हम एक फिल्म देखते हैं | फिल्म में हीरो होता है -शाहरुख, सलमान, आमिर, अमिताभ या रणवीर या कोई और | पूरी फिल्म में वो हीरोइन और गुंडों के पीछे भागता है, मार-धाड़-प्यार-जीत-हार | हर फिल्म कि लगभग वही कहानी और सबके सामान अभिनय | लेकिन इन सब बोरियत भरे लम्हों के बीच कुछ ऐसे छोटे बड़े किरदार होते हैं जो कि अपने पल भर के स्क्रीन टाइम से हमारा मन हर लेते हैं और इसके बाद हम चाहते हैं कि वो फिर से परदे पे आये | जाने कब आये? किस फिल्म में आये ? हमें क्या पता ? क्योंकि उस छोटे से रोल वाले अभिनेता का नाम तो हमें पता ही नहीं | लेकिन देखना है उसी को फिर से नए अंदाज़ में , जिससे कि हम अपने दोस्तों को बताएं कि फिल्म कैसी भी रही हो लेकिन वो कलाकार जीत गया |

कुछ लोग उन्हें उस किरदार का ही नाम दे देते हैं , तो कुछ कद काठी को ही पहचान बना देते हैं | तो आज हम ऐसे ही कुछ कलाकारों कि सूची लेकर आये हैं जिन्हें कि उनके नाम से नहीं बल्कि उनके काम से जाना जाता है | आइये देखते हैं इस लिस्ट में आपकी जानकारी का कोई कलाकार मिलता है या नहीं –

  1. विजय राज़

    सन 2004 में रन फिल्म से कौवा बिरयानी नाम से फेमस हुए विजय राज़ का हिंदी फिल्मो का सफर काफी लंबा रहा | कॉमिक रोल्स से शुरुआत करने के बाद हर प्रकार के छोटे बड़े रोल्स में अपनी छाप छोड़ देने वाले विजय लगभग पचास से अधिक फिल्मों में काम कर चुके हैं तथा आजकल जन जन में मशहूर हैं |

    Read More

    27 Votes
  2. पीयूष मिश्रा

    पीयूष मिश्रा (जन्म 13 जनवरी 1963) एक भारतीय नाटक अभिनेता, संगीत निर्देशक, गायक, गीतकार, पटकथा लेखक हैं। मिश्रा का पालन-पोषण ग्वालियर में हुआ और 1986 में उन्होंने दिल्ली स्थिति नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से स्नातक की शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने मकबूल, गुलाल, गैंग्स ऑफ वासेपुर जैसी फ़िल्मों में गाने गाये हैं | बॉलीवुड में ऐसे कलाकार कि उपस्थिति होना सौभाग्य कि बात है |

    Read More

    25 Votes
  3. दीपक डोबरियाल

    दीपक डोबरियाल - नई पीढ़ी के युवा सिनेमा अभिनेता, फिल्म 'दिल्ली -6' मे जलेबी वाला और ओमकारा मे राज्जू से चर्चित। अरविन्द गौड़ के निर्देशन मे 6 वर्ष तक नाटको मे काम करने के बाद गत सालो मे दीपक डोबरियाल ने अपने ताजगी भरे सनसनाते अभिनय से बॉलीवुड मे अलग पहचान बनाई है। 'मकबूल' से लेकर ओमकारा, 1971, शौर्य, दिल्ली-6 तक हर फिल्म में दीपक डोबरियाल ने खुद को साबित किया है। दीपक को ओमकारा के लिये फिल्म फेयर अवार्ड भी मिला है। इसके बाद तनु वेड्स मनु के पप्पी जी, दबंग के गेंदा और हिंदी मीडियम के शुद्ध गरीब इनके चर्चित रोल रहे |

    Read More

    25 Votes
  4. सौरभ शुक्ला

    थियेटर और टेलीविजन के बाद बैंडिट क्वीन से फिल्मों में काम कि शुरुआत करने वाले सौरभ शुक्ला को पहचान 'सत्या' फिल्म से मिली | इसके बाद तो इन्होने अर्जुन पंडित, नायक, बादशाह, स्लमडॉग मिलेनियर, बर्फी, जौली एल एल बी. , पी.के. , रेड आदि फिल्मों से दर्शकों में अपने अभिनय कि छाप छोड़ी है |

    Read More

    23 Votes
  5. ब्रिजेन्द्र काला

    मथुरा में जन्मे इस अभिनेता और स्क्रीन राईटर को जीवंत रोल बना देने के लिए जाना जाता है | छोटी-बड़ी  हर तरह कि फिल्मों में ये छोटे छोटे रोल करते हैं लेकिन इतने कम स्क्रीन टाइम में भी अपने अभिनय के भाग को दर्शकों को रटा देते हैं | 2003 में फिल्म हासिल से शुरुआत के बाद बंटी-बबली, जब वी मेट, अग्निपथ, पान सिंह तोमर, आँखों देखि , शुभ मंगल सावधान, अंग्रेजी में कहते हैं, फेमस आदि फिल्मों में काम कर चुके हैं तथा अब हर वर्ष लगभग पांच से छः फिल्मों में आपको दिख जायेंगे |

    Read More

    22 Votes
  6. यशपाल शर्मा

    यशपाल शर्मा एक भारतीय हिन्दी फिल्म अभिनेता हैं। इन्हें सुधीर मिश्रा की 2003 में बनी फिल्म "हजारों ख्वाइशें ऐसी" के अपने रणधीर सिंह के किरदार के लिए जाना जाता है। इसके अलावा इन्होंने लगान (2001), गंगाजल (2003), अब तक छप्पन (2004), अपहरण (2005), सिंह इज़ किंग (2008), आरक्षण (2011) और राउडी राठौड़ (2012) में भी अपने अच्छे अभिनय के लिए जाने जाते हैं।

    ये फिल्मों के अलावा टीवी के धारावाहिकों में भी काम किए हैं, जिसमें ज़ी टीवी का "मेरा नाम करेगी रोशन" में कुंवर सिंह की भूमिका के लिए जाने जाते हैं। इसके अलावा ये थिएटर में भी कई सारे नाटकों में काम कर चुके हैं। इन्हें हरियाणवी फिल्म "पगड़ी द ऑनर" के लिए 62वाँ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिल चुका है। इन्हें फिल्मों में अपनी कला दिखाने का पहला मौका गोविन्द निहलानी की फिल्म हज़ार चौरासी की माँ (1998) से मिला, जिसमें इनके साथ जया बच्चन और नन्दिता दास भी काम किए। इसके बाद वे कई फिल्मों में काम करने लगे, जिसमें शूल और अर्जुन पंडित आदि है। लेकिन इन्हें लगान (2001) के लिए नामांकित किया गया और उसके बाद से ही ये सबके सामने आ गए। इसके बाद इन्होंने गंगाजल और अब तक छप्पन जैसी फिल्मों में भी काम किया और श्याम बेनेजल व प्रकाश झा की अधिकांश फिल्मों में नजर आते रहते हैं।

    Read More

    18 Votes
  7. मनोज जोशी

    मनोज जोशी हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता हैं। इन्होने अपना करियर मराठी थिएटर से आरम्भ किया था,साथ ही साथ इन्होने अपना योग्यदान गुजराती एवं हिन्दी थिएटर् में भी दिया। सन 1998 से अब तक इन्होने 60 से अधिक फ़िल्मो में अभिनय किया है, जिनमें अधिकतर हास्य अभिनय है।

    इन्होने चाणक्य, एक महल हो सपनो का ,राउ (मराथी),सग दिल,कभी सौतन कभी सहेली जैसे टी वी नाटक में भी अभिनय किया है। सिनेमा जगत में इन्होने अपनी शुरुआत फ़िल्म सरफ़रोश से की। जिसमें इन्होंने SI बाजू की भूमिका निभायी। हंगामा, हलचल, धूम, भागम भाग, फिर हेरा फेरी, चुप चुप के, भूल भूलैया और बिल्लू बार्बर जैसी कई फ़िल्मों में इन्होने अपना अभिनय दिया है।

    Read More

    18 Votes
  8. मोहम्मद ज़ीशान अय्यूब

    नो वन किल्ड जेसिका और मेरे ब्रदर की दुल्हन से फ़िल्मी दुनिया में कदम रखने वाले तथा राँझना में 'कुंदन' के दोस्त 'मुरारी' से पहचान पाने वाले जीशान वर्तमान में बॉलीवुड के चमकते सितारे हैं | इन्होने रईस, ट्यूबलाइट, टाइगर जिंदा है , ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान, जीरो, मणिकर्णिका , और आर्टिकल 15 जैसी फिल्मों में काम किया है |

    Read More

    17 Votes
  9. सयाजी शिंदे

    सयाजी शिंदे भारतीय फिल्म अभिनेता है जिन्होंने तेलुगू, तमिल, मराठी, मलयालम, कन्नड़ और हिन्दी फ़िल्मों में कार्य किया है। वह अपने खलनायक के किरदार के लिये जाने जाते हैं। फ़िलहाल हर दूसरी-तीसरी साउथ इन्डियन फिल्म में आपको दिख जायेंगे |

    Read More

    16 Votes
  10. पवन मल्होत्रा

    दूरदर्शन के धारावाहिक नुक्कड़, और सर्कस से अभिनय कि शुरुआत करने वाले पवन को आपने भाग मिल्खा भाग, डॉन, रुस्तम, बदमाश कंपनी, ब्लैक फ़्राईडे, बैंग बैंग , केसरी आदि फिल्मों में देखा होगा |

    Read More

    15 Votes
  11. आदिल हुसैन

    आदिल हुसैन (असमिया: আদিল হুছেইন, जन्म 5 अक्टूबर 1963) भारतीय राज्य असम से नाटक, टेलीविजन और फ़िल्म अभिनेता हैं जो हिन्दी सिनेमा की मुख्यधारा के साथ-साथ स्थानीय सिनेमा में भी काम करते हैं। उन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय फ़िल्मों द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट और लाइफ ऑफ़ पाई (दोनों 2012 में जारी हुई) में काम किया। इसके अलावा वेब सीरीज देल्ही क्राइम और फ़िल्में 2.0 , कबीर सिंह, मुक्ति भवन, फ़ोर्स 2, कमांडो 2, जेड प्लस, एजेंट विनोद, इश्किया आदि तथा विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओँ की फिल्मों में काम किया है |

    Read More

    14 Votes
  12. राजेश शर्मा

    राजेश शर्मा एक भारतीय हिन्दी और बंगाली फ़िल्म अभिनेता है। इनका जन्म पंजाब ,लुधियाना में हुआ था। इन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा ,नई दिल्ली से शिक्षा ग्रहण की थी।

    राजेश ने बंगाली अभिनेत्री सुदीप्ता चक्रवर्ती से 2005 में शादी की और 2009 में उनसे तलाक लिया और 2011 में संगीता से शादी की है। माचिस फिल्म से सन 1996 में डेब्यू करने के बाद इन्होंने खोसला का घोसला ,स्पेशल 26 जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया है।

    Read More

    13 Votes
  13. कुमुद मिश्रा

    1995 में दूरदर्शन के धारावाहिक स्वाभिमान से अभिनय की शुरुआत करने वाले कुमुद को लोगों ने 2011 में रॉकस्टार फिल्म के खटाना भाई के रूप में जाना | बाद इसके इन्होने फिल्मिस्तान, राँझना, एयरलिफ्ट, रुस्तम, सुल्तान, अय्यारी, भारत, आर्टिकल 15 जैसी बड़ी और नामचीन फिल्मों में काम किया है |

    Read More

    13 Votes
  14. अभिमन्यु सिंह

    अभिमन्यु सिंह (अंग्रेजी: Abhimanyu Singh) का जन्म पटना, बिहार में हुआ। ये एक भारतीय फिल्म अभिनेता तथा निर्माता है। इन्होंने अपने फिल्मी जीवन की शुरुआत अक्स (2001) नामक फ़िल्म से की। इन्होंने कई फ़िल्मों में मुख्य किरदार भी निभाया है। अभिमन्यु सिंह ने भारत के कई ऐतिहासिक कथाओं पर कार्यक्रम बनाये हैं जैसे - झांसी की रानी लक्ष्मी बाई ,वीर शिवाजी ,चक्रवर्तीं अशोक सम्राट इत्यादि। 'रक्तचरित्र' का बुक्का रेड्डी तथा 'गुलाल' फिल्म का रणंजय सिंह वाले इनके  किरदार से हर कोई वाकिफ है | फ़िलहाल ये हिंदी सिनेमा कि बजाय तमिल तथा तेलुगु सिनेमा में ज्यादा सक्रिय रहते हैं |

    Read More

    12 Votes
  15. रजत कपूर

    रजत कपूर एक अभिनेता, पटकथा लेखक और डायरेक्टर हैं | रघु रोमियो, आँखों देखी, द गर्ल इन यलो बूट्स, भेजा फ्राई और कपूर एंड संस जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं | इसके अलावा लगभग पचास फिल्मों और नाटकों में अपना योगदान दे चुके हैं |

    Read More

    11 Votes
  16. पितोबाश त्रिपाठी

    उडीसा में जन्मे पितोबाश को शोर इन द सिटी के लिए बेस्ट कॉमेडियन का स्टार स्क्रीन अवार्ड मिला | इसके अलावा इन्होने आई ऍम कलाम, थ्री इडियट्स, वंस अपोन अ टाइम इन मुंबई दोबारा, टोटल धमाल ,गो गोवा गोन तथा हॉलीवुड फिल्म मिलियन डॉलर आर्म में भी काम कर चुके हैं |

    Read More

    10 Votes
  17. आदित्य श्रीवास्तव

    आदित्य श्रीवास्तव (जन्म 21 जुलाई 1968 , इलाहाबाद में) एक भारतीय फ़िल्मअभिनेता और टीवी प्रयोक्ता हैं। यह भारत के सबसे लंबे समय तक चलने वाले धारावाहिक सीआईडी में वरिष्ठ निरीक्षक अभिजीत के अभिनय के लिए जाने जाते हैं। इन्होंने हिन्दी फ़िल्मों सत्या (1998), गुलाल (2009), पाँच, ब्लैक फ्राईडे और दिल से में भी निर्णायक भूमिका निभाई है। इसके अलावा कालो फ़िल्म में भी बखूबी भूमिका निभाई है। आदित्य श्रीवास्तव अभी अभिजीत के नाम से काफी प्रसिद्ध हैं।

    Read More

    9 Votes
  18. अतुल कुलकर्णी

    दो बार के नेशनल अवार्ड विजेता रह चुके अतुल कुलकर्णी को आपने हे राम, चांदनी बार रंग दे बसंती , रईस, अटैक्स ऑफ 26/11, मणिकर्णिका और देल्ही 6 जैसी हिंदी फिल्मों में देखा होगा | साथ ही अतुल कन्नड़, तेलुगु, मराठी, मलयालम आदि भाषाओँ कि फिल्मों में काम करते हैं |

    Read More

    8 Votes
  19. विपिन शर्मा

    'गैंग्स ऑफ वासेपुर' में रामाधीर सिंह का थप्पड़ खाने और 'तारे जमीन पर' में दर्शील के पिता के रोल में तो सबने इन्हें बखूबी पहचाना होगा लेकिन इनकी पहचान यहीं तक सीमित नहीं है | विपिन पान सिंह तोमर, जन्नत, शाहिद, बुलेट राजा, किक, स्पेशल छब्बीस ,सिम्बा जैसी ढेरों फिल्मों के साथ साथ टेलीविजन शोज़ में भी काम कर चुके हैं |

    Read More

    7 Votes
  20. मनु ऋषि

    मनु ऋषि चड्ढा एक भारतीय फिल्म अभिनेता, गीतकार, पटकथा और संवाद लेखक है। इन्होंने दिल्ली में अरविन्द गौड़ के निर्देशन में 6 वर्ष तक नाटकों में काम किया। मनु ऋषि को ओए लक्की! लक्की ओए! फिल्म के लिये वर्ष 2009 का फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ संवाद लेखन पुरस्कार मिला है। इसके बाद इन्होने फंस गए रे ओबामा, बैंड बाजा बारात, आँखों देखि, तनु वेड्स मनु रिटर्न्स, क्या दिल्ली क्या लाहौर, सेटर्स और नानू की जानू फिल्म में काम किया है |

    Read More

    7 Votes
  21. नीरज काबी

    सेल्फ मेड एक्टर, एक्टिंग कोच, थियेटर डायरेक्टर नीरज काबी को शिप ऑफ थीसिस ने देशभर में पहचान दिलाई | इसके बाद डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी, तलवार, वायसराय हाउस , गली गुलियाँ जैसी फिल्मों के साथ साथ, सेक्रेड गेम्स, फाईनल कॉल, संविधान आदि वेब सीरीज में कम करते रहे हैं | महात्मा गाँधी तथा मोंक के रोल इन्होंने एक से अधिक बार किये हैं |

    Read More

    6 Votes
  22. मनीष चौधरी

    सोचा न था, रोकेट सिंह, बॉम्बे वेलवेट, जन्नत 2, राज़ 3, मिकी वायरस, मोहेंजोदारो, सत्यमेव जयते और ढेर सारे टीवी सीरियल्स में काम कर चुके मनीष का चेहरा सबको याद रह जाता है लेकिन नाम नहीं |

    Read More

    4 Votes
  23. गुलशन देवैया

    शैतान फिल्म में डेब्यू के लिए वाह-वाही लूट ले जाने वाले गुलशन देवैया दम मारो दम, हेट स्टोरी, रामलीला, हंटर, अ डेथ इन द गंज तथा मर्द को दर्द नहीं होता जैसी फिल्मों तथा एरोज नाउ की वेब सीरीज स्मोक में काम कर चुके हैं |

    Read More

    3 Votes
  24. रजित कपूर

    ओरिजिनल ब्योमकेश बख्शी , तथा मेकिंग ऑफ महात्मा नामक फिल्म में महात्मा गाँधी का किरदार निभाने वाले रजित को बॉलीवुड ने काम दिया लेकिन वो सही पहचान नहीं | हालाँकि रजित कपूर ने राज़ी, उरी, वेल डन अब्बा, वेलकम टू सज्जनपुर, गुज़ारिश, शैतान, किक आदि फिल्मों में काम किया है |

    Read More

    2 Votes
अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप कोई नयी प्रविष्टि इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |