“हॉकी के जादूगर”के नाम से जाने जाने वाले मेजर ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ। वे भारतीय फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाडी एवं कप्तान थे। जब वे हॉकी लेकर मैदान में उतरते थे तो गेंद इस तरह उनकी स्टिक से ऐसे चिपक जाती थी जैसे वे किसी जादू की स्टिक से हॉकी खेल रहे हों। ध्यानचंद ने तीन ओलिम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा तीनों बार देश को स्वर्ण पदक दिलाया। ध्यानचंद ने 1928 (एम्सटर्डम), 1932 (लॉस एंजिल्स) और 1936 (बर्लिन) में लगातार तीन ओलिंपिक में भारत को हॉकी में गोल्ड मेडल दिलाए। 1956 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। उनके जन्मदिन को भारत का राष्ट्रीय खेल दिवस घोषित किया गया है। इसी दिन खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं।

मेजर ध्यानचंद के बारे मे अधिक पढ़ें

मेजर ध्यानचंद को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :

50 सर्वश्रेष्ठ भारतीय पुरुष खिलाड़ी – 50 Best Indian Male Players

बचपन में मनोरंजन और जवानी में हिट और फिट रहने के लिए हम लोग खेल का सहारा लेते हैं | हर खेल का अपना अलग...