शिवनारायण चन्द्रपॉल

शिवनारायण चन्द्रपॉल (जन्म 16 अगस्त 1974) भारतीय भूमिहार वंश के गुयाना क्रिकेटर और वेस्टइंडीज के पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और कप्तान हैं। वह अपने दौर के महानतम बल्लेबाजों में से एक के रूप में माने जाते है। चन्द्रपॉल वेस्टइंडीज के लिए 100 टेस्ट खेलने वाले पहले इंडो-कैरिबियन खिलाड़ी हैं, और भारत के सचिन तेंदुलकर और श्रीलंका के [[सनथ जयसूर्या के बाद दो दशक से अधिक के अंतरराष्ट्रीय करियर के साथ तीसरे खिलाड़ी हैं।
चन्द्रपॉल ने 14 टेस्ट और 16 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) मैचों में वेस्टइंडीज की कप्तानी की। एक बाएं हाथ के बल्लेबाज होने के रूप में चंद्रपॉल अपने अपरंपरागत बल्लेबाजी रुख के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 20,000 रन बनाए हैं, और 2008 में उन्हें इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल द्वारा वर्ष के पांच क्रिकेटरों में से एक के रूप में नामित किया गया था, जिन्हें विज्डन क्रिकेटर्स अल्मनाक, और सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी (आईसीसी प्लेयर ऑफ़ द ईयर) से सम्मानित किया गया।
चन्द्रपॉल ने 19 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया, लेकिन तीन साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक नहीं बना पाए थे, जिससे कुछ हद तक आलोचना हुई थी। अपने करियर की शुरुआत में, वह काफी समय तक चोटों से त्रस्त रहे थे। चन्द्रपॉल अभी 11,867 रनों के साथ टेस्ट क्रिकेट में आठवें सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज है।खराब प्रदर्शन के कारण, 2015 में चन्द्रपॉल को वेस्टइंडीज टीम से बाहर कर दिया गया था। उसके बाद, उन्होंने 2016 में, 41 साल की उम्र में, विदाई के बिना, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की। उन्होंने अपने आखिरी टेस्ट पारी में खाता भी नहीं खोला था जो इंग्लैंड के खिलाफ ब्रिजटाउन में 1 मई 2015 को मुकाबला खेला गया था।

शिवनारायण चन्द्रपॉल के बारे मे अधिक पढ़ें

शिवनारायण चन्द्रपॉल को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :