Change Language to English

येल्लप्रगड सुब्बाराव

येल्लप्रगड सुब्बाराव एक भारतीय वैज्ञानिक थे जिन्होंने कैंसर के उपचार में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अपने कैरियर का अधिकतर भाग इन्होने अमेरिका में बिताया था लेकिन इसके बावजूद भी ये वहाँ एक विदेशी ही बने रहे और ग्रीन कार्ड नहीं लिया, हालांकि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका के कुछ सबसे महत्वपूर्ण चिकित्सा अनुसंधानों का इन्होने नेतृत्व किया था।

येल्लप्रगड सुब्बाराव का जन्म एक तेलुगु नियोगी ब्राह्मण परिवार में भीमावरम, मद्रास प्रेसिडेन्सी (अब पश्चिम गोदावरी जिलाआंध्र प्रदेश) में हुआ था। राजमुंदरी में अपनी स्कूली शिक्षा के दौरान इन्हें काफी कष्टदायक समय की से गुज़ारना पड़ा (घनिष्ठ सम्बन्धियों की रोगों से अकाल मृत्यु के कारण)। अंततः इन्होने अपनी मेट्रिक की परीक्षा तीसरे प्रयास में हिन्दू हाई स्कूल से पास की। ये काफी लम्बे समय से दस्त से पीड़ित थे और यह रोग काफी उपचारों के बाद नियन्त्रण में आया। उस समय के प्रसिद्ध आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ॰ अचंता लक्ष्मीपति ने इनका इलाज किया जिससे ये ठीक हो गए थे। इन्होने प्रेसिडेंसी कॉलेज से इंटरमिडीएट परीक्षा उत्तीर्ण की और मद्रास मेडिकल कॉलेज में प्रवेश किया, जहां पर इनकी शिक्षा का खर्च मित्रों और कस्तूरी सूर्यनारायण मूर्ति (जिनकी बेटी के साथ आगे चलकर इनकी शादी हुई) द्वारा उठाया गया। महात्मा गाँधी के ब्रिटिश वस्तुओं के बहिष्कार के आवाहन के सम्मान में इन्होने खादी की शल्य पोषाक पहनना शुरू कर दिया और इसके कारण इन्हें अपने शल्यचिकित्सा के प्रोफेसर एम्. सी. ब्रेडफिल्ड की नाराज़गी का सामना करना पड़ा। हालांकि इन्होने अपने लिखित परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त किये थे, परन्तु इस प्रकरण के कारण इन्हें एक पूर्ण एम्.बी.बी.एस. की डिग्री की बजाय एल.एम.एस. प्रमाणपत्र से संतोष करना पड़ा।[2]

येल्लप्रगड सुब्बाराव के बारे मे अधिक पढ़ें

येल्लप्रगड सुब्बाराव को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :

Leave a Comment