मावल्यान्नॉंग, मेघालय - Mawlynnong, Meghalaya

मेघालय का मावल्यान्नॉंग गांव जिसे कि ‘भगवान का अपना बगीचा’ भी कहा जाता है। मावल्यान्नॉंग गांव भारत के साथ एशिया का भी सबसे स्वच्छ गांव है और यहां के सभी लोग पढ़े-लिखे हैं। ये गांव मेघालय के शिलॉंन्ग और भारत-बांग्लादेश बॉर्डर से 90 किलोमीटर दूर है। इस गांव की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस गाँव की सारी सफाई ग्रामवासी स्वयं करते हैं। इस पूरे गांव में जगह-जगह बांस के बने डस्टबिन भी लगे हैं। प्रतिष्ठित डिस्कवर इंडिया मैग्जीन ने 2003 में मेघालय के इस छोटे से गांव मावल्यान्नॉंग गांव को एशिया का सबसे स्वच्छ गांव होने का खिताब दिया है।

मावल्यान्नॉंग, मेघालय के बारे मे अधिक पढ़ें

मावल्यान्नॉंग, मेघालय को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :

10 सबसे विकसित भारतीय गांव - 10 Most Developed Villages in India

गांव देश के विकास में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसीलिए हमने 2017 के लिए भारत के शीर्ष 10 सबसे विकसित गांवों की सूची बनाई है। वैसे तो हमारे देश में ज्यादातर गाँव ऐसे हैं जहाँ पर्याप्त सुविधाएँ नहीं हैं लेकिन सौभाग्य से कुछ गांवों ऐसे भी हैं जिन्होंने कुछ नागरिकों की मदद और ... अधिक पढ़ें


Leave a Comment