यशपाल शर्मा - Yashpal Sharma

यशपाल शर्मा एक भारतीय हिन्दी फिल्म अभिनेता हैं। इन्हें सुधीर मिश्रा की 2003 में बनी फिल्म “हजारों ख्वाइशें ऐसी” के अपने रणधीर सिंह के किरदार के लिए जाना जाता है। इसके अलावा इन्होंने लगान (2001), गंगाजल (2003), अब तक छप्पन (2004), अपहरण (2005), सिंह इज़ किंग (2008), आरक्षण (2011) और राउडी राठौड़ (2012) में भी अपने अच्छे अभिनय के लिए जाने जाते हैं।

ये फिल्मों के अलावा टीवी के धारावाहिकों में भी काम किए हैं, जिसमें ज़ी टीवी का “मेरा नाम करेगी रोशन” में कुंवर सिंह की भूमिका के लिए जाने जाते हैं। इसके अलावा ये थिएटर में भी कई सारे नाटकों में काम कर चुके हैं। इन्हें हरियाणवी फिल्म “पगड़ी द ऑनर” के लिए 62वाँ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिल चुका है। इन्हें फिल्मों में अपनी कला दिखाने का पहला मौका गोविन्द निहलानी की फिल्म हज़ार चौरासी की माँ (1998) से मिला, जिसमें इनके साथ जया बच्चन और नन्दिता दास भी काम किए। इसके बाद वे कई फिल्मों में काम करने लगे, जिसमें शूल और अर्जुन पंडित आदि है। लेकिन इन्हें लगान (2001) के लिए नामांकित किया गया और उसके बाद से ही ये सबके सामने आ गए। इसके बाद इन्होंने गंगाजल और अब तक छप्पन जैसी फिल्मों में भी काम किया और श्याम बेनेजल व प्रकाश झा की अधिकांश फिल्मों में नजर आते रहते हैं।

यशपाल शर्मा के बारे मे अधिक पढ़ें

यशपाल शर्मा को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :

24 बॉलीवुड अभिनेता जो नाम से नहीं अपने काम से जाने जाते हैं - 24 Actors who are known by their notable Work not by Names

हम एक फिल्म देखते हैं | फिल्म में हीरो होता है -शाहरुख, सलमान, आमिर, अमिताभ या रणवीर या कोई और | पूरी फिल्म में वो हीरोइन और गुंडों के पीछे भागता है, मार-धाड़-प्यार-जीत-हार | हर फिल्म कि लगभग वही कहानी और सबके सामान अभिनय | लेकिन इन सब बोरियत भरे लम्हों के बीच कुछ ऐसे ... अधिक पढ़ें


Leave a Comment