्पेशलिस्ट" का टैग पाया। 2013 में पहली बार आईसीसी की वनडे बल्लेबाजों की रैंकिंग में पहले नंबर पर पहुंचने के बाद, कोहली ने ट्वेन्टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी सफलता पाई और आईसीसी वर्ल्ड ट्वेन्टी 20 (2014 और 2016) में दो बार मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे।
    कोहली को 2012 में वनडे टीम के उप-कप्तान के रूप में नियुक्त किया गया और 2014 में महेंद्र सिंह धोनी की टेस्ट क्रिकेट में सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें टेस्ट में कप्तानी सौंप दी गई। 2017 के शुरुआत में धोनी के कप्तानी से हटने के बाद वह सीमित ओवरों के कप्तान बने। वर्तमान में एकदिवसीय क्रिकेट में कोहली दूसरे सबसे ज्यादा शतक बनाने वाले बल्लेबाज है। उनके नाम एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे तेज 10 हजार और 11 हजार रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड है, जो क्रमशः 205 और 222 पारियों में बनाए।कोहली 2017 और 2018 में सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी (आईसीसी प्लेयर ऑफ़ द ईयर) जैसे कई पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता रहे हैं; आईसीसी टेस्ट प्लेयर ऑफ द ईयर 2018; आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर 2012, 2017 और 2018 में और 2016, 2017 और 2018 में विज्डन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड रहे है। 2013 में उन्हें अर्जुन पुरस्कार, 2017 में पद्म श्री और राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया। 2018 में ईएसपीएन ने कोहली को दुनिया के सबसे प्रसिद्ध एथलीटों में से एक और फोर्ब्स ने सबसे मूल्यवान एथलीट ब्रांडों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है। 2018 में, टाइम पत्रिका ने कोहली को दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक चुना। कोहली युवाओं के लिए एक प्रेरणा ‌‌‌बन गये है!
    विराट कोहली वर्तमान में तीनों फार्मेट (टेस्ट, एकदिवसीय और टी20) के सर्वश्रेस्ट बल्लेबाज हैं।

    Read More

    0 Votes
  50. नॉर्मन प्रिचर्ड

    र्मन गिल्बर्ट प्रिचर्ड, जिन्हें उनके मंच नाम नॉर्मन ट्रेवर के नाम से भी जाना जाता है, एक ब्रिटिश-भारतीय खिलाड़ी और अभिनेता थे, जो ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले एशियाई-जन्म एथलीट बने, जब उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए 1900 के दशक के ओलंपिक में एथलेटिक्स में दो रजत पदक जीते।

    Read More

    0 Votes
अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |