Change Language to English

अष्टांग नमस्कार

अष्टाङ्ग नमस्कार या अष्टाङ्ग दण्डवत् प्रणाम्, सूर्य नमस्कार का एक चरण है जिसमें शरीर, आठ अंगों के द्वारा भूमि को स्पर्श करती है। ये आठ अंग हैं- दोनों पाँव, दोनों घुटने, छाती, ठुण्डी और दोनों हथेलियाँ। इसको ‘दण्डवत प्रणाम’ इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस मुद्रा में शरीर ‘दण्डवत’ हो जाता है।

अष्टांग नमस्कार के बारे मे अधिक पढ़ें

अष्टांग नमस्कार को निम्न सूचियों मे शामिल किया गया है :

Leave a Comment